होम /न्यूज /राष्ट्र /लंपी वायरस के लिए कांग्रेस नेता नाना पटोले ने चीतों को ठहराया जिम्मेदार, बीजेपी ने किया पलटवार

लंपी वायरस के लिए कांग्रेस नेता नाना पटोले ने चीतों को ठहराया जिम्मेदार, बीजेपी ने किया पलटवार

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले ने देश में फैल रहे लंपी वायरस के लिए नामीबिया से लाए चीतों को जिम्मेदार ठहराया है. (फाइल फोटो)

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले ने देश में फैल रहे लंपी वायरस के लिए नामीबिया से लाए चीतों को जिम्मेदार ठहराया है. (फाइल फोटो)

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा कि केंद्र सरकार ने जानबूझकर किसानों के नुकसान के लिए ऐसा किया है. नाना पटोले ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा कि नामीबिया से लाए गए चीतों के कारण लंपी वायरस फैल रहा है.
कांग्रेस नेता नाना पटोले ने कहा कि मोदी सरकार किसानों से बदला ले रही है.
भाजपा नेता ने पटोले के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि कांग्रेस नेता का बयान हास्यास्पद है.

मुंबई. देश के अधिकांश राज्यों में लंपी वायरस का कहर जारी है. इस वायरस के चपेट में लाखों की संख्या में बेजुबान जानवर आ चुके हैं. वहीं इस बीच महाराष्ट्र कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले ने लंपी वायरस के लिए केंद्र सरकार द्वारा लाए गए चीतों को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया है. कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा कि यह लंपी वायरस नाइजीरिया में लंबे समय से प्रचलित है और चीतों को भी वहीं से लाया गया है. उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार ने जानबूझकर किसानों के नुकसान के लिए ऐसा किया है.

हालांकि यहां गौर करने वाली बात यह है कि पीएम मोदी के जन्मदिन के मौके पर लाए गए चीते नामीबिया से थे, ना कि नाइजीरिया से. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, नाना पटोले ने फोन पर बात करते हुए कहा कि ‘प्रधानमंत्री ने काले कानूनों (कृषि कानूनों) के दौरान किसानों से कभी बात नहीं की और नामीबिया से चीतों को लाकर वे बदला ले रहे हैं. चीतों के आने के बाद भारत में लंपी वायरस आया.’

इसके साथ ही उन्होंने कहा, ‘मैंने अपने 55 वर्षों में ऐसी बीमारी नहीं देखी है और अपने पूर्वजों को नहीं देखा है. इसे जानबूझकर लाया गया है ताकि इन किसानों को नुकसान हो, कोई भारत में लाए गए चीतों पर स्पॉट कर सकता है और गायों पर गांठ का स्थान समान है. यह बीमारी नामीबिया में पहले से मौजूद थी और अब यह भारत में फैल रही है.’

वहीं भाजपा नेता और कैबिनेट मंत्री ने नाना पटोले पर पलटवार किया है. एएनआई से बात करते हुए कहा कि डॉक्टर पटोले का यह बयान हास्यास्पद है, उन्होंने अपने बयान से इस बीमारी को गैर-गंभीर मुद्दा बना दिया है. उन्होंने कहा, ‘पीएम मोदी के नेतृत्व में, गायों के टीकाकरण की व्यवस्था की गई है”.

लम्पी स्किन डिजीज ने भारत में डेयरी किसानों को बुरी तरह प्रभावित किया है. यह वायरस सिर्फ गाय और भैंस में ही पाया गया है. मांस खाने या ऐसे जानवरों के दूध का उपयोग करने से मनुष्यों को कोई खतरा नहीं है, जिनमें गांठ के लक्षण नहीं होते हैं. जानवरों को गांठ से ठीक किया जा सकता है, हालांकि, ऐसे जानवरों का दूध वायरस के कारण प्रभावित हो सकता है.

Tags: Congress, Maharashtra

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें