लाइव टीवी

पुलिस-वकीलों के झगड़े पर शशि थरूर ने हिन्दी में लिखी कविता, कहा- ये है अच्छे दिन का प्रथम अध्याय

News18Hindi
Updated: November 6, 2019, 8:34 AM IST
पुलिस-वकीलों के झगड़े पर शशि थरूर ने हिन्दी में लिखी कविता, कहा- ये है अच्छे दिन का प्रथम अध्याय
शशि थरूर केरल के तिरुवनंतपुरम से कांग्रेस सांसद हैं.

शशि थरूर (Shashi Tharoor) अब तक ट्विटर पर अंग्रेजी में ही लिखते आए हैं. यह पहला मौका है जब उन्होंने ट्विटर पर हिंदी में कोई कविता लिखी हो.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 6, 2019, 8:34 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. तीस हज़ारी कोर्ट (Tis Hazari Court) में शनिवार को वकीलों और पुलिस की झड़प का विवाद बढ़ता जा रहा है. इस बीच कांग्रेस नेता और केरल के तिरुवनंतपुरम से सांसद शशि थरूर (Shashi Tharoor) ने इस मामले को लेकर केंद्र की मोदी सरकार (Modi Government) पर निशाना साधा है. बीजेपी के 'अच्छे दिन' नारे पर तंज कसते हुए थरूर ने ट्वीट किया, 'पुलिस स्वंय संरक्षण मांगे, वकील मांगते न्याया. अच्छे दिन प्रारम्भ हो गए, ये है प्रथम अध्याय!.'

ऐसा पहली बार है जब थरूर ने हिंदी में ट्वीट किया हो. अब तक वो ट्विटर पर अंग्रेजी में ही लिखते आए हैं. बता दें कि कांग्रेस सांसद थरूर अपने ट्वीट में अंग्रेजी के कठिन शब्दों के लिए भी जाने जाते हैं.

दिल्ली-पुलिस और वकीलों की झड़प को लेकर थरूर से पहले कांग्रेस ने भी प्रतिक्रिया दी थी. कांग्रेस ने मंगलवार को कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में पुलिस का सड़कों पर प्रदर्शन करना भारत के लिए स्वतंत्रता के 72 वर्षों में एक ‘नई गिरावट' है. पार्टी ने इस मुद्दे पर गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) की चुप्पी पर भी सवाल उठाए. वहीं, कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने गृहमंत्री से इस पूरे मामले पर बयान देने की मांग की थी.

Loading...



क्या है पूरा मामला?
दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट परिसर में पार्किंग को लेकर 2 नवंबर को मामूली विवाद हुआ, जो धीरे-धीरे पुलिस और वकीलों के बीच बड़े टकराव में बदल गया. इस दौरान एक अफवाह फैली कि पुलिस की गोली से एक वकील की मौत हो गई है, जिसके बाद कोर्ट परिसर में वकीलों ने हंगामा कर दिया. आक्रोशित वकीलों ने कोर्ट परिसर में खड़ी कई गाड़ियों में तोड़फोड़ की और कुछ वाहनों को आग के हवाले कर दिया.

delhi police
इस मामले पर आज दिल्ली हाईकोर्ट में सुनवाई होनी है.


मारपीट के दौरान करीब 20 पुलिसवाले और 12 वकीलों को चोट आई. इसका एक वीडियो भी सामने आया, जिसमें वकील पुलिसवालों की बेरहमी से पिटाई करते दिख रहे थे. एक अन्य वीडियो में वकील आम लोगों पर भी हमला करते देखे गए. इससे मामला और बढ़ गया. इसके बाद मंगलवार को पुलिसवाले धरने पर बैठ गए.

आज हाईकोर्ट में सुनवाई
इस मामले पर आज दिल्ली हाईकोर्ट में सुनवाई होनी है. हाईकोर्ट में इस मामले पर बार काउंसिल ऑफ इंडिया और दूसरे बार काउंसिलों को नोटिस जारी किया था. दिल्ली हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस डीएन पटेल ने कहा था कि वकीलों को संयम बरतना चाहिए.

 ये भी पढ़ें: OPINION: 'राष्‍ट्रीय राजधानी में वकील ही बन गए हैं कानून, पुलिसकर्मी पर हमला करने से पहले एक बार भी सोचते'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 6, 2019, 8:09 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...