Home /News /nation /

corona cases rising in bengaluru hospitalisation doubled in 10 days new guidelines

बेंगलुरूः कोरोना की वजह से अस्पताल जाने वाले 10 दिन में हुए दोगुने, नई गाइडलाइंस जारी

बेंगलुरू में कोरोना से सोमवार को एक दिन में 72 लोग अस्पताल पहुंचे, जिनमें से 10 आईसीयू में भर्ती हुए. (फाइल फोटो)

बेंगलुरू में कोरोना से सोमवार को एक दिन में 72 लोग अस्पताल पहुंचे, जिनमें से 10 आईसीयू में भर्ती हुए. (फाइल फोटो)

Corona in Bengaluru: BBMP के स्पेशल कमिश्नर (हेल्थ) डॉ. केवी त्रिलोक चंद्रा ने बताया कि बेंगलुरू में रोजाना करीब 17 हजार टेस्ट हो रहे हैं, जिनमें से 600 से 700 टेस्ट पॉजिटिव आ रहे हैं. सोमवार को शहर में 72 लोग कोरोना की वजह से अस्पताल पहुंचे, जिनमें से 10 आईसीयू में, 3 हाई डिपेन्डेंसी यूनिट में और 59 जनरल वॉर्ड में थे. उन्होंने कहा कि केस जरूर बढ़ रहे हैं, लेकिन मौतें कम हैं, ऐसे में ज्यादा चिंता की जरूरत नहीं है.

अधिक पढ़ें ...

बेंगलुरू. देश में कोविड केसों में आए उछाल के बीच अस्पताल में भर्ती होने वाले कोरोना मरीजों की संख्या भी बढ़ रही है. बेंगलुरू में पिछले 10 दिनों के अंदर कोरोना की वजह से अस्पतालों में भर्ती होने वाले लोगों की संख्या दुगुनी हो गई है. सोमवार को 72 लोग अस्पताल पहुंचे, जिनमें से 10 आईसीयू में भर्ती हुए. हालात को देखते हुए प्रशासन ने कोरोना गाइडलाइंस में फेरबदल किया है. अब अगर किसी अपार्टमेंट में 3 से 5 केस मिलते हैं तो उसे स्मॉल क्लस्टर माना जाएगा और उस फ्लोर पर रहने वाले सभी लोगों के रैपिड एंटीजन टेस्ट किए जाएंगे.

बृहद बेंगलुरू महानगर पालिका (BBMP) की तरफ से जारी बुलेटिन में बताया गया कि सोमवार को शहर में 72 लोग कोरोना की वजह से अस्पताल पहुंचे, जबकि 16 जून तक इनकी संख्या 31 थी. डेक्कन हेराल्ड के मुताबिक, BBMP के स्पेशल कमिश्नर (हेल्थ) डॉ. केवी त्रिलोक चंद्रा ने बताया कि इन 72 मरीजों में से मंगलवार को 10 आईसीयू में थे, 3 हाई डिपेन्डेंसी यूनिट में और 59 जनरल वॉर्ड में थे. उनका कहना है कि अधिकतर मरीज ऐसे हैं, जिन्हें पहले से बीमारियां हैं और वो एहतियात के तौर पर खुद ही अस्पताल में भर्ती हुए हैं

डॉ. त्रिलोक चंद्रा ने कहा कि कोरोना की वजह से अस्पताल जाने वाले मरीजों की संख्या बढ़ जरूर रही है, लेकिन इनमें से ज्यादातर मरीजों में गंभीर लक्षण नहीं हैं. रोजाना करीब 17 हजार टेस्ट किए जा रहे हैं, जिनमें से 600 से 700 टेस्ट पॉजिटिव आ रहे हैं. इनमें अधिकतर बिना लक्षण वाले हैं. उन्होंने ये भी कहा कि कोरोना केसों में बढ़ोतरी जरूर हो रही है लेकिन इसके मुकाबले मौतों की संख्या नहीं बढ़ी है. ऐसे में ज्यादा चिंता करने की जरूरत नहीं है.

डॉ. चंद्रा ने बताया कि पिछले हफ्ते कोरोना मरीजों के 40 सैंपल जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजे गए थे. जांच से पता चला कि उनमें ओमिक्रोन के BA.4 और BA.5 वैरिएंट्स मिले. ये सिर्फ बेंगलुरू में ही नहीं, पूरी दुनिया में इस वक्त अस्पताल जाने वाले कोरोना मरीजों में BA.5 को जिम्मेदार माना जा रहा है. स्टेट कोविड वॉर रूम की रिपोर्ट के मुताबिक, बेंगलुरू में 19 से 26 जून के बीच 3161 एक्टिव केस थे. इनमें से 7 ही ऐसे थे, जिनका लगातार 7 दिन तक इलाज चला.

TOI के मुताबिक, बढ़ते कोरोना केसों को देखते हुए नई गाइडलाइंस जारी की गई हैं. बेंगलुरू में इतने ज्यादा केस सामने क्यों आ रहे हैं, इस सवाल पर डॉ. चंद्रा का कहना था कि कोरोना की पहली लहर से ही यहां ये ट्रेंड रहा है. इसकी एक वजह ये हो सकती है कि शहर में देश-विदेश से आने वाले यात्रियों की संख्या काफी ज्यादा है. उन्होंने बताया कि शहर की संचालित हो रही कंपनियों से कहा गया है कि वो कोरोना गाइडलाइंस का पालन करें. बुजुर्गों और स्कूली बच्चों में वैक्सीनेशन के लिए भी जागरूकता अभियान चलाए जा रहे हैं

Tags: Bengaluru, Corona, COVID 19, Karnataka

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर