• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • CORONA REACHED DHAULAGIRI AFTER MOUNT EVEREST 7 CLIMBERS INFECTED

माउंट एवरेस्ट के बाद 7वीं ऊंची चोटी धौलागिरी पर भी पहुंचा कोरोना, 7 पर्वतारोही संक्रमित

नेपाल को राजस्व का बड़ा हिस्सा पर्यटन से ही मिलता है. साथ ही देश में कई लोग जीविका के लिए पर्वतारोहण पर ही निर्भर हैं. (फाइल फोटो: Shutterstock)

Coronavirus on Dhaulagiri: सीएनएन ने टूर ऑपरेटर सेवन समिट के चेयरपर्सन मिंगमा शेरपा के हवाले से 19 लोगों को बेस कैंप से निकाले जाने की जानकारी दी थी. साथ ही रिपोर्ट में 7 लोगों की कोविड जांच (Covid Test) पॉजिटिव आने का दावा भी किया गया है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. माउंट एवरेस्ट (Mount Everest) के बाद कोरोना वायरस (Coronavirus) दुनिया की 7वीं सबसे ऊंची चोटी धौलागिरी (Dhaulagiri) तक भी पहुंच गया है. खबर है कि हाल ही में पहाड़ पर स्थित कैंप से निकाले गए कम से कम 19 लोगों में से 7 लोगों में कोविड की पुष्टि हुई है. इसके अलावा लक्षण नजर आने के बाद 12 अन्य लोगों की जांच भी की जानी है. बीते अप्रैल में माउंट एवरेस्ट पर चढ़ाई की तैयारी कर रहे नॉर्वे के एक पर्वतारोही को कोरोना वायरस ने अपना शिकार बनाया था.

    सीएनएन ने अपनी एक रिपोर्ट में टूर ऑपरेटर सेवन समिट के चेयरपर्सन मिंगमा शेरपा के हवाले से 19 लोगों को बेस कैंप से निकाले जाने की जानकारी दी थी. साथ ही रिपोर्ट में 7 लोगों की कोविड जांच पॉजिटिव आने का दावा भी किया गया है. धौलागिरी दुनिया के सबसे ऊंचे पर्वत माउंट एवरेस्ट के पश्चिम में 345 किमी की दूरी पर है. पोलैंड के एक पर्वतारोही पावेल मिखाल्स्की के मुताबिक, एवरेस्ट से भी अप्रैल के बाद पॉजिटिव आने पर 30 लोगों को बेस कैंप से निकाला गया है.

    बीते साल मार्च में चीन ने विश्व की सबसे ऊंची चोटी पर पर्वतारोहण के लिए परमिट रद्द कर दिए थे. वहीं, नेपाल ने भी अपने हिस्से में मौजूद चोटी पर कार्यक्रम को बंद कर दिया था. भाषा के अनुसार, बढ़ती कोरोना वायरस महामारी के बावजूद नेपाल सरकार ने दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट के आरोहण के लिए इस साल अब तक 394 परमिट जारी किए हैं.

    सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट पर पहुंचा कोरोना, संक्रमण के आंकड़े बढ़ने की आशंका

    नेपाल में पर्वतारोहण कमाई का बड़ा जरिया
    नेपाल को राजस्व का बड़ा हिस्सा पर्यटन से ही मिलता है. साथ ही देश में कई लोग जीविका के लिए पर्वतारोहण पर ही निर्भर हैं. बीते साल लागू हुई पाबंदियों के बाद इस साल नागरिकों ने बेहतर हालात की उम्मीद की थी.

    माउंट एवरेस्ट पर मामला मिलने के बाद जताई गई थी चिंता
    नॉर्वे के पर्वतारोही अर्लेंड नेस्ट के संक्रमित होने के बाद जानकारों ने चिंता जाहिर की थी. भाषा की अप्रैल की रिपोर्ट मुताबिक, अनुभवी गाइड ऑस्ट्रियन लुकास फर्नबैश ने चेताया कि अगर सबकी जांच कर तत्काल एहतियाती कदम नहीं उठाए गए तो आधार शिविर में मौजूद हजारों पर्वतारोहियों, गाइड, सहायकों आदि में संक्रमण फैल सकता है. उन्होंने कहा कि संक्रमण फैलने से पर्वतारोहण के सबसे अच्छे समय मई से ठीक पहले इसके सीजन को पहले ही खत्म किया जा सकता है.