होम /न्यूज /राष्ट्र /वैक्सीन की अलग-अलग कीमतों पर गरमाई राजनीति, कांग्रेस बोलीं- सरकार ने मुनाफाखोरी की इजाजत दी है

वैक्सीन की अलग-अलग कीमतों पर गरमाई राजनीति, कांग्रेस बोलीं- सरकार ने मुनाफाखोरी की इजाजत दी है

रणदीप सुरजेवाला

रणदीप सुरजेवाला

Corona Vaccinations: रणदीप सुरजेवाला ने कहा, देश में 45 साल से कम उम्र की आबादी 74.35% के आसपास यानी करीब 101 करोड़ है. ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली. भारत में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच 1 मई से 18 से 45 आयु वर्ग के लोगों को वैक्सीन (Corona vaccination 3rd Phase) लगाई जाएगी. वैक्सीनेशन के अगले चरण से पहले वैक्सीन की अलग-अलग कीमतों पर राजनीति गरमा गई है. कांग्रेस ने केंद्र और मोदी सरकार की वैक्सीन नीति पर सवाल खड़ा किया है.

कांग्रेस के मीडिया विभाग के प्रमुख और महासचिव रणदीप सुरजेवाला ने आरोप लगाया है कि देश की दो वैक्सीन निर्माता कंपनियों के भेदभावपूर्ण वैक्सीन मूल्य निर्धारण की वजह से मोदी सरकार दो वैक्सीन निर्माता कंपनियों को 1 लाख 11 हज़ार 100 करोड़ मुनाफा कमाने की इजाज़त दे रही है. सुरजेवाला ने कहा, “मोदी सरकार की वैक्सीन पॉलिसी ने सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक को अपने प्रोडक्शन की 50% वैक्सीन की कीमतें तय करने की इजाजत दे दी है. वो अपनी मर्जी से राज्य सरकारों और निजी संस्थानों को तय कीमतों पर वैक्सीन बेचेंगी. अब इन दोनों ही वैक्सीन कंपनियों ने भेदभाव रहित कीमतें जारी की हैं.”

वैक्सीन के 202 करोड़ डोज की जरूरत
उन्होंने कहा, “देश में 45 साल से कम उम्र की आबादी 74.35% के आसपास यानी करीब 101 करोड़ है. इन लोगों को वैक्सीन लगाने के लिए 202 करोड़ डोज की जरूरत होगी. इतनी आबादी को वैक्सीनेट करने का आधा खर्चा या तो राज्य सरकार उठाएगी या तो लोग खुद उठाएंगे. इससे सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक को 1,11,100 करोड़ रुपए का मुनाफा होगा.”

वैक्सीन आपूर्ति पर भी सवाल हुए खड़े
एक तरफ सुरजेवाला ने वैक्सीन नीति पर सवाल खड़ा किया है तो दूसरी तरफ कांग्रेस शासित राज्यों के स्वास्थ्य मंत्रियों ने 1 मई से 18 साल से 45 साल के उम्र के लोगों को टीकाकरण के लिए वैक्सीन की आपूर्ति पर भी सवाल खड़ा किया है. राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने कहा कि केन्द्र द्वारा कहा गया है कि वैक्सीन सीधे ही सीरम इंस्टीट्यूट को कीमत अदा करके खरीदनी है. जबकि जब अधिकारियों द्वारा सीरम इंस्टीट्यूट से बात की गई तो उन्हें बताया गया कि अभी तक उनके पास वैक्सीन उपलब्ध नहीं है.

सीरम इंस्टीट्यूट इस समय केन्द्र सरकार के साथ हुए कमिटमेंट को भी 15 मई तक पूर्ण नहीं कर पा रहा. इस स्थिति में 18 वर्ष से 45 वर्ष की आयुवर्ग को प्रदेश में वैक्सीनेट करने का कार्य सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा राजस्थान को वैक्सीन उपलब्ध कराने पर ही निर्भर करेगा. पंजाब, छतीसगढ़ और झारखंड के स्वास्थ्य मंत्रियों ने भी इस बात पर सहमति जताई है.

Tags: Congress, Corona vaccine, Corona Vaccine Update, Corona Virus Vaccine Updates, Randeep Surjewala

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें