हर दिन बढ़ रहे कोरोना मरीज, केंद्र की राज्यों को राय- एंबुलेंस, बेड और वेंटिलेटर का सोच-समझकर उपयोग करें

हर दिन बढ़ रहे कोरोना मरीज, केंद्र की राज्यों को राय- एंबुलेंस, बेड और वेंटिलेटर का सोच-समझकर उपयोग करें
देश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 2.67 लाख तक पहुंच गई है.

सरकार ने कहा कि अस्पताल में बेड, एंबुलेंस और वेंटिलेटर का सही तरीके से उपयोग किया जाएगा तभी कोरोना से होने वाली मृत्यु दर को कम किया जा सकेगा.

  • Share this:
नई दिल्ली. चीन (China) से दुनियाभर में फैले कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण के मामले भारत (India) में भी तेजी से बढ़ रहे हैं. मंंगलवार को देश में कोरोना (Corona) संक्रमित मरीजों की संख्या 2.67 लाख तक पहुंच गई. इन सबके बीच कई राज्यों से खबर आ रही है कि अब उनके पास मरीजों को रखने के लिए बेड उपलब्ध नहीं हैं. ऐसे में केंद्र सरकार ने राज्यों को सलाह दी है कि वह कोरोना महामारी के इस संकट में ​अस्पतालों के बेड, एंबुलेंस और वेंटिलेटर का उपयोग बहुत ही सोच समझकर करें.

कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्र सरकार लगातार राज्य सरकारों से बात कर रही है. इस बैठक में शामिल होने वाले एक अधिकारी ने नाम न बताने की शर्त पर कहा, 'केंद्रीय मंत्रालय और कैबिनेट सचिवालय हर दिन राज्यों के संपर्क में हैं. कोरोना के बढ़ते मामलों पर केंद्र की नजर बनी हुई है और वह समय-समय पर राज्यों को सलाह भी दे रहा है.'

उन्होंने बताया कि हाल ही में राज्यों से बातचीत के दौरान केंद्र ने कहा कि वे अस्पताल के ​बेड का बेहतर उपयोग करें. केंद्र ने माना कि अस्पतालों में बेड की तुलना में देश के कई हिस्सों में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है. केंद्र ने कहा कि मरीजों की संख्या बढ़ने से अस्पताल में बेड की मांग भी बढ़ेंगी. ऐसे में कुछ राज्यों की नीति है कि वे हल्के लक्षणों वाले मरीजों को घर पर ही क्वारंटाइन करने की सलाह दे रहे हैं. केंद्र सरकार ने कहा कि हम आगे इस संबंध में और भी दिशा-निर्देश जारी करेंगे लेकिन अभी राज्यों को अस्पताल के बेड, एंबुलेंस सेवाओं और वेंटिलेटर का उपयोग बहुत सोच समझकर करना होगा.



इसे भी पढ़ें :- अगले 3 दिन में भारत में हो जाएंगे 3 लाख केस, इसमें एक तिहाई महाराष्ट्र से होंगे
सरकार ने कहा कि अस्पताल में बेड, एंबुलेंस और वेंटिलेटर का सही तरीके से उपयोग किया जाएगा तभी कोरोना से होने वाली मृत्यु दर को कम किया जा सकेगा. केंद्र ने राज्यों से कहा है कि इन महत्वपूर्ण सेवाओं को केवल आपातकालीन मामलों में उपलब्ध कराया जाना चाहिए.केंद्र ने बताया कि उन्हें रिपोर्ट मिली है कि कुछ राज्यों में कुछ निजी अस्पताल वेंटिलेटर का उपयोग तो कर रहे हैं लेकिन जरूरतमंद मरीजों को यह सुविधा नहीं मिल पा रही है.

इसे भी पढ़ें :
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading