लाइव टीवी

लोगों की जासूसी कर रही हैं सरकारी एजेंसियां और सवाल व्हाट्सएप से पूछे जा रहे : सुरजेवाला

News18Hindi
Updated: October 31, 2019, 8:16 PM IST
लोगों की जासूसी कर रही हैं सरकारी एजेंसियां और सवाल व्हाट्सएप से पूछे जा रहे : सुरजेवाला
कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने साधा निशाना.

कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला (Randeep Surjewala) ने आरोप लगाते हुए कहा कि भारत सरकार की एजेंसियां नागरिकों की असंवैधानिक रूप से जासूसी कर रही हैं. सुप्रीम कोर्ट को इस मामले का स्वतः संज्ञान लेकर जांच करानी चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 31, 2019, 8:16 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. इजरायल (Israel) की कंपनी की ओर से व्‍हाट्सएप (WhatsApp) के जरिये की गई भारतीय मानवाधिकार कार्यकर्ताओं, पत्रकारों व अन्‍य लोगों की जासूसी के मामले में कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला (Randeep Surjewala) ने निशाना साधा है. उन्‍होंने आरोप लगाते हुए कहा है कि भारत सरकार की एजेंसियां नागरिकों की असंवैधानिक रूप से जासूसी कर रही हैं. इजरायल की एजेंसी के सॉफ्टवेयर से विपक्ष के नेता, पत्रकार, जज और अन्‍य लोगों के फोन हैक किए गए हैं. उन्‍होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट को इस मामले का स्वतः संज्ञान लेकर जांच करानी चाहिए.

रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि ये सॉफ्टवेयर सिर्फ व्हाट्सएप को ही नहीं, बल्कि फोन के कैमरे और स्पीकर को भी हैक करता है, जिससे एजेंसियां आपकी सारी बात और मैसेज देख सुन सकती हैं. उन्‍होंने कहा कि इसके जरिये भारत सरकार की एजेंसियां सब कुछ कर सकती हैं.

कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि भारत सरकार की इस मामले पर चुप्पी रहस्‍यमयी है. रविशंकर प्रसाद ने कहा कि भारत सरकार व्हाट्सएप से पूछ रही है. मतलब उल्टा चोर कोतवाल को डांट रहा हैं. उन्‍होंने आरोप लगाया कि जासूसी भारत सरकार की एजेंसियां कर रही हैं और व्हाट्सएप से इसके बारे में पूछा जा रहा है.

व्‍हाट्सएप के जरिये जासूसी की बात सामने आई है.


सुरजेवाला ने कहा कि इस सवाल का जवाब उन्‍हें देना चाहिए कि इजरायली स्‍पाईवेयर पेगासस किस सरकारी संस्था ने खरीदा था. सुप्रीम कोर्ट व हाईकोर्ट के जज, मानवाधिकार कार्यकर्ता और पत्रकार भी इसके निशाने पर थे. उन्‍होंने आरोप लगाया कि इससे फोन के आसपास की सभी चीजें रिकॉर्ड होती थीं. बिना अनुमति और जानकारी के ये सब हुआ.

बता दें कि व्हाट्सएप ने इजरायल (Israel) की प्रोद्यौगिकी कंपनी एनएसओ समूह पर आरोप लगाया है कि वह फेसबुक के स्वामित्व वाली मैसेजिंग सेवा एप के जरिए पत्रकारों, मानवाधिकार कार्यकर्ताओं और अन्य की साइबर जासूसी कर रही है. व्हाट्सएप ने इसके साथ ही कंपनी पर मुकदमा दायर करने की बात कही है.

यह मुकदमा अमेरिका के कैलिफोर्निया की संघीय अदालत में दायर किया गया है. इसमें कहा गया है कि एनएसओ समूह ने मैसेजिंग एप का इस्तेमाल करने वालों के करीब 1,400 उपकरणों को प्रभावित कर महत्वपूर्ण जानकारी चुराने का प्रयास किया.
Loading...

यह भी पढ़ें: 

Whatsapp जासूसी के शिकंजे में थे भीमा कोरेगांव केस के वकील और पत्रकार
फिर गायब हुए राहुल गांधी, सुरजेवाला बोले- विपश्यना पर गए हैं, जल्दी लौटेंगे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 31, 2019, 8:04 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...