लाइव टीवी

राहुल गांधी केरल के NH-766 पर रात में यातायात प्रतिबंध के खिलाफ प्रदर्शन में हुए शामिल

News18Hindi
Updated: October 4, 2019, 12:18 PM IST
राहुल गांधी केरल के NH-766 पर रात में यातायात प्रतिबंध के खिलाफ प्रदर्शन में हुए शामिल
कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने वायनाड में बांदीपुर टाइगर रिजर्व से गुजरने वाले राजमार्ग पर यातायात प्रतिबंध के विरोध में भूख हड़ताल कर रहे युवा नेताओं से अस्‍पताल पहुंचकर मुलाकात की.

राष्‍ट्रीय राजमार्ग-766 (NH-766) बांदीपुर टाइगर रिजर्व (Bandipur Tiger Reserve) से होकर गुजरता है. रिजर्व से रात में गुजरने को लेकर एक दशक से चल रहा है विवाद. वायनाड (Wayanad) पहुंचे कांग्रेस (Congress) के पूर्व अध्‍यक्ष राहुल गांधी (Rahul gandhi) ने कहा, मैं प्रदर्शनकारियों के साथ हूं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 4, 2019, 12:18 PM IST
  • Share this:
तिरुअनंतपुरम. केरल (Keral) के वायनाड (Wayanad) में बांदीपुर टाइगर रिजर्व (Bandipur Tiger Reserve) से होकर गुजरने वाले राष्‍ट्रीय राजमार्ग-766 (NH-766) पर रात में यातायात प्रतिबंध लागू है. स्‍थानीय लोग इसके खिलाफ 10 दिन से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. कांग्रेस (Congress) के पूर्व अध्‍यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) शुक्रवार सुबह प्रदर्शनकारियों के साथ एकजुटता दिखाने के लिए वायनाड पहुंचे. प्रदर्शन में शामिल हुए वायनाड सांसद (Wayanad MP) राहुल गांधी ने कहा कि मैं प्रतिबंध के खिलाफ विरोध करने वालों के साथ खड़ा हूं. इस दौरान वह विरोध में भूख हड़ताल (Hunger Strike) पर बैठे युवा नेताओं से भी मिल.

भूख हड़ताल करने वाले युवा नेताओं से राहुल ने की मुलाकात
वायनाड में जारी विरोध प्रदर्शन और हड़ताल का नेतृत्‍व डेमोक्रेटिक यूथ फेडरेशन ऑफ इंडिया, यूथ कांग्रेस व यूथ लीग मिलकर कर रहे हैं. कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता राहुल गांधी ने ट्वीट किया कि मैं केरल और कर्नाटक (Karnataka) को जोड़ने वाले एनएच-766 पर रात में यात्रा प्रतिबंध का विरोध करते हुए भूख हड़ताल पर बैठे युवाओं के साथ एकजुटता का प्रदर्शन कने के लिए केरल के वायनाड में हूं. इससे पहले मैंने उन लोगों से मुलाकात की, जिन्‍हें लंबे समय तक भूख हड़ताल पर रहने के कारण अस्पताल में भर्ती होना पड़ा.

कर्नाटक हाईकोर्ट ने वन्‍य जीवों की सुरक्षा के लिए लगाया था बैन
Loading...

राहुल गांधी ने इससे पहले कहा कि कहा कि बांदीपुर टाइगर रिजर्व से होकर जाने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग पर नौ घंटे के यातायात प्रतिबंधित (Traffic Ban) के कारण केरल और कर्नाटक के लोगों को काफी दिक्‍कतों का सामना करना पड़ता है. बता दें कि केरल सरकार (Keral Government) भी रात 9 बजे से सुबह 6 बजे तक एनएच-766 पर लगने वाले प्रतिबंध को खत्‍म करना चाहती है. करीब एक दशक पहले कर्नाटक हाईकोर्ट (Karnataka High Court) ने वन्‍य प्राणियों (Wild Life) की सुरक्षा को ध्‍यान में रखते हुए बांदीपुर टाइगर रिजर्व से होकर गुजरने वाले राजमार्ग पर यातायात प्रतिबंध लगा दिया था.

स्‍थानीय लोग कर रहे हैं रिजर्व पर एलिवेटेड रोड बनाने की मांग
सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने हाल में वैकल्पिक कट्टा गोनीकप्‍पा मार्ग को बेहतर कर टाइगर रिजर्व के हिस्‍से वाले एनएच-766 पर स्‍थायी यातायात प्रतिबंध (Permanent Traffic Ban) लगाने की संभावना पर रिपोर्ट मांगी थी. वायनाड के लोगों ने सुप्रीम कोर्ट के इस निर्देश के बाद विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया. उनका कहना था कि इस हिस्‍से पर पूरी तरह से यातायात बंद करने के बाद वैकल्पिक मार्ग (Alternative Rout) से उन्‍हें काफी लंबा रास्‍ता तय करना होगा. इसका सबसे बुरा असर किसानों पर पड़ेगा. स्‍थानीय लोग इस हिस्‍से में एलिवेटेड रोड बनाने की मांग कर रहे हैं ताकि वन्‍य जीव भी सुरक्षित रहें और उनका समय भी बर्बाद नहीं हो.

वैकल्पिक मार्ग से बाथेरी से मिसुरु पहुंचने में तय करना होगा लंबा सफर
टाइगर रिजर्व मार्ग के जरिये बाथेरी से मिसुरु पहुंचने के लिए स्‍थानीय लोगों को 98 किमी का सफर करना होता है. वहीं, सुप्रीम कोर्ट के सुझाए वैकल्पिक मार्ग से उन्‍हें 217 किमी का सफर तय करना होगा. प्रदर्शनकारियों का कहना है कि सैकड़ों स्‍टूडेंट्स इस मार्ग पर रोज सफर करते हैं. वहीं, इस राजमार्ग को पूरी तरह से बंद करने के कारण पर्यटन उद्योग (Tourism Industry) पर भी बुरा असर पड़ेगा. प्रदर्शनकारी पिछले हफ्ते से भूख हड़ताल पर बैठे हैं.

ये भी पढ़ें:

LoC पर पाकिस्तान की नापाक हरकत, मार्च से पहले पुंछ में 2 घंटे की फायरिंग

शेख हसीना बोलीं-NRC से नहीं है दिक्कत, PM मोदी से न्यूयॉर्क में हो चुकी है बात

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 4, 2019, 12:18 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...