लाइव टीवी

Ayodhya Verdict: क्या सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर पार्टी लाइन तय करने को लेकर संशय में थी कांग्रेस?

Ranjita Jha | News18Hindi
Updated: November 9, 2019, 2:51 PM IST
Ayodhya Verdict: क्या सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर पार्टी लाइन तय करने को लेकर संशय में थी कांग्रेस?
क्या हो पार्टी लाइन इस बात एकमत नहीं थी कांग्रेस

अयोध्या जमीन विवाद (Ayodhya Land Dispute) मामले पर भी पार्टी लाइन तय करने में कांग्रेस (Congress) को खासी परेशानी हुई. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) के दखल के बाद ही पार्टी की आधिकारिक लाइन तय हो पाई. इससे पहले धारा 370 (Article 370) के मसले पर पार्टी अलग-अलग गुटों में बंटी दिखाई पड़ी थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 9, 2019, 2:51 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अयोध्या जमीन विवाद मामले (Ayodhya Land Dispute) पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के ऐतिहासिक फैसले को लेकर अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (AICC) की क्या लाइन हो इस पर कांग्रेस वर्किंग कमिटी (CWC) की बैठक में काफी देर चर्चा होती रही. कांग्रेस के जानकार सूत्रों की मानें तो सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) और राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के बाद 4 वरिष्ठ नेता इस बात पर अड़े थे कि 'कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हैं' पार्टी को इस लाइन से आगे नहीं बढ़ना चाहिए. हालांकि थोड़ी देर चर्चा के बाद पार्टी ने अपनी अधिकृत लाइन तय कर ली थी.

CWC में लगी मुहर
सोनिया गांधी के आवास 10 जनपथ पर हुई CWC की बैठक में सभी वर्किंग कमेटी सदस्य, महासचिव, प्रदेश प्रभारी, कई राज्यों के अध्यक्ष, स्पेशल इनवाइटी भी शामिल हुए. फैसले से पहले पार्टी लाइन तय करने को लेकर ये बैठक थी. बैठक की शुरुआत ही इसी बात से हुई कि फैसला अगर रामलला के पक्ष में आया तो कांग्रेस की क्या आधिकारिक लाइन होनी चाहिए? पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं ने कहा कि कांग्रेस सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करती है, इससे आगे पार्टी को बयान नहीं देना चाहिए.

गलत मैसेज जाने का अंदेशा

वहीं बैठक में आए दूसरे नेताओं ने इसका विरोध किया. उन्होंने कहा कि देश का जो माहौल है ऐसे में कांग्रेस अगर राम मंदिर बनाने के पक्ष में बयान नहीं दिखती है तो ऐसा लगेगा कि पार्टी हिन्दू समाज के विरोध में है, इस पर सभी नेताओं की बात सुनने के बाद सोनिया गांधी ने पार्टी के लिए ये लाइन तय की कि मीडिया के सवाल जवाब में पार्टी खुलकर राम मंदिर के निर्माण के पक्ष में बयान दे. नेताओं को ये निर्देश भी दिया गया कि कोई भी पार्टी लाइन से अलग बयान मीडिया में न दें. साथ ही बैठक में सुप्रीम कोर्ट के फैसले का 'सम्मान' और 'स्वागत' को लेकर भी बहस हुई. कुछ नेताओं का ये तर्क था कि पार्टी को SC के फैसले में किसी भी पक्ष की तरफ नहीं दिखना चाहिए.

इससे पहले कांग्रेस धारा 370 हटाए जाने के फैसले पर भी दो गुटों में बंटी दिखाई दी थी. एक तरफ जहां सदन में पार्टी 370 को हटाने के विरोध में थी, वहीं कई युवा नेताओं ने इसके समर्थन में सोशल मीडिया पर खुलकर लिखा था. इसी को देखते हुए कांग्रेस ने ऐहतियातन फैसला आने के साथ ही पार्टी लाइन तय कर ली.

ये भी पढ़ें -
Loading...

Ayodhya Verdict: सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर इस मुस्लिम स्कॉलर ने कही ये बड़ी बात
Ayodhya Case Verdict: अयोध्या विवाद में सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर यह बोले महात्मा गांधी के प्रपौत्र तुषार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 9, 2019, 2:45 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...