Home /News /nation /

तीसरी लहर के खतरे के बीच आई कोरोना की हैरान करने वाली रिपोर्ट, इस राज्य में बच्चे तेजी से हो रहे हैं संक्रमित

तीसरी लहर के खतरे के बीच आई कोरोना की हैरान करने वाली रिपोर्ट, इस राज्य में बच्चे तेजी से हो रहे हैं संक्रमित

तमिलनाडु में पिछले आठ महीनों में 24 बच्चों की मौत हुई है. (फाइल फोटो)

तमिलनाडु में पिछले आठ महीनों में 24 बच्चों की मौत हुई है. (फाइल फोटो)

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार जनवरी 2021 में कोविड (Covid-19) से प्रभावित होने वाले बच्चों की संख्या 20, 326 थी. वहीं मई में यह संख्या बढ़कर 71,555 पहुंच गई है. हालांकि इस बीच राहत की बात यह है कि कोरोना संक्रमण (Corona Infection) के कुल मामलों में गिरावट दर्ज की गई है.

अधिक पढ़ें ...
  • News18Hindi
  • Last Updated :

    नई दिल्ली: देश के कई राज्यों में कोरोना संक्रमण की रफ्तार में गिरावट जारी है लेकिन इसके विपरीत देक्षिण के कुछ राज्यों में कोरोना संक्रमण में मामलों में भारी बढ़ोतरी हुई है. दक्षिण में बढ़ते कोरोना के मामलों ने कोविड की संभावित तीसरी लहर के बादलों को गहरा दिया है. इस बीच कोरोना की एक रिपोर्ट में हैरान करने वाले खुलासे हुए हैं. कुछ महीनों के आंकड़ों से यह पता चलता है कि तमिलनाडु में कोरोना से संक्रमित होने वाले लोगों में बच्चों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है.

    हालांकि इस रिपोर्ट में ये राहत की बात यह भी सामने आई है कि अस्पताल में भर्ती होने वाले मामलों में किसी भी तरह की वृद्धि नहीं हुई है. तमिलनाडु स्वास्थ्य विभाग के अनुसार जनवरी 2021 में कोविड से प्रभावित होने वाले बच्चों की संख्या 20, 326 थी. वहीं मई में यह संख्या बढ़कर 71,555 पहुंच गई है. इस बीच राहत की बात यह है कि कोरोना संक्रमण के कुल मामलों में गिरावट आई है.

    तीसरी लहर में इतने बच्चे हो सकते हैं अस्पताल में भर्ती

    तमिलनाडु में कोरोना संक्रमण मामलों की प्रतिशतता में तेजी आई है. जून में 8.8 प्रतिशत मामले दर्ज किए गए जबकि वहीं जुलाई में कुल 9.5 प्रतिशत मामले सामने आए जबकि अगस्त में यह बढ़कर 10 प्रतिशत पहुंच गई. बाल चिकित्सा कोविड-19 मैनेजमेंट के लिए गठित टास्क फोर्स के सदस्य डॉ. श्रीनिवासन ने कहा कि तीसरी लहर के दौरान भारत में कोविड के लगभग 12 प्रतिशत मामले बच्चों के हो सकते हैं, लेकिन इनमें से केवल 5 प्रतिशत लोगों को ही अस्पाताल में भर्ती होने की आवश्यकता हो सकती है.

    ज्यादा गंभीर नहीं होंगे संक्रमण के मामले

    उन्होंने कहा कि अभी तक के परीक्षण में यह सामने आया है कि कोविड की तीसरी लहर के दौरान अस्पातल में भर्ती होने वाले बच्चे ज्यादा गंभीर नहीं होंगे. चेन्नई में बाल स्वास्थ्य संस्थान के अनुसार अस्पताल में भर्ती होने वाले बच्चों की संख्या में वृद्धि नहीं हुई है.

    आपको बता दें कि तमिलनाडु में पिछले आठ महीनों में 24 बच्चों की मौत हुई है. जनवरी, फरवरी, मार्च और अगस्त में शून्य मौतें हुईं. हालांकि, टोल जून में 13, मई में आठ, जुलाई में दो और अप्रैल में एक था. इस वर्ष बच्चों की उच्चतम मृत्यु दर जून में 0.16% दर्ज की गई थी. राज्य में लगभग 15,000 डॉक्टरों और 30,000 नर्सों को कोविड -19 वाले बच्चों के इलाज के लिए प्रशिक्षित किया गया है। राज्य भर में सरकारी संस्थानों में 1,100 और निजी संस्थानों में 2,300 बाल रोग विशेषज्ञ हैं.

    Tags: Corona third wave, Coronavirus, COVID 19, Tamil nadu

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर