Assembly Banner 2021

केरलः कांग्रेस ने 26 साल की युवती को बनाया कैंडिडेट, किसान परिवार से हैं अरिता बाबू

किसान परिवार की 26 साल की अरिता बाबू केरल विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की सबसे युवा उम्मीदवार हैं.

किसान परिवार की 26 साल की अरिता बाबू केरल विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की सबसे युवा उम्मीदवार हैं.

Kerala Assembly Elections: पार्टी से टिकट मिलने की खुशी जाहिर करते हुए अरिता बाबू ने कहा, 'कांग्रेस ने मुझे विधानसभा उम्मीदवार बनाया गया है. यह मेरा क्षेत्र है और मैं सौ प्रतिशत यहां से चुनाव जीतूंगी.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 31, 2021, 6:20 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केरल में 6 अप्रैल को मतदान होने वाले है. जैसे-जैसे राज्य में मतदान की तारीख नजदीक आ रही है, राजनीतिक पार्टियों ने चुनाव प्रचार तेज कर दिया है. इस बार विधानसभा चुनाव (Kerala Assembly Elections) में कांग्रेस की एक प्रत्याशी कई कारणों से सुर्खियां बटोर रही हैं.

इस प्रत्याशी का नाम अरिता बाबू है. केरल के कयाकमुल से चुनावी मैदान में ताल ठोक रही अरिता महज 26 साल की हैं और इन चुनावों में कांग्रेस की सबसे कम उम्र की उम्मीदवार हैं. एक किसान परिवार से आने वाली अरिता के लिए केरल विधानसभा चुनाव बेहद खास हैं.

मैं ही जीतूंगी विधानसभा चुनाव
पार्टी से टिकट मिलने की खुशी जाहिर करते हुए अरिता बाबू ने कहा, '21 साल की उम्र में कांग्रेस पार्टी ने मुझे जिला पंचायत के लिए चुना. अब मुझे विधानसभा उम्मीदवार बनाया गया है. यह मेरा क्षेत्र है और मैं सौ प्रतिशत यहां से चुनाव जीतूंगी.'
Youtube Video




140 विधानसभा सीटों पर 6 अप्रैल को होगी वोटिंग
केरल विधानसभा की सभी 140 विधानसभा सीटों पर 6 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे. केरल में एक ही चरण में चुनाव कराए जा रहे हैं. विधानसभा चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने की आखिरी तिथि 19 मार्च थी. 20 मार्च को नामांकन पत्रों की जांच की गई. नाम वापस लेने की आखिरी तिथि 22 मार्च थी. सभी सीटों पर वोटों की गिनती 2 मई 2021 को की जाएगी. केरल में कांग्रेस की अगुआई वाले यूडीएफ गठबंधन और वामदलों की अगुआई वाले एलडीफ गठबंधन के बीच सीधी लड़ाई है.

ये भी पढ़ेंः- Indo-Pak Relations: पाकिस्तान में हुई कपास की कमी तो आई भारत की याद, इमरान सरकार ने दी आयात की इजाजत

केरल में प्रत्येक पांच वर्ष पर सरकार बदलने का ट्रेंड रहा है. कांग्रेस पार्टी पर इस ट्रेंड को बरकरार रखने का दबाव है. देश की सबसे पुरानी पार्टी केरल की सत्ता पर काबिज होने के लिए हर दांव आजमा रही हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज