थरूर की ‘हिंदू पाकिस्तान’ टिप्पणी: कांग्रेस ने अपने नेताओं से कहा- संभलकर बोलें

सुरजेवाला ने कहा, 'कांग्रेस के सभी नेताओं को भाजपा के खिलाफ कुछ भी बोलने से पहले इस बात का अहसास होना चाहिए कि यह ऐतिहासिक जिम्मेदारी (मूल्यों कर रक्षा करने की) हमारे कंधों पर है.’

भाषा
Updated: July 12, 2018, 6:29 PM IST
थरूर की ‘हिंदू पाकिस्तान’ टिप्पणी: कांग्रेस ने अपने नेताओं से कहा- संभलकर बोलें
File photo of Congress MP Shashi Tharoor. (PTI Photo)
भाषा
Updated: July 12, 2018, 6:29 PM IST
कांग्रेस ने शशि थरूर के ‘हिंदू पाकिस्तान’ वाले बयान को खारिज करते हुए कहा कि भारत का लोकतंत्र और इसके मूल्य इतने मजबूत हैं कि भारत कभी पाकिस्तान बनने की स्थिति में नहीं जा सकता. पार्टी ने अपने नेताओं को यह नसीहत भी दी कि भाजपा को जवाब देते समय वे पूरी सावधानी बरतें.

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर आरोप लगाया, ‘मोदी सरकार ने पिछले चार सालों में विभाजन, कट्टरता, घृणा, असहिष्णुता और ध्रुवीकरण का माहौल पैदा किया है.’

उन्होंने कहा, ‘दूसरी तरफ, कांग्रेस बहुलवाद, विविधता, विभिन्न धर्मो और समुदायों के बीच भाईचारा और सद्भाव के सभ्यतागत मूल्यों का प्रतिनिधित्व करती है.’



सुरजेवाला ने कहा, ‘भारत के मूल्य और मूल सिद्धांत हमारी सभ्यतागत भूमिका की स्पष्ट गारंटी देते हैं. कांग्रेस के सभी नेताओं को भाजपा के खिलाफ कुछ भी बोलने से पहले इस बात का अहसास होना चाहिए कि यह ऐतिहासिक जिम्मेदारी (मूल्यों कर रक्षा करने की) हमारे कंधों पर है.’



इससे पहले कांग्रेस नेता जयवीर शेरगिल ने कहा, ‘भारत का लोकतंत्र इतना मजबूत है कि सरकारें आती जाती रहें, लेकिन यह देश कभी पाकिस्तान नहीं बन सकता. भारत एक बहुभाषी और बहुधर्मी देश है.’

उन्होंने कहा, ‘मैं कांग्रेस के हर नेता और कार्यकर्ता से आग्रह करूंगा कि वे इस बात का ध्यान रखें कि किस तरह के बयान देने हैं.’

शेरगिल ने कहा, ‘चाहे भाजपा अपने नेताओं के विवादित बयानों पर चुप्पी साध ले, चाहे भाजपा आईएसआई को भारत बुलाए, चाहे भाजपा जम्मू-कश्मीर के चुनाव के लिए पाकिस्तान का शुक्रिया अदा करे, चाहे भाजपा के मंत्री अपराधियों को हार पहनाकर इस देश के संविधान को हरा दें, लेकिन हमें बोलने में सावधानी बरतनी चाहिए.’

खबरों के मुताबिक, थरूर ने तिरुवनंतपुरम में कहा कि भारतीय जनता पार्टी अगर साल 2019 में जीतती है, तो वह नया संविधान लिखेगी, जिससे यह देश पाकिस्तान बनने की राह पर अग्रसर होगा जहां अल्पसंख्यकों के अधिकारों का कोई सम्मान नहीं किया जाता है.

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर