जितिन प्रसाद के बाद प्रिया दत्त ने भी किया सचिन पायलट का समर्थन, कहा- पार्टी ने दो युवा चेहरे खो दिए

जितिन प्रसाद के बाद प्रिया दत्त ने भी किया सचिन पायलट का समर्थन, कहा- पार्टी ने दो युवा चेहरे खो दिए
जितिन प्रसाद के बाद प्रिया दत्त ने भी सचिन पायलट का समर्थन किया है

कांग्रेस नेता जितिन प्रसाद (Congress Leader Jitin Prasad) ने ट्वीट किया, "सचिन पायलट (Sachin Pilot) मेरे मित्र हैं. इस तथ्य को कोई नकार नहीं सकता कि इतने वर्षों में उन्होंने पार्टी के लिए समर्पण भाव से काम किया है."

  • Share this:
नई दिल्ली. कांग्रेस नेता जितिन प्रसाद (Congress Leader Jitin Prasad) ने सचिन पायलट (Sachin Pilot) को राजस्थान (Rajasthan) के उपमुख्यमंत्री एवं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से हटाए जाने के बाद मंगलवार को कहा कि इस तथ्य को नकारा नहीं जा सकता कि पायलट ने इतने वर्षों तक पार्टी के लिए समर्पण भाव से काम किया है. इसके साथ ही उन्होंने उम्मीद जताई कि चीजें अब भी सुलझ जाएंगी. प्रसाद ने ट्वीट किया, ‘‘सचिन पायलट मेरे मित्र हैं. इस तथ्य को कोई नकार नहीं सकता कि इतने वर्षों में उन्होंने पार्टी के लिए समर्पण भाव से काम किया है. उम्मीद करता हूं कि हालात संभाले जा सकते हैं. दुखद है कि बात यहां तक पहुंची.’’

वहीं कांग्रेस नेता और फिल्म अभिनेता संजय दत्त (Sanjay Dutt) की बहन प्रिया दत्त (Priya Dutt) ने ट्वीट किया कि- एक और दोस्त ने पार्टी छोड़ दी, सचिन और ज्योतिरादित्य दोनों सहकर्मी थे और अच्छे दोस्त भी. दुर्भाग्य से हमारी पार्टी ने संभावनाओं से भरे दो बड़े युवा नेताओं को खो दिया. मैं नहीं मानती कि महत्वकांक्षी होना गलत बात है. उन्होंने मुश्किल समय में बहुत मेहनत से काम किया था.
जहां एक ओर कांग्रेस के युवा नेता सचिन पायलट के पार्टी के प्रति समर्पण को सम्मान के साथ देख रहे हैं और उन्हें इस तरह से नजरअंदाज किये जाने पर अप्रत्यक्ष तौर पर उनके साथ खड़े नजर आ रहे हैं तो वहीं पार्टी के वरिष्ठ नेता पायलट के इस बर्ताव को ठीक नहीं मान रहे हैं. कांग्रेस के सलमान खुर्शीद और तरुण गोगोई जैसे वरिष्ठ नेता इस घटना पर दुख जाहिर कर रहे हैं.
खुर्शीद ने लिखा है कि राजस्थान में हुई घटनाओं को देखकर दुखी हूं. खासकर इसलिए कि मेरे सबसे प्रिय दिवंगत दोस्त राजेश पायलट का बेटा भंवर में है. हमारे सामने चुनौतियां हैं जो व्यक्तिगत महत्वाकांक्षाओं और उम्मीदों को महत्वहीन बनाती हैं. आइए हम अपनी दृष्टि और ऊर्जा को पुन: समर्पित करें.वहीं असम के मुख्यमंत्री रह चुके तरुण गोगोई ने लिखा है कि मैं सचिन पायलट को धैर्य रखने की सलाह देता हूं, भावुक होने की नहीं. उज्जवल भविष्य होने से आपकी बारी आएगी. मेरे पास भी ऐसी ही बाधाएं थीं लेकिन आखिरकार धैर्य ने मदद की. बेहतर है कि सत्ता के पीछे न चलें जो कि अपने आप ही आ जाएगी. अशोक गहलोत भी श्री पायलट को उचित मान्यता दे सकते हैं.





ये भी पढ़ें- Rajasthan: पायलट और दो मंत्री बर्खास्त, डोटासरा होंगे पीसीसी चीफ, BJP सक्रिय

गौरतलब है कि अशोक गहलोत सरकार के खिलाफ बगावती रुख अपनाने के लिए पायलट एवं उनके साथी नेताओं के खिलाफ कांग्रेस ने कड़ी कार्रवाई की है. पायलट को उपमुख्यमंत्री पद के साथ-साथ पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पद से भी हटा दिया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading