लाइव टीवी

सोनिया गांधी के पेट में इंफेक्शन, कल मिल सकती है अस्पताल से छुट्टी

भाषा
Updated: February 4, 2020, 12:09 AM IST
सोनिया गांधी के पेट में इंफेक्शन, कल मिल सकती है अस्पताल से छुट्टी
सोनिया गांधी का पेट में संक्रमण का इलाज चल रहा है. (File Photo)

सूत्रों ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Congress President Sonia Gandhi) को मंगलवार को अस्पताल से छुट्टी मिलने की संभावना है. कांग्रेस प्रमुख शनिवार को बजट पेश होने के दौरान संसद में उपस्थित नहीं थीं.

  • Share this:
नई दिल्ली. राष्ट्रीय राजधानी स्थित सर गांगाराम अस्पताल में रविवार को भर्ती कराई गईं कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Congress President Sonia Gandhi) का पेट में संक्रमण का इलाज चल रहा है. अस्पताल के अधिकारियों ने यह जानकारी दी. सोनिया को जब अस्पताल में भर्ती कराया गया तो उनके साथ उनके पुत्र राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और पुत्री प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) मौजूद थीं.

सर गंगाराम अस्पताल के अध्यक्ष (प्रबंधन बोर्ड) डॉ. डी एस राणा ने सोमवार को एक मेडिकल बुलेटिन में कहा, ‘‘उन्हें (सोनिया) रविवार शाम सात बजे अस्पताल में भर्ती कराया गया और उनकी चिकित्सा जांच की गई हैं. उनके पेट में संक्रमण है और इसी का इलाज चल रहा है.’’

सूत्रों ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष को मंगलवार को अस्पताल से छुट्टी मिलने की संभावना है. कांग्रेस प्रमुख शनिवार को बजट पेश होने के दौरान संसद में उपस्थित नहीं थीं.

सोनिया गांधी की तबियत खराब ऐसे समय हुई है जब दिल्ली में विधानसभा चुनाव सिर पर हैं और कांग्रेस के किसी बड़े नेता ने किसी रैली को संबोधित नहीं किया है. पिछले हफ्ते कांग्रेस सूत्रों ने जानकारी दी थी कि सोनिया गांधी पांच फरवरी को शास्त्री पार्क इलाके में एक सभा को संबोधित करेंगी. हालांकि कांग्रेस अध्यक्ष की तबियत खराब होने के चलते अब रैली को लेकर स्थिति साफ नहीं है. वहीं राहुल और प्रियंका को भी तीन एवं चार फरवरी को सभा एवं रोडशो करना था.

कांग्रेस को सता रहा हार का डर
पांच वर्ष पहले दिल्ली विधानसभा चुनाव में एक भी सीट पर जीत हासिल न कर पाने वाली कांग्रेस के सामने एक बार फिर खराब प्रदर्शन का खतरा मंडरा रहा है. प्रदेश कांग्रेस के नेता आपसी बातचीत में मान रहे हैं कि विधानसभा की 70 सीटों में इस बार कुछ एक को छोड़ लगभग सभी जगह आम आदमी पार्टी और भारतीय जनता पार्टी के मुकाबले वह संघर्ष में ही नहीं है.

विधानसभा चुनावों की रणनीति व प्रबंधन से जुड़े प्रदेश कांग्रेस के एक नेता का कहना था कि एक समय दिल्ली में सबसे मजबूत राजनीतिक दल के तौर पर स्थापित और लगातार 15 वर्षों तक शासन कर चुकी कांग्रेस मुश्किल से पांच या छह विधानसभा क्षेत्रों में ही ठीक से चुनाव लड़ रही है.घोषणा पत्र में पार्टी ने किए हैं ये ऐलान
कांग्रेस ने दिल्ली चुनावों के लिए रविवार को घोषणापत्र जारी किया था जिसमें पार्टी ने सत्ता में आने पर स्नातकों को हर महीने 5,000 रुपये तथा परा-स्नातकों को 7,500 रुपये बेरोजगारी भत्ता देने और पानी तथा बिजली उपभोक्ताओं के लिए ‘कैशबैक’ योजनाओं का वादा किया. घोषणापत्र जारी करते हुए दिल्ली कांग्रेस प्रमुख सुभाष चोपड़ा ने कहा कि पार्टी प्रति माह 300 यूनिट तक मुफ्त बिजली प्रदान करेगी.

घोषणापत्र में प्रदूषण से निपटने और परिवहन सुविधाओं में सुधार पर हर वर्ष 25 फीसदी बजट खर्च किए जाने की प्रतिबद्धता जताई गई है. उन्होंने बताया कि युवा स्वाभिमान योजना के तहत स्नातकों को हर महीने 5,000 रुपये तथा परा स्नातकों को 7,500 रुपये बेरोजगारी भत्ता दिया जायेगा.

चोपड़ा ने बताया कि संसाधनों को बचाने वाले उपभोक्ताओं को लाभान्वित करने के लिए कांग्रेस बिजली और पानी की आपूर्ति के लिए प्रमुख ‘कैशबैक’ योजनाएं शुरू करेगी. उन्होंने कहा कि यदि उनकी पार्टी सत्ता में आई तो 15 रुपये की रियायती दर पर भोजन उपलब्ध कराने के लिए 100 इंदिरा कैंटीन खोली जाएंगी.

ये भी पढ़ें-
CAA पर हुए प्रदर्शनों के बाद पहली बार असम जाएंगे PM मोदी, 7 फरवरी को रैली

'सुपर ओवर' में पहुंचा दिल्ली का दंगल, अमित शाह की टीम ने बनाई है ये रणनीति

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 3, 2020, 10:34 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर