होम /न्यूज /राष्ट्र /यूक्रेन मामले पर शशि थरूर के बयान से कांग्रेस ने झाड़ा पल्ला, दिया ऐसा रिएक्शन

यूक्रेन मामले पर शशि थरूर के बयान से कांग्रेस ने झाड़ा पल्ला, दिया ऐसा रिएक्शन

कांग्रेस नेता आनंद शर्मा. ( फाइल फोटो)

कांग्रेस नेता आनंद शर्मा. ( फाइल फोटो)

यूक्रेन पर रूस के आक्रमण को लेकर हुई संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की अनुपस्थिति को लेकर कांग्रेस सांसद शशि ...अधिक पढ़ें

नई दिल्‍ली. यूक्रेन पर रूस के आक्रमण को लेकर हुई संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की अनुपस्थिति को लेकर कांग्रेस सांसद शशि थरूर  (Congress Leader Shashi Tharoor) के बयान से परहेज करते हुए कांग्रेस (Congress) पार्टी की ओर से सोमवार को आधिकारिक बयान जारी किया गया. इस बयान में थरूर के बयान को पर्सनल बताते हुए सलाह दी गई कि ऐसे शब्‍दों का इस्‍तेमाल नहीं किया जाना चाहिए. यह बात पार्टी के विदेश मामलों के विभाग के प्रमुख और पूर्व केंद्रीय मंत्री आनंद शर्मा (Anand Sharma) ने एक बयान में कही.

पूर्व केंद्रीय मंत्री आनंद शर्मा के बयान में कहा गया है कि मिन्स्क और रूस-नाटो समझौतों और पहले की समझ का सम्मान करते हुए, रूस और यूक्रेन के बीच सभी मुद्दों पर बातचीत के समाधान के लिए राजनयिक वार्ता के मार्ग को पूरी ईमानदारी से अपनाया जाना चाहिए. दरअसल आधिकारिक बयान कहीं अधिक कूटनीतिक है और संयुक्त राष्ट्र में एक वोट से परहेज करने के बाद सरकार के रुख के समान है. कांग्रेस के बयान में कहा गया है कि कांग्रेस ने अपनी पीड़ा व्यक्त करते हुए यह माना है कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को सशस्त्र संघर्ष को समाप्त करने, मानव जीवन को बचाने के लिए शांति बहाली और संकट को खत्‍म करने के लिए मिलकर काम करना चाहिए.

कांग्रेस ने रूस और यूक्रेन के बीच ‘शत्रुता का प्रकोप’ और सैन्य संघर्ष को दुनिया के लिए ‘गंभीर चिंता का विषय’ कहा है. पार्टी ने अपने बयान में सावधानीपूर्वक शब्दों का चयन किया है और रूस को हमलावर कहने से भी बचाव किया है. कांग्रेस ने लगभग उन्हीं शब्दों का प्रयोग किया है जो सरकार ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में वोट की व्याख्या के दौरान, अमेरिका द्वारा प्रायोजित एक प्रस्ताव से परहेज करने के बाद किया था. इसमें यूक्रेन के खिलाफ रूस की आक्रामकता की कड़ी निंदा की गई थी.

भारत ने कूटनीति के रास्ते पर लौटने का आह्वान करते हुए कहा था कि सभी सदस्य देशों को अंतरराष्ट्रीय कानून और संयुक्त राष्ट्र चार्टर के सिद्धांतों का सम्मान करना चाहिए, क्योंकि ये आगे एक रचनात्मक रास्ता प्रदान करते हैं. बयान में राज्यों की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता का सम्मान करने और हिंसा और शत्रुता को तत्काल समाप्त करने का आह्वान किया गया था. यह बात गुरुवार को एक फोन कॉल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को कही गई थी.

एक बार फिर सांसद शशि थरूर को समझाया

कांग्रेस नेता शशि थरूर के बयान पर पार्टी नेता आनंद शर्मा ने कहा कि उनके सहयोगी ( शशि थरूर) के विचार ‘व्यक्तिगत हैं’ और टिप्पणी की, कि ऐसे कड़े शब्दों का इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए. थरूर ने कहा कि हमारे अनुपस्थित रहने के बाद, कई लोगों ने खेद व्यक्त किया कि भारत ने खुद को ‘इतिहास के गलत पक्ष’ पर रखा है.

Tags: Anand sharma, Congress, Congress Leader Shashi Tharoor

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें