होम /न्यूज /राष्ट्र /

गेम ऑफ थ्रोन्स' से भी ज्यादा रोचक है कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव! पार्टी को हर पल मिल रहे नए सरप्राइज

गेम ऑफ थ्रोन्स' से भी ज्यादा रोचक है कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव! पार्टी को हर पल मिल रहे नए सरप्राइज

New Delhi Politics: राहुल गांधी की यात्रा के बीच नई दिल्ली में कांग्रेस मुख्यालय का माहौल अचानक बदल गया है. (File)

New Delhi Politics: राहुल गांधी की यात्रा के बीच नई दिल्ली में कांग्रेस मुख्यालय का माहौल अचानक बदल गया है. (File)

National Politics: कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष पद का चुनाव दिलचस्प होगा. इसमें कई नेता अपना भाग्य आजमा सकते हैं. खासकर, शशि थरूर और मल्लिकार्जुन खड़गे पर नेताओं की नजरें जमी हुई हैं. कई नेता पानी की धार देख रहे हैं. उन्हें नामांकन दाखिल करने के लिए किसी भी सूरत में दस नेताओं का समर्थन चाहिए.

अधिक पढ़ें ...
  • News18Hindi
  • Last Updated :

नई दिल्ली. कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के चुनाव के चलते नई दिल्ली में पार्टी दफ्तर का माहौल पूरी तरह बदल गया है. कभी सूने पड़े पार्टी के चुनाव कार्यालय में चहल-पहल बढ़ गई है. इस कार्यालय में दो अतिरिक्त टेबलों के साथ-साथ अतिरिक्त स्टाफ नियुक्त किया गया है. यह स्टाफ चुनाव लड़ने के इच्छुक नेताओं को मार्गदर्शन भी दे रहा है. पार्टी अध्यक्ष पद का चुनाव अक्टूबर में होना है.

ऑफिस का माहौल उस वक्त पूरी तरह बदल गया जब शशि थरूर ने चुनावी दस्तावेज लिए. उन्होंने कांग्रेस की सेंट्रल इलेक्शन ऑथोरिटी के चेयरमैन मधुसूदन मिस्त्री के साथ फोटो भी क्लिक की. इस बात ने उस अफवाह की पुष्टि कर दी कि वह राष्ट्रीय अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ेंगे. थरूर के बाद अब यह चर्चा है कि और कौन-कौन से बड़े नेता हैं जो इस पद पर चुनाव लड़ना चाहते हैं? बता दें, कई नेता अभी पानी की धार का जायजा ले रहे हैं कि क्या नामांकन भरने के लिए उन्हें जरूरी 10 नेताओं का सपोर्ट मिलेगा.

सोनिया कह चुकीं यह बात

गौरतलब है कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी पहले ही कह चुकी हैं वह इस चुनाव में तटस्थ रहेंगी और पार्टी का कोई भी सदस्य इस चुनाव के लिए नामांकन दाखिल कर सकता है. यहां कई नेता हैं जो पार्टी में दमखम रखते हैं. पार्टी में थरूर अलग ही दिखते हैं. वे जबरदस्त पढ़े-लिखे भी हैं और मनमौजी भी. कई बार वे पार्टी लाइन पर भी फिट नहीं बैठे. लेकिन, इसके बावजूद वे चुनौतियों से भरी तिरुवनंतपुरम की सीट जीत गए. थरूर कांग्रेस से विद्रोही ग्रुप G-23 का भी हिस्सा थे, जो पारदर्शी चुनाव चाहते थे. चुनाव के वक्त कांग्रेस की केरल यूनिट ने उनका समर्थन करने से भी मना कर दिया था, लेकिन वह जीत गए.

मनीष तिवारी और अन्य नेता भी दौड़ में

थरूर की ही तरह सांसद मनीष तिवारी भी पार्टी विद्रोही हैं. कहा जा रहा है कि इनके संबंध गांधी परिवार के साथ कुछ ठीक नहीं चल रहे. वह इन दिनों अपने पंजाब विधानसभा क्षेत्र के दौरे पर हैं. वहां वह इस बात की थाह ले रहे हैं कि कौन-कौन से नेता उनका समर्थन कर सकते हैं. गांधी परिवार के वफादार मल्लिकार्जुन खड़के भी राष्ट्रीय अध्यक्ष पद की दौड़ में हैं. कहा जा रहा है कि खड़गे अगर चुनाव लड़े तो काफी वोट बटोर सकते हैं. उनका पार्टी के नेताओं का साथ गजब का समन्वय है. इस लाइन में मुकुल वासनिक भी हैं. मुकुल महाराष्ट्र के दलित नेता हैं. इस वक्त वह गांधी परिवार के वफादार और युवा नेता हैं. इन सभी नेताओं की तरह राजस्थान सीएम अशोक गहलोत, भूपिंदर सिंह हूडा, पृथ्वीराज चव्हाण भी पार्टी अध्यक्ष पद की दौड़ में शामिल हैं.

Tags: New Delhi

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर