होम /न्यूज /राष्ट्र /

गुलाम नबी आजाद के आरोप के बाद कांग्रेस का पलटवार, कहा- उनसे पूछकर ही किया गया था कमिटी का गठन

गुलाम नबी आजाद के आरोप के बाद कांग्रेस का पलटवार, कहा- उनसे पूछकर ही किया गया था कमिटी का गठन

कांग्रेस सूत्रों ने बताया कि गुलाम नबी आजाद से विचार-विमर्श के बाद जम्मू-कश्मीर इकाई के लिए नियुक्तियां की गईं. (फ़ाइल फोटो)

कांग्रेस सूत्रों ने बताया कि गुलाम नबी आजाद से विचार-विमर्श के बाद जम्मू-कश्मीर इकाई के लिए नियुक्तियां की गईं. (फ़ाइल फोटो)

कांग्रेस ने अपने वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद से विचार-विमर्श के बाद मंगलवार को अपनी जम्मू-कश्मीर इकाई के लिए नियुक्तियां कीं तथा इनको लेकर उनकी भी सहमति थी.

हाइलाइट्स

कांग्रेस सूत्रों ने बताया कि गुलाम नबी आजाद से पूछकर ही कमिटी का गठन किया गया था.
गुलाम नबी आजाद ने पार्टी द्वारा दी गई जिम्मेदारी की स्वीकार करने से इनकार कर दिया.
कांग्रेस के सूत्रों का कहना है कि आजाद से चार बार मीटिंग की गई थी.

नई दिल्ली. कांग्रेस ने अपने वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद से विचार-विमर्श के बाद मंगलवार को अपनी जम्मू-कश्मीर इकाई के लिए नियुक्तियां कीं तथा इनको लेकर उनकी भी सहमति थी. पार्टी सूत्रों ने बुधवार को यह जानकारी दी. आजाद को मंगलवार को प्रदेश कांग्रेस कमेटी की चुनाव अभियान समिति का प्रमुख और उनके करीबी माने जाने वाले वकार रसूल वानी को प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया गया था. आजाद ने जिम्मेदारी स्वीकार करने से इनकार कर दिया. आजाद पार्टी के उस तथाकथित ‘जी 23’ समूह के प्रमुख सदस्य हैं जो पार्टी में सक्रिय नेतृत्व और संगठन में आमूल-चूल परिवर्तन की पैरवी करता रहा है.

कांग्रेस से जुड़े सूत्रों का कहना है कि जम्मू-कश्मीर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पुनर्गठन के संदर्भ में आजाद के साथ पार्टी नेताओं की चार दौर की बैठकें हुई थीं और उनके साथ आखिरी दौर की बातचीत 14 जुलाई को हुई थी. उन्होंने कहा कि प्रदेश कांग्रेस कमेटी के लिए जिन नेताओं पर निर्णय लिया गया उनके नाम आजाद द्वारा दी गई सूची में शामिल थे. सूत्रों ने यह भी कहा कि जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री आजाद उस वक्त भी चुनाव अभियान समिति के प्रमुख रह चुके हैं जब सैफुद्दीन सोज प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष थे.

सूत्रों ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने आजाद द्वारा दी गई सूची में से नामों को चुना. इस बीच खबर आई कि आजाद प्रचार समिति के प्रमुख के रूप में चुने जाने से नाखुश थे क्योंकि उन्हें लगा कि यह उनकी वरिष्ठता से कम है. कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल की ओर से जारी विज्ञप्ति के अनुसार, सोनिया गांधी ने जम्मू-कश्मीर कांग्रेस कमेटी के लिये चुनाव अभियान समिति और राजनीतिक मामलों की समिति (पीएसी) समेत सात समितियों का भी गठन किया. वेणुगोपाल ने कहा कि सोनिया ने गुलाम अहमद मीर का प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा स्वीकार कर लिया और उनके स्थान पर रसूल वानी को अध्यक्ष नियुक्त किया.

Tags: Congress, Ghulam nabi azad

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर