• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • कोरोना दूसरी लहर: केरल में 1.12 गुना तो मध्य प्रदेश में 2.86 गुना बढ़ा मौत का आंकड़ा

कोरोना दूसरी लहर: केरल में 1.12 गुना तो मध्य प्रदेश में 2.86 गुना बढ़ा मौत का आंकड़ा

आंकड़ों के मुताबिक अप्रैल और मई के महीनों में 1.69 लाख मरीजों की कोविड से मौत हुई थी.  (File pic AP)

आंकड़ों के मुताबिक अप्रैल और मई के महीनों में 1.69 लाख मरीजों की कोविड से मौत हुई थी. (File pic AP)

सरकार को 14 अगस्‍त को सुप्रीम कोर्ट (Corona) में बताना है कि कोविड (Covid) से मरने वालों के परिजनों को वह किस तरह से मुआवजा (Compensation) देने की योजना तैयार कर रही है. आंकड़ों के मुताबिक अप्रैल और मई के महीनों में 1.69 लाख मरीजों की कोविड से मौत हुई थी.

  • Share this:

    नई दिल्‍ली. कोरोना की दूसरी लहर (Corona Second Wave) ने देश में अप्रैल और मई के महीने में कोहराम मचाया था. इन दो महीनों में कोरोना (Corona) से काफी लोगों की जान चली गई. पिछले काफी समय से ये सवाल उठाया जाता रहा है कि आखिर कोरोना से अब तक कितने लोगों की मौत (Death) हो चुकी है. यह प्रश्‍न इसलिए भी जरूरी है क्‍योंकि इसके जरिए ये भी जानकारी मिलती है कि सरकार की ओर से आगे ऐसी कोई घटना न हो उसके लिए किस तरह की नीति तैयार की जा रही है.

    ये सवाल इसलिए भी जरूरी है क्‍योंकि सरकार को 14 अगस्‍त को सुप्रीम कोर्ट में बताना है कि कोविड से मरने वालों के परिजनों को वह किस तरह से मुआवजा देने की योजना तैयार कर रही है. राज्‍यों की ओर से केंद्र को दिए गए आंकड़ों के मुताबिक इन दो महीनों में 1.69 लाख मरीजों की कोविड से मौत हुई थी. हालांकि द इंडियन एक्सप्रेस के पत्रकारों की टीम की जांच से पता चलता है कि ये आंकड़े बेहद कम हैं. वास्तव में कोरोना से कितनी मौतें हुई हैं, इसका पता लगाना बहुत मुश्किल है और इसका केवल अनुमान लगाया जा सकता है.

    इसे भी पढ़ें :- कोरबा: स्कूल खुलते ही मोहल्ला क्लास 8 बच्चे मिले कोरोना संक्रमित, चिंता में प्रशासन

    कोरोना से होने वाली मौत का सही आंकड़ा जानने के लिए अखबार ने कई राज्‍य सरकारों से संपर्क किया. जिनमें से आठ ने बताया कि उनकी ओर से दिया गया आंकड़ा पिछले सप्‍ताह ही मुहैया कराया गया है. नागरिक पंजीकरण प्रणाली के अनुसार ये पिछले सप्ताह की सभी कोविड मौतों का लगभग एक तिहाई हिस्सा हैं. ये डाटा अब तक प्रकाशित नहीं किया गया है, लेकिन ये दर्शाता है कि इन आठ राज्यों में सभी कारणों से होने वाली मौतों की कुल संख्या अप्रैल में हुई सभी कारणों से होने वाली मौतों की 2.04 गुना है. बता दें कि ये आंकड़ा मई 2019 की तुलना पर आधारित है क्‍योंकि 2019 एक गैर-महामारी वर्ष है.

    इसे भी पढ़ें :- कोरोना महामारी में इन्फ्लूएंजा वैक्‍सीन दे रहा है सुरक्षा कवच, Covid के गंभीर प्रभावों से कर रहा बचाव: शोध

    यह उछाल केरल में सबसे कम 1.23 गुना से लेकर मध्य प्रदेश में 2.92 गुना तक है. यदि इन सभी मौतों में से आधिकारिक कोविड मौतों को घटा दिया जाता है, तो सभी राज्यों के लिए मौत का आंकड़ा कम हो जाएगा. कोविड से होने वाली मौत के आंकड़ों को घटाने के बाद केरल में 1.12 गुना से मध्य प्रदेश में 2.86 गुना मौतें ही दिखेंगी. कुल मिलाकर, सभी राज्यों में ये घटकर 1.87 गुना हो जाएंगी.

    इसे भी पढ़ें :- केरल में कोरोना के चिंताजनक हालात, देश में ‘अभी खत्म नहीं हुई दूसरी लहर’

    जांच ने तीन पैटर्न की पहचान की:

    पैटर्न 1 : कोरोना की दूसरी लहर के दौरान मौतों की संख्‍या पूरे देश में एक समान नहीं रही है. इसलिए, बड़े और छोटे राज्यों में मरने वाले व्‍यक्तियों की संख्या को एक तरीके से नहीं आंका जा सकता है. अलग-अलग राज्‍यों में मौतों की संख्‍या भी अलग अलग है. अगर राज्‍यों में होने वाली मौतों में से कोरोना से होने वाली मौत के आंकड़े को हटा दें तो ये मध्य प्रदेश में 2.86 गुना; बिहार में 2.03 गुना; झारखंड में 1.21 गुना; पंजाब में 1.73 गुना; हरियाणा में 2.44 गुना; दिल्ली में 1.4 गुना; कर्नाटक में 1.37 गुना और केरल में 1.12 गुना हो जाती है.

    पैटर्न 2 : कोरोना के चरम के दौरान होने वाली मौत की तुलना गैर पीक महीनों से नहीं की जा सकती है. ज्यादातर राज्यों में, 2021 में उछाल सिर्फ अप्रैल और मई तक ही सीमित रहा है. अप्रैल-मई 2021 में मृत्यु संख्या आठ राज्यों में 1.23 गुना से 3.12 गुना तक की वृद्धि दर्शाती है. हालांकि पंजाब और हरियाणा में इस साल जनवरी-मार्च के दौरान हुई मौतों की संख्या जनवरी-मार्च 2019 में हुई मौतों की संख्या से कम है. झारखंड एक अपवाद है. यहां सभी पांच महीनों में मरने वालों की संख्या सबसे अधिक है.

    पैटर्न 3: जिन राज्‍यों में कोरोना पर बेहतर तरीके से काम किया जा रहा था, उदाहरण के तौर पर केरल को लें. अप्रैल-मई 2021 में कुल मौतें अप्रैल-मई 2019 की तुलना में सिर्फ 1.12 गुना अधिक हैं. इसके बाद झारखंड (1.21 गुना), कर्नाटक (1.37 गुना) और दिल्ली (1.4 गुना) में अधिक मौत हुई हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज