अपना शहर चुनें

States

कोरोनाः केंद्र से राहुल के 4 सवाल, पूछा- PM बताएं कि किस वैक्सीन का चयन किया जाएगा

भारत में फिलहाल पांच टीके क्लीनिकल ट्रायल के विभिन्न चरणों में हैं. फाइल फोटो
भारत में फिलहाल पांच टीके क्लीनिकल ट्रायल के विभिन्न चरणों में हैं. फाइल फोटो

कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने सोमवार को ट्वीट कर केंद्र सरकार कोरोना वैक्सीन (Coronavirus Vaccine) पर चार सवाल दागे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 23, 2020, 11:04 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को देश को यह बताना चाहिए कि कोरोना वायरस के किस टीके का चयन भारत के लिए किया जाएगा. राहुल गांधी ने ट्वीट किया, ‘‘प्रधानमंत्री को देश को बताना चाहिए कि कोविड का टीका बनाने की ओर अग्रसर कंपनियों में भारत सरकार किसका चुनाव करेगी और क्यों करेगी?’’

उन्होंने सवाल किया, ‘‘पहले टीका किसको मिलेगा और इसके वितरण की रणनीति क्या है? क्या ‘पीएम केयर्स’ कोष का इस्तेमाल मुफ्त टीकाकरण के लिए होगा? कब तक सभी भारतीय नागरिकों को टीका लग जाएगा?’’ बता दें कि अमेरिका की दो कंपनियों फाइजर और मॉडर्ना ने ऐसे टीके विकसित करने का दावा किया है, जो कोविड-19 का संक्रमण रोकने में 90 फीसदी से ज्यादा कारगर हैं.

भारत में फिलहाल पांच टीके क्लीनिकल ट्रायल के विभिन्न चरणों में हैं. सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया इस समय ऑक्सफोर्ड- एस्ट्राजेनेका के टीके के तीसरे चरण का परीक्षण कर रहा है, वहीं भारत बायोटेक और आईसीएमआर ने स्वदेश विकसित कोवाक्सिन के तीसरे चरण का परीक्षण शुरू कर दिया है.



जायडस कैडिला द्वारा स्वदेश विकसित टीके ने देश में दूसरे चरण का क्लीनिकल ट्रायल पूरा कर लिया है. डॉ रेड्डीज लैबोरेटरीज जल्द ही रूसी टीके स्पुतनिक-5 के भारत में दूसरे और तीसरे चरण के सामूहिक परीक्षण शुरू करेगा.


पढ़ेंः भारत में बन रही कोविशील्‍ड पहले डोज में 90% असरदार, SII ने दी गुड न्यूज

मॉडर्ना वैक्सीन को 94.5% और फाइजर-बायोएनटैक को 95% प्रतिशत प्रभावी पाया है. जल्द ही यह कंपनियां अप्रूवल के लिए आवेदन करने वाली है, जिससे इसी साल के अंत तक इनका प्रोडक्शन शुरू होगा और जल्द से जल्द हम तक पहुंचने की प्रक्रिया शुरू होगी.



पढ़ेंः दिल्ली में कोरोना की रोकथाम पर HC ने पूछा- क्या लॉकडाउन ही एकमात्र हल?

देश के फ्रंटलाइन हेल्थ वर्कर्स के लिए अगले साल जनवरी या फरवरी की शुरुआत में कोरोना वायरस का टीका उपलब्‍ध हो सकता है. सरकार की तैयारी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की ऑक्‍सफोर्ड-एस्‍ट्राजेनेका वैक्‍सीन को इमर्जेंसी यूज के लिए अप्रूवल देने की है. SII ने एस्‍ट्राजेनेका के साथ पार्टनरशिप कर रखी है.

वहीं, देश में बनी कोविड वैक्‍सीन यानी भारत बायोटेक की Covaxin को भी फरवरी तक इमर्जेंसी अप्रूवल दिया जा सकता है. यानी फरवरी 2021 तक देश में कोविड-19 के दो-दो टीके उपलब्‍ध हो सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज