अनुच्छेद 370: मोदी सरकार के फैसले के समर्थन में युवा कांग्रेसी नेता

कांग्रेस के युवा नेता मिलिंड देवड़ा ने कहा है कि पार्टियों को अपनी विचारधारा को अलग रखकर इस पर बहस करनी चाहिए कि भारत की संप्रभुता और संघवाद, जम्मू-कश्मीर में शांति, कश्मीरी युवाओं को नौकरी और कश्मीरी पंडितों के न्याय के लिए बेहतर क्या है?

News18Hindi
Updated: August 6, 2019, 5:21 AM IST
अनुच्छेद 370: मोदी सरकार के फैसले के समर्थन में युवा कांग्रेसी नेता
दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने अनुच्छेद 370 के हटाए जाने पर खुशी जताई है (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: August 6, 2019, 5:21 AM IST
भले ही वरिष्ठ कांग्रेसी नेताओं ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने और जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन बिल का जमकर विरोध किया हो लेकिन कांग्रेस के युवा नेताओं के सुर कुछ अलग ही हैं. कांग्रेस के पूर्व सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा और मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष मिलिंद देवड़ा ने अनुच्छेद 370 हटाए जाने के नरेन्द्र मोदी सरकार के फैसले का समर्थन किया है.

दीपेंद्र हुड्डा ने इसके बारे में ट्वीट किया. उन्होंने लिखा, "मेरा पहले से विचार रहा है कि 21वीं सदी में अनुच्छेद 370 का औचित्य नहीं है और इसको हटना चाहिए. ऐसा सिर्फ देश की अखंडता के लिए ही नहीं बल्कि जम्मू-कश्मीर जो हमारे देश का अभिन्न अंग है, के हित में भी है. मगर मौजूदा सरकार की पूर्णत: यह जिम्मेदारी है कि इसका क्रियान्वयन शांति और विश्वास के वातावरण में हो."


Loading...

वहीं मिलिंद देवड़ा ने कहा, "यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि अनुच्छेद 370 को उदार बनाम रुढ़िवादी बहस में बदल दिया गया. पार्टियों को अपनी विचारधारा को अलग रखकर इस पर बहस करनी चाहिए कि भारत की संप्रभुता और संघवाद, जम्मू-कश्मीर में शांति, कश्मीरी युवाओं को नौकरी और कश्मीरी पंडितों के न्याय के लिए बेहतर क्या है?"



कांग्रेस के इन नेताओं के अलावा जनार्दन द्विवेदी ने भी अनुच्छेद 370 के हटाए जाने का समर्थन किया है. उन्होंने कहा, "मेरे राजनीतिक गुरु राम मनोहर लोहिया हमेशा से इस आर्टिकल के खिलाफ थे. इतिहास की एक गलती को आज सुधारा गया है." जनार्दन द्विवेदी के अलावा कांग्रेस एमएलए अदिति सिंह ने भी आर्टिकल 370 हटाए जाने का समर्थन किया है. वे पांच बार कांग्रेस विधायक रहे अखिलेश सिंह की बेटी हैं.

हालांकि कांग्रेसी नेता गुलाम नबी आजाद ने अनुच्छेद 370 को खत्म करने और जम्मू-कश्मीर को दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांटने के सरकार के फैसला का कड़ा विरोध किया. उन्होंने गृहमंत्री अमित शाह की ओर से प्रस्तावित विधेयक पर कहा कि सरकार देश के टुकड़े-टुकड़े करना चाहती है. उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर के लोग केंद्र सरकार के साथ नहीं हैं.

यह भी पढ़ें: आर्टिकल 370: अलग झंडा, दोहरी नागरिकता खत्‍म, जानिए जम्‍मू कश्‍मीर में क्‍या-क्‍या बदल जाएगा
First published: August 6, 2019, 5:18 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...