लाइव टीवी

बदले जम्मू-कश्मीर में पहली बार 26 नवंबर को मनाया जाएगा 'संविधान दिवस'

भाषा
Updated: November 25, 2019, 8:31 PM IST
बदले जम्मू-कश्मीर में पहली बार 26 नवंबर को मनाया जाएगा 'संविधान दिवस'
जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद-370 के अधिकतर प्रावधानों को खत्म करने और वर्ष 1957 से लागू राज्य संविधान भंग होने के बाद पहली बार 26 नंवबर को संविधान दिवस मनाया जाएगा (फाइल फोटो, PTI)

जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के सामान्य प्रशासन विभाग (Department of General Administration) के अतिरिक्त सचिव सुभाष सी छिब्बर ने कहा, 'सरकारी कार्यालय (Government office) सहित सभी संस्थानों में सुबह 11 बजे संविधान की प्रस्तावना (Preamble of Constitution) को पढ़ा जाएगा.'

  • Share this:
जम्मू. जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) में अनुच्छेद-370 (Article 370) के अधिकतर प्रावधानों को खत्म करने और वर्ष 1957 से लागू राज्य संविधान (State Constitution) भंग होने के बाद पहली बार 26 नंवबर को भारत का संविधान (Indian Constitution) अंगीकार करने की 70वीं सालगिरह मनाया जाएगा.

जम्मू-कश्मीर के सामान्य प्रशासन विभाग के अतिरिक्त सचिव सुभाष सी छिब्बर ने सरकार की ओर से जारी आदेश में कहा, 'संविधान निर्माताओं (Makers of Constitution) के योगदान के प्रति आभार प्रकट करने और इसमें शामिल उत्कृष्ट मूल्यों और नियमों के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए 26 नवंबर को संविधान दिवस (Constitution Day) के रूप में मनाया जाएगा. इस वर्ष संविधान स्वीकार करने की 70वीं सालगिरह है.'

सरकारी कार्यालयों सहित सभी संस्थानों में पढ़ी जाएगी संविधान की प्रस्तावना
जम्मू-कश्मीर के सामान्य प्रशासन विभाग (Department of General Administration) के अतिरिक्त सचिव सुभाष सी छिब्बर ने कहा, 'सरकारी कार्यालय सहित सभी संस्थानों में सुबह 11 बजे संविधान की प्रस्तावना को पढ़ा जाएगा और इसके बाद लोग मौलिक कर्तव्यों का अनुपालन करने की शपथ लेंगे.'

आदेश के मुताबिक, ‘मंडलायुक्त (Commissioner), जिला उपायुक्त, विभागों के प्रमुख, सभी पुलिस प्रतिष्ठान यह सुनिश्चित करें कि उनके सभी अधीनस्थ कार्यालय प्रस्तावना को पढ़े और मौलिक कर्तव्यों के अनुपालन की शपथ लें.'

1949 में 26 जनवरी को ही भारत का संविधान किया गया था अंगीकार
देशव्यापी अभियान के तहत नव गठित केंद्र शासित प्रदेश (Union Territory) में भी मंगलवार को मौलिक कर्तव्यों को लेकर अभियान की शुरुआत होगी और इसका समापन अगले साल 14 अप्रैल को डॉ. भीमराव अंबेडकर (Dr Bhimrao Ambedkar) की जयंती पर होगा.
Loading...

गौरतलब है कि 26 नवंबर का ऐतिहासिक महत्व है. 1949 में इसी दिन भारत के संविधान को अंगीकार (Adopt) किया गया और 26 जनवरी 1950 को यह पूरी तरह से प्रभावी हुआ और देश गणतंत्र (Republic) बना.

यह भी पढ़ें: कश्मीर में स्थिति हो रही सामान्य, पहले के मुकाबले अधिक वाहन नजर आये

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 25, 2019, 7:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...