COVID-19 : कोरोना के मरीज़ों की संख्या नौ लाख के करीब, कई राज्यों में लॉकडाउन की तैयारी

देश में कोरोना वायरस के मामले बढ़ते ही ज रहे हैं.

कोरोना वायरस (Coronavirus) के बढ़ते मामलों को देखते हुए उत्तर प्रदेश (Uttar Pradeshs) सरकार ने जहां हर हफ्ते 55 घंटे लॉकडाउन (Lockdown) किए जाने का आदेश जारी किया है तो वहीं ​तमिलनाडु (Tamil Nadu) ने भी रविवार को राज्य में लॉकडाउन किए जाने का फैसला किया है.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) का संक्रमण अब और तेजी से बढ़ रहा है. कोरोना (Corona) के मामलों पर नजर रखने वाली वेबसाइट वर्ल्डोमीटर के मुताबिक पिछले 24 घंटे में 29,089 नए कोरोना केस सामने आए हैं जो अब तक एक दिन का सबसे बड़ा आंकड़ा है. नए कोरोना केस सामने आने के बाद अब कुल संक्रमितों की संख्या 8,79,447 तक पहुंच गई है. भारत (India) में जिस तेजी से कोरोना का संक्रमण बढ़ रहा है उसको देखते हुए आने वाले दिनों में कई शहरों में नए सिरे से लॉकडाउन (Lockdown) किए जाने की तैयारी हो रही है.

    उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने जहां हर हफ्ते 55 घंटे लॉकडाउन किए जाने का आदेश जारी किया है तो वहीं ​तमिलनाडु ने भी रविवार को राज्य में लॉकडाउन किए जाने का फैसला किया है. कर्नाटक में तेजी से बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए सरकार ने बेंगलुरु में 14 जुलाई से 7 दिनों के लिए पूरी तरह से लॉकेडाउन की घोषणा की है. इसी तरह बिहार, असम और अरुणाचल प्रदेश ने भी कोरोना की स्थिति को देखते हुए अलग-अलग क्षेत्र में वहां की स्थिति के मुताबिक लॉकडाउन की घोषणा की है.

    महाराष्ट्र में कोरोना की स्थिति सबसे खतरनाक है. यही कारण है कि सरकार ने पुणे और पिंपरी चिंचवाड़ में 23 जुलाई तक लॉकडाउन का पूरी तरह से पालन करने के निर्देश दिए हैं. सरकार की ओर से साफ किया गया है कि मुंबई के आसपास के इलाकों में भी आने वाले कुछ समय तक लॉकडाउन का पालन कराया जाए, जिससे कोरोना महामारी को रोकने में मदद मिल सके.

    इसे भी पढ़ें :- देश में कोविड-19 से स्वस्थ होने की दर 62.93% हुई: स्वास्थ्य मंत्रालय

    श्रीनगर में लॉकडाउन में की गई सख्ती
    कश्मीर में भी कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. कोरोना से बिगड़ते हालात को देखते हुए कश्मीर में रविवार को लॉकडाउन के एक और चरण की शुरुआत की गई. इस दौरान और सख्ती से पालन करने की बात कही गई. लॉकडाउन के दौरान ऐतिहासिक लाल चौक पूरी तरह से बंद रहा. श्रीनगर में भी 67 इलाकों को पूरी तरह से बंद कर दिया गया है क्योंकि यहां पर कोरोना के काफी मामले सामने आ रहे हैं.

    इसे भी पढ़ें :- कोविड-19 मामलों का जल्द पता चलने की वजह से देश में रही सिर्फ 2.66% की मृत्यु दर: हर्षवर्धन

    हर रोज रिकॉर्ड तोड़ रहे कोरोना के नए केस
    भारत में कोरोना वायरस का पहला केस 30 जनवरी को सामने आया था. शुरुआत में नए केस आने की रफ्तार धीमी रही. जून खत्म होते-होते रोजाना 19 हजार केस सामने आने लगे. जुलाई में तो यह पूरी तरह बेकाबू हो गया है. अभी आधी जुलाई भी नहीं बीती है कि रोजाना 27-28 हजार केस रोजाना आने लगे हैं.

    इसे भी पढ़ें :- पूरी दुनिया में रोजाना आने वाले मरीजों में 12% अकेले भारत से

    महाराष्ट्र में हालात हुए बेकाबू, एक दिन में 7,827 केस
    रविवार को सबसे ज्यादा महाराष्ट्र में 7,827 कोरोना पॉजिटिव केस बढ़े. यहां अब संक्रमितों की संख्या 2 लाख 54 हजार 427 हो गई है. तमिलनाडु में 4,244, कर्नाटक में 2,627, देश की राजधानी दिल्ली में 1,573, पश्चिम बंगाल में 1,560, उत्तर प्रदेश में 1,384 और तेलंगाना में 1,269 संक्रमित मिले हैं.

    इसे भी पढ़ें :- कोविड-19: वैक्सीन बनाने में रूस का बाजी मारने का दावा, कहा- पूरी हो गई टेस्टिंग

    डेथ रेट ने बढ़ाई सरकार की चिंता
    भारत में कोरोना के केस और मौतें बढ़ने के साथ ही डेथ रेट भी बढ़ रहा है. जून के पहले सप्ताह में भारत में डेथ रेट 4 (प्रति 10 लाख आबादी पर) था, जो अब बढ़कर 17 पहुंच चुका है. दुनिया का औसत डेथ रेट 73 है. शायद यही कारण है कि भारत सरकार कोरोना का जिक्र करने पर डेथ रेट और रिकवरी रेट की बात करना नहीं भूलती. हालांकि, एक पहलू यह भी है कि डेथ रेट एशिया के ज्यादातर देशों में कम है. बांग्लादेश और पाकिस्तान में डेथ रेट क्रमश: 14 और 24 है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.