Assembly Banner 2021

असम रैली में जब अचानक दौड़ पड़ीं प्रियंका गांधी वाड्रा, देखें VIDEO

मंच की तरफ दौड़ती दिखीं प्रियंका गांधी वाड्रा

मंच की तरफ दौड़ती दिखीं प्रियंका गांधी वाड्रा

Priyanka Gandhi in Assam: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा मंगलवार को तेजपुर में जनसभा को संबोधित करने के लिए पहुंची थीं लेकिन देर हो जाने के कारण वह स्टेज तक जल्दी पहुंचने के लिए दौड़ने लगीं.

  • Share this:
तेजपुर. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Congress General Seceratary Priyanka Gandhi Vadra) मंगलवार को असम के तेजपुर (Assam's Tejpur) में रैली स्थल पर पहुंचकर स्टेज की तरफ दौड़ती नजर आईं. दरअसल कांग्रेस महासचिव इन दिनों असम में चुनाव प्रचार कर रही हैं. मंगलवार को वह तेजपुर में एक जनसभा को संबोधित करने के लिए पहुंची थीं लेकिन देर हो जाने के कारण वह स्टेज तक जल्दी पहुंचने के लिए दौड़ने लगीं. हालांकि थोड़ी दूर दौड़ने के बाद उन्होंने अपनी चाल धीमी कर ली क्योंकि उनके स्वागत के लिए तमाम महिलाएं वहां पंक्तिबद्ध होकर खड़ीं थीं. प्रियंका इन महिलाओं और साथ में अन्य प्रशंसकों का स्वीकारती हुई स्टेज की तरफ तेज चाल से बढ़ती गईं.

कांग्रेस महासचिव चुनावी राज्य असम के दो दिवसीय दौरे पर हैं.  गांधी ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि विधानसभा चुनाव के बाद यदि उनकी पार्टी असम में सत्ता में आती है तो संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) को ‘‘अमान्य करने के लिए’’ राज्य में एक नया कानून लाया जाएगा. प्रियंका ने तेजपुर में एक जनसभा के दौरान ‘पांच गारंटी’ अभियान की शुरूआत की और कहा, ‘‘यदि उनकी पार्टी को (जनता ने) इस पूर्वोत्तर राज्य में सरकार बनाने का मौका दिया, तो पूरे राज्य में गृहणियों को हर महीने 2,000 रुपये दिये जाएंगे और सभी परिवारों को 200 यूनिट बिजली मुफ्त दी जाएगी.’’





उन्होंने यह वादा भी किया कि उनकी पार्टी चाय बागान मजदूरों की न्यूनतम दिहाड़ी मौजूदा 167 रुपये से बढ़ा कर 365 रुपये करेगी और युवाओं को करीब 25,000 सरकारी नौकरी प्रदान करेगी. उन्होंने कहा, ‘‘असम के लोगों को भाजपा ने 25 लाख नौकरियां देने का पांच साल पहले वादा किया था लेकिन उन्हें धोखा दिया और इसके बजाय यहां के लोगों को सीएए दिया. हमारी पार्टी खोखले वादे नहीं कर रही है, बल्कि पांच गारंटी दे रही है.’’
प्रियंका ने महिलाओं से पूछी उनकी समस्याएं
बातचीत के दौरान महिलाओं ने उनसे कथित तौर पर कहा कि उनके लिए बनी योजनाओं का फायदा सिर्फ कुछ लोगों को ही मिल रहा है, जबकि अन्य लोगों को पूछताछ के लिए सरकारी कार्यालयों के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं. काम के समय में इसके लिए जाना मुश्किल होता है.

ये भी पढ़ें- ममता बनर्जी को एक और झटका, TMC विधायक जितेंद्र तिवारी BJP में शामिल

महिलाओं ने महंगाई के चलते हो रही समस्याएं, आवास और बागानों में शौचालय की व्यवस्था नहीं होने से पेश आने वाली परेशानियों का भी जिक्र किया.

कांग्रेस नेता ने महिला श्रमिकों से कहा, ‘‘पार्टियों का यह धर्म है कि वे चुनाव के दौरान आपके पास आकर किये गये वादों को पूरा करें. जो सरकार अपने वादों को पूरा नहीं करती है उसे सबक सिखाने के लिए आपके पास वोट की शक्ति है. हमने नयूनतम 365 रुपये दिहाड़ी मजदूरी का वादा किया है.... ’’

प्रियंका, एक पारंपरिक मेखला चादर ओढ़े हुए थी. बागान में उन्हें चाय की पत्तियों को तोड़ कर रखने वाली एक टोकरी भी अपनी पीठ पर लिए देखा गया.

ये भी पढ़ें- जानिए कौन हैं पीरजादा जिसे लेकर कांग्रेस में मची हुई है रार

उन्होंने चाय बागान में काम करने वाली जनजातीय महिलाओं के साथ झूमर नृत्य में उनके साथ कदम से कदम मिलाने की कोशिश की और उन्हें लाल बॉर्डर वाली एक सफेद साड़ी तोहफे में दी गई, जो महिलाएं नृत्य के लिए पहनती हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज