ट्वीट डिलीट होने पर पवन खेड़ा नाराज, रविशंकर प्रसाद और ट्विटर को भेजा नोटिस

पचन खेड़ा ने ट्विटर पर दी जानकारी. (File pic)

पचन खेड़ा ने ट्विटर पर दी जानकारी. (File pic)

पवन खेड़ा (Pawan Kheda) ने तबलीगी जमात पर दोहरे मापदंड पर किए उनके ट्वीट हटाने को चुनौती देते हुए रविशंकर प्रसाद और ट्विटर को कानूनी नोटिस जारी किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 25, 2021, 7:05 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. सोशल मीडिया (Social Media) पर कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) को लेकर भ्रामक और आपत्तिजनक ट्वीट या पोस्‍ट करने वाले अकाउंट के खिलाफ सरकार ने कार्रवाई करने की बात कही है. इसके बाद ट्विटर (Twitter) ने ऐसे ट्वीट हटा दिए हैं. इस बीच कांग्रेस के राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता पवन खेड़ा (Pawan Khera) ने बीजेपी नेता व केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) और ट्विटर को घेरा है. उन्‍होंने उनके ट्वीट डिलीट होने के बाद ट्विटर पर जानकारी दी है कि उन्‍होंने कुंभ मेला और तबलीगी जमात पर दोहरे मापदंड पर किए उनके ट्वीट हटाने को चुनौती देते हुए रविशंकर प्रसाद और ट्विटर को कानूनी नोटिस जारी किया है.

ट्विटर पर पवन खेड़ा की ओर से उनके वकील करन शर्मा द्वारा तैयार किए गए नोटिस पेपर की कॉपी भी अपलोड की गई है. इसमें कहा गया है कि मेरे क्‍लाइंट (पवन खेड़ा) के ट्विटर अकाउंट में बदलाव करना और कुछ नहीं है बल्कि यह नियामक शक्तियों का दुरुपयोग व संविधान के आर्टिकल 19 (1) में उल्लिखित अभिव्‍यक्ति की आजादी का उल्‍लंघन है.



नोटिस में यह भी कहा गया है कि मेरे क्‍लाइंट (पवन खेड़ा) ने 12 अप्रैल 2021 को किए ट्वीट में हरिद्वार में कुंभ मेला में भारी भीड़ जुटने के लिए केंद्र सरकार पर सवाल उठाए थे. इसके बाद उन्‍होंने चुनावी रैलियों में भारी भीड़ उमड़ने पर भी लोगों की खामोशी पर सवाल उठाए थे.


इसमें यह भी जानकारी दी गई है कि उनके इस ट्वीट का स्‍क्रीनशॉट उपलब्‍ध नहीं है क्‍योंकि ट्विटर ने उसे सरकार के कहने पर वहां से हटा दिया है. वकील का कहना है कि उनके क्‍लाइंट पवन खेड़ा ने किसी भी तरह से आईटी एक्‍ट 2000 का उल्‍लंघन नहीं किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज