Assembly Banner 2021

बंगाल चुनाव के लिए कांग्रेस ने जारी की 39 उम्मीदवारों की लिस्ट, अब तक 89 नामों पर मुहर

कांग्रेस ने स्‍टार प्रचारकों की लिस्‍ट जारी की है. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

कांग्रेस ने स्‍टार प्रचारकों की लिस्‍ट जारी की है. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

West Bengal Elections 2021: कांग्रेस अब तक अपने 89 उम्मीदवारों के नामों का ऐलान कर चुकी है. इससे पहले पार्टी ने 34, 13 और तीन उम्मीदवारों की तीन अलग अलग सूचियां जारी की थीं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 21, 2021, 12:15 AM IST
  • Share this:
कोलकाता. कांग्रेस (Congress) ने पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव (West Bengal Assembly Elections) के लिए 39 उम्मीदवारों का ऐलान किया है. इस सूची में सात उम्मीदवार सातवें चरण के लिए, दस उम्मीदवार छठे चरण के लिए, 12 उम्मीदवार सातवें चरण के लिए और 10 उम्मीदवार आठवें चरण के चुनाव के हैं. कांग्रेस अब तक अपने 89 उम्मीदवारों के नामों का ऐलान कर चुकी है. इससे पहले पार्टी ने 34, 13 और तीन उम्मीदवारों की तीन अलग अलग सूचियां जारी की थीं. राज्य विधानसभा चुनाव में वाम दलों और इंडियन सेक्युलर फ्रंट के साथ गठबंधन में उतरी कांग्रेस 92 सीटों पर चुनाव लड़ रही है.

इससे पहले भाजपा ने भी गुरुवार को पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए 157 उम्मीदवारों की एक और सूची जारी की. पार्टी ने जहां दूसरे दलों से आए 22 नेताओं को टिकट देने में तरजीह दी है, वहीं इसने अपने राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकल रॉय, सांसद जगन्नाथ सरकार, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष राहुल सिन्हा और लोक गायक असीम सरकार को भी चुनावी रण में उतारा है. उम्मीदवारों की सूची में महिलाओं सहित 17 मुस्लिम चेहरे भी शामिल हैं.

ये भी पढे़ं- 26 मार्च को भारत बंद और 28 को कृषि कानून की होली जलाएंगे किसान, ये है तैयारी



प्रणब मुखर्जी के बेटे ने कहा- बिना गठबंधन के बढ़ सकता था कांग्रेस का वोट प्रतिशत
वहीं, कांग्रेस के पूर्व सांसद अभिजीत मुखर्जी ने शनिवार को कहा कि कांग्रेस पश्चिम बंगाल में चुनाव यदि वाम के साथ गठबंधन किये बिना लड़ती तो पार्टी का वोट प्रतिशत बढ़ा होता. पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के बेटे अभिजीत ने कहा कि उनकी पार्टी ने केवल वाम मोर्चा के साथ गठबंधन किया है, अब्बास सिद्दीकी के आईएसएफ के साथ नहीं. उन्होंने अरविंद स्टेडियम में एक कार्यक्रम के दौरान संवाददाताओं से कहा, 'यदि पार्टी अकेले चुनाव लड़ती तो कांग्रेस का वोट प्रतिशत बढ़ जाता. यह मेरी निजी राय है. हालांकि, यह जरूरी नहीं है कि वोट प्रतिशत में बढ़ोतरी का मतलब सीटों में बढ़ोतरी ही हो.'

उन्होंने कहा, 'कांग्रेस यदि कोई गठबंधन किये बिना चुनाव लड़ती तो वह अधिक संख्या में सीटों पर चुनाव लड़ सकती थी. जीतने की संभावना अधिक होती. फिर भी, मुझे उम्मीद है कि गठबंधन पश्चिम बंगाल में अगली सरकार बनाएगा.'

ये भी पढ़ें- केरल: 2 विधानसभा सीटों पर BJP और 1 पर अन्नाद्रमुक उम्मीदवार का नामांकन खारिज

कांग्रेस ने पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ टीएमसी और विपक्षी भाजपा का मुकाबला करते हुए विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए वाम मोर्चा और आईएसएफ के साथ गठबंधन किया है. मुखर्जी की टिप्पणी तब आयी है जब गठबंधन के तीनों घटक दलों ने सीट साझा करने की व्यवस्था को अंतिम रूप दे दिया है.

कांग्रेस को पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनावों में 5.67 प्रतिशत वोट मिले थे, जिनमें से अधिकतर मुर्शिदाबाद और मालदा दक्षिण सीट से आए थे जहां पार्टी के उम्मीदवार जीते थे.



पश्चिम बंगाल में आठ चरणों मे विधानसभा चुनाव होंगे. पहले चरण में 27 मार्च को मतदान होगा. (भाषा के इनपुट सहित)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज