राजस्थान की राजनीति पर बोले कांग्रेस नेता श​शि थरूर- पार्टी को मजबूत करें, नीचा न दिखाएं

राजस्थान की राजनीति पर बोले कांग्रेस नेता श​शि थरूर- पार्टी को मजबूत करें, नीचा न दिखाएं
कांग्रेस नेता शशि थरूर ने राजस्थान के हालात पर चिंता जाहिए की हैऋ

कपिल सिब्बल Kapil Sibal) की तरह ही कांग्रेस (Congress) नेता शशि थरूर (Shashi Tharoor) ने भी इशारों ही इशारों में पार्टी आलामकान को पार्टी के अंदरूनी हालात के बारे में चेताया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 13, 2020, 11:52 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राजस्थान (Rajasthan) में जिस तरह से कांग्रेस (Congress) के अंदर सियासी घमासान मचा हुआ है, उसे देखने के ​बाद पार्टी के वरिष्ठ नेता काफी परेशान हैं. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल (Kapil Sibal) के बाद अब कांग्रेस नेता शशि थरूर (Shashi Tharoor) ने भी कांग्रेस की तेजी से सरकती जमीन पर चिंता जाहिर की है. शशि थरूर ने भी इशारों ही इशारों में पार्टी आलामकान को पार्टी के अंदरूनी हालात के बारे में चेताया है.

शशि थरूर ने ट्वीट करते हुए कहा है कि मैं पूर्ण विश्वास के साथ कहता हूं कि हमारे देश को एक उदारवादी पार्टी की जरूरत है. जिसका नेतृत्व सभी को साथ लेकर चलने के लिए प्रतिबद्ध हो और जो भारत के बहुलवाद का सम्मान करे.गणतंत्र के संस्थापक मूल्यों में विश्वास रखने वाले सभी लोगों को कांग्रेस को मजबूत करने का काम करना चाहिए, उसे नीचा नहीं दिखाना चाहिए.
गौरतलब है कि मध्यप्रदेश में जिस तरह से ज्योतिरादित्य सिंधिया ने सालों पुराना कांग्रेस का साथ छोड़ा था उसके बाद अब राजस्थान में भी ऐसे ही हालात बनते दिखाई दे रहे हैं. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अपने नेताओं को इस तरह पार्टी छोड़ता देखकर काफी परेशान हैं.इसे भी पढ़ें :- पायलट को बीजेपी का बताने पर पुनिया की सफाई, कहा- गलती से सिंधिया की जगह सचिन बोल दियाबता दें कि इससे पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने भी पार्टी आलाकमान तक अपनी बात पहुंचाने की कोशिश की थी. कपिल सिब्बल ने ट्वीट करते हुए लिखा है, 'अपनी पार्टी के लिए चिंतित हूं. क्या हम तभी जागेंगे जब चीज़ें हमारे हाथ से निकल जाएंगी.' अपने इस ट्वीट के जरिए कपिल सिब्बल ने न केवल अपनी चिंता जताई है बल्कि अपनी नाराजगी भी दिखा दी है. उन्होंने अपने इस ट्वीट के जरिए पार्टी आलाकमान को संदेश दिया है कि वक्त रहते अगर सही फैसले नहीं लिया गया तो पार्टी को भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है.

बता दें कि पायलट प्रकरण से कांग्रेस की अंदरूनी सियासत गरमा गई है. एसओजी (SOG) की एफआईआर और पूछताछ की चिट्ठी के बाद डिप्टी सीएम सचिन पायलट की नाराजगी बढ़ गई है. हालांकि एसओजी ने सीएम को भी ऐसी चिट्ठी भेजी है, लेकिन अब पायलट कांग्रेस हाईकमान से मिलकर अपना पक्ष रखना चाहते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज