अपना शहर चुनें

States

जम्‍मू: पेट्रोल-डीजल की बढ़ी हुई कीमतों के विरोध में कांग्रेस ने किया प्रदर्शन

जम्मू कश्मीर प्रदेश कांग्रेस ने पेट्रोल और डीजल की बढ़ी हुई कीमतों पर सरकार की आलोचना की .
जम्मू कश्मीर प्रदेश कांग्रेस ने पेट्रोल और डीजल की बढ़ी हुई कीमतों पर सरकार की आलोचना की .

Petrol-Diesel Price Hike: पेट्रोल और डीजल की बढ़ी हुई कीमतों पर केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए जम्‍मू-कश्‍मीर प्रदेश कांग्रेस ने सोमवार को जम्‍मू में प्रदर्शन किया. उप राज्‍यपाल आवास की ओर बढ़ रहे कार्यकर्ताओं को बीच में ही पुलिस ने रोक लिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 22, 2021, 7:45 PM IST
  • Share this:
जम्मू. जम्मू-कश्मीर प्रदेश कांग्रेस (Jammu Kashmir Pradesh Congress) ने पेट्रोल और डीजल की बढ़ी हुई कीमतों पर सोमवार को केंद्र सरकार की आलोचना की और कहा कि सरकार लोगों की परेशानियां दूर करने के बजाय लाभ कमाने को तरजीह दे रही है. पार्टी कार्यकर्ताओं ने यहां विरोध प्रदर्शन किया और ईंधन की कीमत में बढ़ोतरी को वापस लेने की मांग की.

वरिष्ठ कांग्रेस नेता रमन भल्ला ने कहा कि मध्य वर्ग और हाशिये पर पहुंचे लोग संघर्ष कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि महंगाई और घरेलू सामान तथा आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में बढ़ोतरी से लोगों की समस्याओं में इजाफा हुआ है. उन्होंने कहा, “दुखद है कि इस संकट भरे समय में सरकार लोगों की दिक्कतों को दूर करने के बजाय मुनाफा कमाने को तरजीह दे रही है.”

ये भी पढ़ें :- क्या पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों से मिलेगी राहत? RBI गर्वनर शक्तिकांत दास ने दिया ये सुझाव



कार्यकर्ताओं की पुलिस के साथ झड़प
कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन में तख्तियां प्रदर्शित की और नारे लगाए. वह जम्मू-कश्मीर के उप राज्यपाल आवास की ओर बढ़ रहे थे, लेकिन पुलिस ने उन्हें बीच रास्ते में ही रोक दिया. प्रदर्शन के दौरान कुछ कार्यकर्ताओं की पुलिस के साथ झड़प हो गई. कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं ने कहा कि सरकार को तत्‍‍काल कीमतोंं पर नियंंत्रण  करना चाहिए.

ये भी पढ़ें :- पेट्रोल-डीजल के बढ़े दाम तो साइकिल से ऑफिस गए राबर्ट वाड्रा, वित्‍त मंत्री से की खास मांग

केंद्रीय मंत्री ने गिनाए थे कारण
केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान (Dharmendra Pradhan) ने पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी के कारण गिनाए हैं. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि कीमतें बढ़ने के दो प्रमुख कारण हैं. उन्होंने कहा, "पहला कि अंतरराष्ट्रीय बाजार ने तेल उत्पादन और मैन्युफैक्चरिंग को कम कर दिया है. तेल उत्पादक देश ज्यादा से ज्यादा मुनाफा कमाने के लिए तेल का उत्पादन कम कर रहे हैं. इसकी वजह से तेल के उपभोक्ता देशों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है." उन्होंने कहा, "हम लगातार ओपेक और ओपेक प्लस देशों से आग्रह कर रहे हैं कि ऐसा नहीं होना चाहिए. उम्मीद है कि इसमें बदलाव आएगा."

कोरोना वायरस महामारी भी बड़ा कारण
पेट्रोलियम मंत्री ने कहा, "दूसरा कारण कोरोना वायरस महामारी है. हमें बहुत सारे विकास कार्य करने हैं. इसके लिए केंद्र और राज्य सरकारों को टैक्स कलेक्ट करना होता है, ताकि ज्यादा से ज्यादा विकास कार्यों पर खर्च हो और जनता को रोजगार मिले. केंद्र सरकार ने अपना निवेश बढ़ाया है और इस बार के बजट में 34 फीसदी ज्यादा खर्च का प्रावधान रखा गया है." प्रधान ने कहा, "राज्य सरकारें भी अपना खर्च बढ़ा रही हैं, लिहाजा हमें टैक्स की जरूरत है, लेकिन बैलेंस भी बना रहना चाहिए. मुझे विश्वास है कि वित्तमंत्री कोई ना कोई रास्ता जरूर निकालेंगी."
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज