बीजेपी में शामिल हुए विधायकों के खिलाफ अयोग्यता की याचिका दायर करेगी कांग्रेस

10 विधायकों के बीजेपी में शामिल होने के बाद जीएफपी के अध्यक्ष विजई सरदेसाई ने आरोप लगाया था कि एनडीए ने अपने सहयोगियों को धोखा दिया है

News18Hindi
Updated: August 7, 2019, 7:37 PM IST
बीजेपी में शामिल हुए विधायकों के खिलाफ अयोग्यता की याचिका दायर करेगी कांग्रेस
गोवा में कांग्रेस बागियों की फाइल फोटो
News18Hindi
Updated: August 7, 2019, 7:37 PM IST
कांग्रेस पिछले महीने भारतीय जनता पार्टी का दामन थामने वाले अपने दस पूर्व सदस्यों को अयोग्य घोषित करने की मांग करते हुए गोवा विधानसभा अध्यक्ष के समक्ष गुरुवार को एक याचिका दायर करेगी. पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने बुधवार को यह जानकारी दी.

गोवा प्रदेश कांग्रेस कमेटी (जीपीसीसी) अध्यक्ष गिरीश चोडनकर ने पीटीआई-भाषा को बताया यह याचिका गोवा विधानसभा अध्यक्ष राजेश पाटणकर के समक्ष पेश की जायेगी.

उन्होंने कहा, ‘‘यह याचिका भारतीय संविधान की दसवीं अनुसूची के तहत दायर की जाएगी क्योंकि इन्होंने (विधायकों) दल-बदल कानून का उल्लंघन किया है.’’

यह भी पढ़ें:  पूर्व मुख्यमंत्री की विवादित टिप्पणी- गोवा की लड़कियां कोमल

10 विधायक हुए थे शामिल

गौरतलब है कि विपक्ष के तत्कालीन नेता चंद्रकांत कावेलकर के नेतृत्व में कांग्रेस के दस विधायक तकरीबन एक महीने पहले बीजेपी में शामिल हो गए थे. उसके बाद कांग्रेस के विधायकों की संख्या 15 से घटकर 5 पर आ गई थी और बीजेपी के विधायकों की संख्या 17 से बढ़कर 27 हो गई थी. कांग्रेस विधायकों के पार्टी में आने से 40 सदस्यों वाली विधानसभा में बीजेपी को पूर्ण बहुमत मिल गया.

इन विधायकों में कावेलकर के अलावा अतानासियो मान्सरेट, जेनिफर मान्सरेट, फ्रांसिस सिलवीरा, फिलिप नेरी रॉड्रिक्स, क्लाफेसियो डायस, विलफ्रेड डी सा, नीलकांत हलरनकर, इसिडोर फर्नांडिस और एंतोनियो फर्नांडिस हैं.
Loading...

यह भी पढ़ें:   गोवा: 80% नौकरियां स्थानीय लोगों को देने की तैयारी में सरकार

सरदेसाई ने लगाया था आरोप

10 विधायकों के बीजेपी में शामिल होने के बाद जीएफपी के अध्यक्ष विजई सरदेसाई ने आरोप लगाया था कि एनडीए ने अपने सहयोगियों को धोखा दिया है, जिनके साथ 2017 में सरकार बनाई थी.

सरदेसाई, GFP के दो मंत्रियों के साथ और एक निर्दलीय को फेरबदल से पहले मंत्रिमंडल से बाहर कर दिया गया था. नए मंत्रिमंडल में चंद्रकांत को शामिल किया गया. वहीं गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने गोवा फॉरवर्ड पार्टी (GFP) के उन आरोपों को खारिज किया.

सावंत ने चार मंत्रियों के शपथ ग्रहण समारोह के बाद संवाददाताओं से कहा था,'हमने किसी को धोखा नहीं दिया है हमने अपने केंद्रीय नेतृत्व के निर्देशों के अनुसार फैसला लिया है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने केंद्रीय नेतृत्व से कहा था कि कि भाजपा सदन में 40 में से 27 विधायकों के साथ पूर्ण बहुमत वाली सरकार हो जाएगी. सावंत ने कहा कि, 'मैं किसी को दोष नहीं देना चाहता. मैं सिर्फ प्रशासन को कारगर बनाना चाहता था.' सरदेसाई ने कांग्रेस विधायकों को शामिल करने को 'दिवंगत मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर की विरासत की मौत' कहा था.
First published: August 7, 2019, 7:11 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...