खुशबू सुंदर ने सोनिया गांधी को शिकायती चिट्ठी लिखकर छोड़ी कांग्रेस, ज्वाइन की बीजेपी

कांग्रेस छोड़कर बीेजेपी में शामिल हुईं खुशबू सुंदर.
कांग्रेस छोड़कर बीेजेपी में शामिल हुईं खुशबू सुंदर.

सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) को लिखी इस चिट्ठी में खुशबू ने आरोप लगाया कि पार्टी में रहकर उन्हें महसूस होता था कि जमीनी हकीकत से कट चुके नेताओं ने उन्हें लगातार दबाए रखा और इस कदम के लिए मजबूर किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 12, 2020, 2:24 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. फिल्मों से सियासत में आईं एक्‍ट्रेस खुशबू सुंदर (Khushbu Sundar) कांग्रेस (Congress) का हाथ छोड़ने के बाद अब बीजेपी (BJP) में शामिल हो गई हैं. सोमवार को खुशबू सुंदर को दिल्‍ली में बीजेपी मुख्‍यालय में पार्टी की सदस्‍यता दिलाई गई. एक वक्त कांग्रेस के बचाव में बढ़-चढ़कर दलीलें देने वाली खुशबू को बीजेपी में शामिल होने की अटकलों के बीच कांग्रेस ने प्रवक्ता पद से भी हटा दिया था. इसके बाद साउथ एक्‍ट्रेस खुशबू सुंदर ने सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) को अपना इस्तीफा भेज दिया था. इस चिट्ठी में उन्होंने लिखा कि पार्टी में रहकर उन्हें महसूस होता था कि जमीनी हकीकत से कट चुके नेताओं ने उन्हें लगातार दबाए रखा और इस कदम के लिए मजबूर किया.

खुशबू 2014 में कांग्रेस में शामिल होने से पहले द्रमुक में थीं. कांग्रेस सूत्रों का दावा है कि 2019 के लोकसभा चुनाव में टिकट नहीं मिलने के बाद से वह नाराज चल रही थीं. हाल के दिनों में वह कुछ मुद्दों पर कांग्रेस के आधिकारिक रुख से अलग राय जाहिर कर रही थीं. कुछ महीने पहले उन्होंने पार्टी के रुख से इतर नयी शिक्षा नीति का समर्थन किया था.

खुशबू सुंदर के बीजेपी में शामिल होने की अटकलें काफी दिनों से चल रही थी. वह 2014 से अब तक करीब छह साल कांग्रेस के साथ रही हैं, जबकि उन्होंने हाल ही में इस तरह की खबरों का खंडन किया था. उन्होंने रविवार को दिल्ली के लिए रवाना होने के दौरान इस मामले पर कोई भी टिप्पणी करने से मना कर दिया था. इस दौरान जब उनसे पूछा गया कि क्या वह अब भी कांग्रेस में हैं? तो उन्‍होंने कहा, 'मैं कुछ भी कहना नहीं चाहती'. 2014 से कांग्रेस के सत्ता से बाहर होने के बाद उनके राजनीतिक करियर का ग्राफ कुछ समय से खराब हो रहा था.







अब बीजेपी 2021 के विधानसभा चुनाव में तमिलनाडु के मैदान को जीतने के लिए उन्हें मैदान में उतार सकती है. लोकप्रिय स्टार ने पहले भी कुछ पार्टियों की सदस्‍यता ली है. वह 2010 में डीएमके में शामिल हुई थीं. तब डीएमके सत्ता में थी.

उन्होंने एक फिल्म में दिवंगत नेता पेरियार की पत्नी मणियामई की भूमिका निभाई थी, जो मुख्य रूप से तमिलनाडु सरकार द्वारा वित्त पोषित थी. उस समय खुशबू सुंदर ने कहा था, 'मुझे लगता है कि मैंने सही निर्णय लिया है. मुझे लोगों की सेवा करना बहुत पसंद है. मैं महिलाओं की भलाई के लिए काम करना चाहती हूं.'

खुशबू सुंदर की पहली फिल्म ‘द बर्निंग ट्रेन’ थी. इस मूवी के गाने 'तेरी है जमीन तेरा आसमान' में उन्‍होंने काम किया था. उन्होंने कालिया, दर्द का रिश्ता, नसीब और लावारिस जैसी हिंदी फिल्मों में अभिनय किया है. 1986 से वह तमिल फिल्में करने लगीं. खुशबू पहली ऐसी एक्ट्रेस हैं जिनके फैंस ने उनका मंदिर बनवाया है. यह मंदिर तमिलनाडु के तिरुचिरापल्ली में बना है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज