आर्टिकल 370 पर बंटी कांग्रेस, जनार्दन द्विवेदी बोले- मोदी सरकार ने सुधारी ऐतिहासिक गलती

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जनार्दन द्विवेदी ने अपनी पार्टी के रुख के विपरीत राय रखते हुए कहा कि सरकार ने एक 'ऐतिहासिक गलती' सुधारी है.

भाषा
Updated: August 6, 2019, 9:23 AM IST
आर्टिकल 370 पर बंटी कांग्रेस, जनार्दन द्विवेदी बोले- मोदी सरकार ने सुधारी ऐतिहासिक गलती
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जनार्दन द्विवेदी ने कहा कि सरकार ने एक 'ऐतिहासिक गलती' सुधारी है.
भाषा
Updated: August 6, 2019, 9:23 AM IST
जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने और राज्य को दो केंद्रशासित क्षेत्रों में बांटने के केंद्र सरकार के कदम का विपक्षी कांग्रेस के भी कई नेताओं ने समर्थन किया है. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जनार्दन द्विवेदी ने अपनी पार्टी के रुख के विपरीत राय रखते हुए कहा कि सरकार ने एक 'ऐतिहासिक गलती' सुधारी है.

जनार्दन द्विवेदी ने कहा कि यह राष्ट्रीय संतोष की बात है कि स्वतंत्रता के समय की गई गलती को सुधारा गया है. उन्होंने कहा, 'यह बहुत पुराना मुद्दा है. स्वतंत्रता के बाद कई स्वतंत्रता संग्राम सेनानी नहीं चाहते थे कि अनुच्छेद 370 रहे. मेरे राजनीतिक गुरु राम मनोहर लोहिया शुरू से ही अनुच्छेद 370 का विरोध करते थे. मेरे व्यक्तिगत विचार से तो यह एक राष्ट्रीय संतोष की बात है.'

कांग्रेस नेता दीपेंद्र हुड्डा ने भी जम्मू-कश्मीर को लेकर नरेंद्र मोदी सरकार के कदम का समर्थन किया


वहीं कांग्रेस नेता दीपेंद्र हुड्डा ने भी जम्मू-कश्मीर को लेकर नरेंद्र मोदी सरकार के कदम का समर्थन करते हुए सोमवार को कहा कि यह निर्णय देश की अखंडता और जम्मू-कश्मीर के हित में हैं. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि यह उनकी निजी राय है.

हुड्डा ने ट्वीट किया, 'मेरी व्यक्तिगत राय रही है कि 21वीं सदी में अनुच्छेद 370 का औचित्य नहीं है और इसको हटना चाहिए. ऐसा सिर्फ देश की अखण्डता के लिए ही नहीं, बल्कि जम्मू-कश्मीर जो हमारे देश का अभिन्न अंग है, के हित में भी है.' उन्होंने कहा, 'अब सरकार की यह ज़िम्मेदारी है की इस का क्रियान्वयन शांति व विश्वास के वातावरण में हो.'

हालांकि इन दोनों नेताओं की राय कांग्रेस की आधिकारिक लाइन बिल्कुल अलग प्रतीत हो रही है, जिसने सरकार के इस फैसले को देश का सिर काटने वाला और भारत के साथ गद्दारी करार दिया है. राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि सरकार ने चीन और पाकिस्तान की सीमा से लगे संवेदनशील राज्य के साथ खिलवाड़ किया है जिसका उनकी पार्टी और दूसरे विपक्षी दल पुरजोर विरोध करेंगे.

गुलाम नबी आजाद ने सरकार के इस फैसले को देश का सिर काटने वाला और भारत के साथ गद्दारी करार दिया है

Loading...

आजाद ने कहा कि जम्मू-कश्मीर जैसे सीमावर्ती राज्य में वहां की जनता को साथ लिए बिना सिर्फ सेना की बदौलत दुश्मन से नहीं लड़ा जा सकता. 1927 के बाद ऐसी अनहोनी संसद के द्वारा की जा रही है. जम्मू-कश्मीर को भारत के साथ बनाए रखने के लिए लाखों लोगों ने कुर्बानी दी है. जब भी आतंकवाद हुआ उसका मुकाबला कश्मीर की जनता, वहां की मुख्यधारा की पार्टियां और हमारे सुरक्षा बलों ने किया.

कांग्रेस नेता ने कहा कि जम्मू-कश्मीर को एक सूत्र में बांधकर 370 ने रखा था, लेकिन भाजपा की सरकार ने सत्ता के नशे में और वोट हासिल करने के लिए राजनीति, संस्कृति और भूगोल से भिन्न तरह के राज्य जम्मू-कश्मीर में एक झटके में तीन-चार चीजों को खत्म कर दिया. यह हिंदुस्तान की तारीख में काले शब्दों में लिखा जाएगा.

गौरतलब है कि सरकार ने जम्मू कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा प्रदान करने संबंधी अनुच्छेद 370 समाप्त करने और राज्य को दो केंद्रशासित प्रदेशों.... जम्मू कश्मीर तथा लद्दाख में विभाजित करने का फैसला किया है. इससे संबंधित दो संकल्पों एवं एक विधेयक को सोमवार को राज्यसभा की मंजूरी मिल गई.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 6, 2019, 9:23 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...