कोरोना दिमाग पर कर रहा गहरा असर, 5 साल कम हो रही मस्तिष्क की उम्र

कोरोना दिमाग पर कर रहा गहरा असर. . (प्रतीकात्मक तस्वीर)
कोरोना दिमाग पर कर रहा गहरा असर. . (प्रतीकात्मक तस्वीर)

विशेषज्ञों के मुताबिक संभव है कि कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण के चलते मस्तिष्क (Brain) की उम्र 5 साल तक कम हो जाए. इससे कई तरह की तकलीफें भी देखने को मिल सकती हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 16, 2020, 3:25 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) से संक्रमित मरीजों की संख्या में जिस तेजी से इजाफा हो रहा है उसे देखने के बाद वैज्ञानिक वायरस (Virus) के बारे में और जानकारी इकट्ठा करने लगे हैं. वैज्ञानिकों के शोध (Research) में पता चला है कि वायरस मरीज के फेफड़े के साथ मस्तिष्क (Brain) पर भी गहरा असर डालता है. विशेषज्ञों के मुताबिक संभव है कि संक्रमण के चलते मस्तिष्क की उम्र 5 साल तक कम हो जाए. इससे कई तरह की तकलीफें भी देखने को मिल सकती हैं.

कोरोना मरीजों में हो रहे बदलावों पर नजर रख रहे लखनऊ के आरएमएल अस्पताल के न्यूरो सर्जरी विभाग के हेड डॉ. दीपक कुमार सिंह ने बताया कि मस्तिष्क की उम्र घटना किसी के लिए अच्छा नहीं होता. इससे अल्जाइमर, पार्किंसन और डिमेंशिया जैसी दिक्कतें आ सकती हैं. डॉ. दीपक ने बताया कोरोना संक्रमित मरीजों में स्ट्रोक के मामले काफी हैं. यह स्ट्रोक संक्रमण की वजह से दिमाग पर गहरा असर छोड़ रहे हैं.

डॉ. दीपक ने बताया कि वायरस सीधे तौर पर मस्तिष्क की रक्त वाहिकाओं की इंडोलिथियम पर हमला करता है. इससे नसों में थून के थक्के बनने लगते हैं और स्ट्रोक होता है. बता दें कि इंडोलिथिम नसों में खून को जमने नहीं देता है. ऐसे में अगर मरीज को 4 घंटे के अंदर इंजेक्शन नहीं दिया गया तो उसे बचाना मुश्किल होता है.




इसे भी पढ़ें :- कांग्रेस नेता अहमद पटेल की कोरोना से तबीयत बिगड़ी, मेदांता के ICU में कराए गए भर्ती

डॉ. दीपक ने बताया कि अगर दिमाग में किसी भी तरह की तकलीफ होती है तो शरीर के किसी न किसी अंग पर गहरा असर होता है. मस्तिष्क की कोशिकाएं शरीर के दूसरे अंगों की प्र​क्रिया में मदद करती है. ऐसे में अगर वायरस कोशिकाओं पर हमला कर उन्हें नष्ट कर देते हैं तो इसका सीधा असर मस्तिष्क के साथ ही शरीर के अंगों पर भी पड़ता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज