लाइव टीवी

SPG सुरक्षा हटाए जाने पर प्रियंका ने साधा सरकार पर निशाना, कहा- यह राजनीति है

भाषा
Updated: November 21, 2019, 10:32 PM IST
SPG सुरक्षा हटाए जाने पर प्रियंका ने साधा सरकार पर निशाना, कहा- यह राजनीति है
प्रियंका गांधी ने एसपीजी सुरक्षा हटाए जाने को राजनीति करार दिया है. (File Photo)

हाल ही में सरकार ने गांधी परिवार और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (Former PM Manmohan Singh) की एसपीजी सुरक्षा वापस ले ली. अब गांधी परिवार को जेड प्लस श्रेणी की सुरक्षा मिली हुई है.

  • भाषा
  • Last Updated: November 21, 2019, 10:32 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) ने एसपीजी सुरक्षा (SPG Secrurity) हटाए जाने को लेकर गुरुवार को नरेंद्र मोदी सरकार (Narendra Modi Government) पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि यह ‘‘राजनीति’’ है. एसपीजी सुरक्षा हटाए जाने के बारे में पूछे जाने पर प्रियंका ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘यह तो राजनीति है, होती रहती है.’’ प्रियंका पार्टी महासचिवों की बैठक के बाद संवाददाताओं से बात कर रही थीं. इस बैठक में 14 दिसंबर को प्रस्तावित ‘‘भारत बचाओ रैली’’ की तैयारियों की समीक्षा की गयी.

गौरतलब है कि हाल ही में सरकार ने गांधी परिवार और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (Former PM Manmohan Singh) की एसपीजी सुरक्षा वापस ले ली. अब गांधी परिवार को जेड प्लस श्रेणी की सुरक्षा मिली हुई है.

आर्थिक मंदी पर प्रियंका ने साधा निशाना
आर्थिक मंदी के बारे में पूछे जाने पर प्रियंका ने कहा, ‘‘बहुत ही बुरी स्थिति है, बहुत मंदी है. सरकार को कुछ करना चाहिए. हम इसके बारे में बात करते आ रहे हैं. इसी को लेकर हमारी रैली है.’’ बेरोजगारी, मंदी और कृषि संकट को लेकर कांग्रेस 14 दिसंबर को दिल्ली के रामलीला मैदान में रैली करने जा रही है.

वहीं राज्यसभा में बुधवार को कांग्रेस ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पार्टी के पूर्व अध्यक्ष तथा सांसद राहुल गांधी और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा की एसपीजी सुरक्षा वापस लिए जाने का मुद्दा उठाया. हालांकि सत्तारूढ़ भाजपा (BJP) ने कहा कि यह फैसला गृह मंत्रालय (Ministry of Home Affairs) का है और इसमें कोई राजनीति नहीं है.

नेताओं की सुरक्षा सरकार की जिम्मेदारी
पार्टी के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा (Anand Sharma) ने शून्यकाल में यह मुद्दा उठाया और कहा कि नेताओं की सुरक्षा सरकार की जिम्मेदारी है. उन्होंने तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी (Indira Gandhi) और पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी (Rajiv Gandhi) की हत्या का जिक्र करते हुए कहा कि खतरों को देखते हुए चारों नेताओं की एसपीजी सुरक्षा बहाल की जानी चाहिए. उन्होंने कहा कि सरकार को इस संबंध में अपने फैसले पर पुनर्विचार करना चाहिए और उसे दलगत भावना से उठकर काम करना चाहिए.
Loading...

भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि ऐसे फैसले गृह मंत्रालय की एक विशेष समिति खतरों की आशंका पर गौर करते हुए करती है. उन्होंने कहा कि लोगों को लिट्टे से खतरा था लेकिन अब लिट्टे समाप्त हो गया है. स्वामी ने कहा कि इसके अलावा जिनकी सुरक्षा की बात की जा रही है, उन्होंने खुद ही राजीव गांधी के हत्यारों की सजा कम किए जाने की अपील की और जेल में जाकर मुलाकात तक की. हालांकि सभापति एम वेंकैया नायडू ने स्वामी को टोकते हुए राजीव गांधी के हत्यारों से जुड़े मुद्दे को इस विषय में नहीं उठाने को कहा.

ये भी पढ़ें-
हेमा मालिनी ने लोकसभा में उठाया बंदरों का मुद्दा, चिराग बोले- सरकार उठाए कदम

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 21, 2019, 10:32 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...