कांग्रेस-JDS गठबंधन में कलह, देवगौड़ा बोले- कभी भी हो सकते हैं मध्यावधि चुनाव

देवगौड़ा ने कहा कि कांग्रेस भले ही कर्नाटक में जेडीएस के साथ गठबंधन कर रही है, लेकिन उसका बर्ताव सरकार के प्रति ठीक नहीं है.

News18Hindi
Updated: June 21, 2019, 12:51 PM IST
कांग्रेस-JDS गठबंधन में कलह, देवगौड़ा बोले- कभी भी हो सकते हैं मध्यावधि चुनाव
कांग्रेस-JDS गठबंधन में कलह, देवगौड़ा बोले कभी भी हो सकते हैं मध्यावधि चुनाव
News18Hindi
Updated: June 21, 2019, 12:51 PM IST
कर्नाटक में सियासी उठा-पटक के बीच अब पूर्व प्रधानमंत्री और जनता दल सेक्युलर (JDS) चीफ एचडी देवगौड़ा ने संकेत दिए हैं कि कर्नाटक में कभी भी मध्यावधि चुनाव हो सकते हैं. उन्होंने कहा कि कांग्रेस भले ही कर्नाटक में जेडीएस के साथ गठबंधन कर रही है, लेकिन उसका बर्ताव सरकार के प्रति ठीक नहीं है. उन्होंने ये भी कहा कि जनता सब देख रही है. मैं ये नहीं कह सकता कि सरकार कब तक टिक पाएगी.

देवगौड़ा ने कहा कि मैंने कभी नहीं कहा था कि कांग्रेस के साथ गठबंधन हो. मैं हमेशा से यही कहता रहा हूं कि कांग्रेस के नेता हमारे पास आए और कहा कि आपका बेटा मुख्यमंत्री बनेगा, चाहे कुछ भी हो जाए. उस वक्त मैं ये नहीं जानता था कि उनके सभी नेताओं के बीच सहमति थी या नहीं. लोकसभा चुनाव के बाद लगता है कि कांग्रेस ने अपनी ताकत खो दी है और उसके नेता लगातार कर्नाटक सरकार के काम में बाधा पैदा कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें :- कांग्रेस-JDS गठबंधन की कलह फिर उजागर, सीएम बोले- हर रोज दर्द होता है

उन्होंने ये भी कहा कि हमारी तरफ से गठबंधन को किसी भी तरह का खतरा नहीं है. उन्होंने कहा कि मुझे अभी तक ये समझ नहीं आ रहा है कि यह सरकार कब तक टिकेगी. उन्होंने कहा कि कर्नाटक में सरकार चलाना कुमारस्वामी के हाथ में नहीं है. हमने कैबिनेट में अपनी एक जगह भी उन्हें दे दी. कांग्रेस ने हमसे जो कुछ भी कहा है हमने पूरा किया है. पूर्व पीएम ने एक बार फिर कहा कि इसमें कोई शक नहीं कि मध्यावधि चुनाव होंगे. कांग्रेस भले ही ये कहे कि हम पांच साल समर्थन देंगे लेकिन उनके बर्ताव को देखकर ऐसा लगता नहीं है.

इसे भी पढ़ें :- लोकसभा चुनावों में बीजेपी की जीत से टूट जाएगी कर्नाटक में जेडीएस-कांग्रेस की सरकार!

देवगौड़ा ने कर्नाटक के गठबंधन को लेकर अहम खुलासा भी किया है. देवगौड़ा ने कहा कि वह हमेशा से कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे को मुख्यमंत्री देखना चाहते थे. देवगौड़ा ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी ने कीर्ति आजाद और अशोक गहलोत को हमारे पास भेजा. गठबंधन पर बात शुरू हुई तो मैंने उन्हें मल्लिकार्जुन खड़गे पर अपनी सहमति जताई. उन्होंने बताया कि उन्होंने आजाद का फोन लेकर राहुल गांधी को फोन भी किया, लेकिन कांग्रेस आलाकमान मल्लिकार्जुन के नाम पर सहमत नहीं दिखे और उन्होंने कुमारस्वामी को ही मुख्यमंत्री बनाने की बात कही.

इसे भी पढ़ें :- कर्नाटक कांग्रेस में बगावत: सीनियर नेता ने कहा- तालमेल में कमी के कारण हारे लोकसभा चुनाव
गौरतलब है कि पिछले साल कर्नाटक में चुनाव हुए थे. 224 विधानसभा सीटों वाले कर्नाटक चुनाव में किसी भी पार्टी को पूर्ण बहुमत नहीं मिला था. चुनाव में भले ही बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी लेकिन सत्ता की चाबी उसे नहीं मिल सकी थी. चुनाव में बीजेपी को 104 सीट मिली थी. वहीं कांग्रेस को 80 और जेडीएस को 37 सीटें हासिल हुई थीं.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...