Assembly Banner 2021

कांग्रेस नेता बोले- बीएस येदियुरप्पा इस्तीफा दें या फिर उन्हें पद से हटाए बीजेपी

कर्नाटक उच्च न्यायालय ने येडियुरप्पा के खिलाफ 'ऑपरेशन कमल' मामले में जांच को मंजूरी दी है.

कर्नाटक उच्च न्यायालय ने येडियुरप्पा के खिलाफ 'ऑपरेशन कमल' मामले में जांच को मंजूरी दी है.

Karanataka Latest news: कांग्रेस नेता ने मांग की, ‘‘येदियुरप्पा को तत्काल इस्तीफा देना चाहिए या फिर उन्हें हटाया जाना चाहिए.’’ शुक्ला ने कहा कि अगर भाजपा अपने इस मुख्यमंत्री के खिलाफ कदम नहीं उठाती है तो फिर भ्रष्टाचार के विषय पर बात करने का उसका नैतिक अधिकार नहीं बनता.

  • Share this:
नई दिल्ली. कांग्रेस ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा (BS Yeddyurappa) के खिलाफ राज्य उच्च न्यायालय (High Court) के एक आदेश और प्रदेश सरकार के एक मंत्री के पत्र को लेकर बृहस्पतिवार को कहा कि येदियुरप्पा को तत्काल इस्तीफा देना चाहिए या फिर उन्हें पद से हटाया जाना चाहिए. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राजीव शुक्ला ने यह भी कहा कि येदियुरप्पा के खिलाफ जांच का आदेश दिया जाना चाहिए.

शुक्ला ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘उच्च न्यायालय ने जो आदेश दिया है, वो गंभीर विषय है. इस मामले में निष्पक्ष जांच तभी हो सकती है जब येदियुरप्पा मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा या फिर उन्हें हटाया जाए.’’ उन्होंने कहा, ‘‘कर्नाटक के ग्रामीण विकास मंत्री ईश्वरप्पा ने अपने विभाग के मामले में मुख्यमंत्री पर हस्तक्षेप करने और भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है. यह भी बहुत गंभीर मामला है.’’

Youtube Video




बीजेपी को जल्द करनी चाहिए कार्रवाई
कांग्रेस नेता ने मांग की, ‘‘येदियुरप्पा को तत्काल इस्तीफा देना चाहिए या फिर उन्हें हटाया जाना चाहिए.’’ शुक्ला ने कहा कि अगर भाजपा अपने इस मुख्यमंत्री के खिलाफ कदम नहीं उठाती है तो फिर भ्रष्टाचार के विषय पर बात करने का उसका नैतिक अधिकार नहीं बनता.

आखिरकार क्या है पूरा मामला?
गौरतलब है कि कर्नाटक उच्च न्यायालय ने येदियुरप्पा के खिलाफ 'ऑपरेशन कमल' मामले में जांच को मंजूरी दी है. येदियुरप्पा पर आरोप है कि सरकार बनाने के लिए उन्होंने 2019 में जनता दल (एस) के एक विधायक के बेटे को कथित तौर पर पैसे और मंत्रालय का लालच दिया था.

उधर, कर्नाटक के ग्रामीण विकास मंत्री के एस ईश्वरप्पा ने बुधवार को राज्यपाल से मुख्यमंत्री येदियुरप्पा के खिलाफ शिकायत की थी. उन्होंने मुख्यमंत्री पर उनके विभाग के मामलों में सीधा हस्तक्षेप करने का आरोप लगाया था.

क्या है ऑपरेशन कमल ?
दरअसल, कांग्रेस-जदएस गठबंधन ने साल 2019 में राज्य में उसकी सरकार गिराने के लिए भाजपा की तरफ से की गई साजिश को 'ऑपरेशन कमल' नाम दिया था. गठबंधन दलों के विधायकों ने सरकार के खिलाफ विद्रोह कर दिया था, जिसके चलते 14 महीने पुरानी कांग्रेस-जदएस सरकार गिर गई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज