अपना शहर चुनें

States

Corona Vaccination: कोरोना के खिलाफ भारत का दुनिया में सबसे तेज वैक्सीनेशन, करीब 10 लाख लोगों को वैक्सीन

भारत में 16 जनवरी से कोरोना वैक्सीनेशन प्रोग्राम की शुरूआत हुई थी.
भारत में 16 जनवरी से कोरोना वैक्सीनेशन प्रोग्राम की शुरूआत हुई थी.

Corona vaccination Programme: केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) के अतिरिक्त सचिव मनोहर अगनानी ने कहा, '21 जनवरी की शाम 6 बजे तक, देश भर में कुल 9,99,065 लाभार्थियों को COVID का टीका लगाया गया है, जिसके लिए कुल 18,159 सत्र आयोजित किए गए हैं.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 22, 2021, 5:53 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत ने कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के खिलाफ 16 जनवरी से विश्व का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान (Corona vaccination Programme) शुरू हो चुका है. भारत में कोरोना वैक्सीनेशन प्रोग्राम को शुरू हुए अभी एक सप्ताह ही बीते हैं और अब तक लगभग 10 लाख लोगों को टीका लगाया जा चुका है.अब तक अमेरिका ने सबसे तेज वैक्सीनेशन किया था. अमेरिका में 10 लाख लोगों के वैक्सीनेशन में 10 दिन का समय लगा था. वहीं इजरायल ने भी करीब इतना ही समय लिया था. लेकिन भारत ने 10 लाख लोगों का वैक्सीनेशन 6 दिन में पूरा कर दिया है.

गुरुवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) के अतिरिक्त सचिव मनोहर अगनानी ने कहा, '21 जनवरी की शाम 6 बजे तक, देश भर में कुल 9,99,065 लाभार्थियों को COVID का टीका लगाया गया है, जिसके लिए कुल 18,159 सत्र आयोजित किए गए हैं.' स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, बुधवार शाम छह बजे तक कुल 7.86 लाख स्वास्थ्यकर्मियों को वैक्सीन की पहली खुराक दी जा चुकी है. टीका लगाए जाने के बाद अभी तक किसी लाभार्थी में गंभीर या अत्यधिक गंभीर प्रतिकूल प्रभाव देखने को नहीं मिला है.





ये भी पढ़ेंः- नेशनल हगिंग डे पर जानवरों के वीडियो ने जीता लोगों का दिल, किए मजेदार कमेंट्स
वैक्सीनेशन के बाद भी कोरोना गाइडलाइन का करना होगा पालन
कोरोना वैक्सीनेशन के बीच स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि भले ही वैक्सीन लगाने का अभियान शुरू किया जा चुका है, इसके बावजूद वैक्सीनेशन का हिस्सा बन चुके और टीका लगने का इंतजार कर रहे लोगों को पहले की तरह ही सरकार की ओर से जारी की गई कोरोना गाइडलाइन का पालन करना होगा.



कोविड-19 मरीजों की देखभाल की जा सकती है
वैक्सीन की दोनों डोज लेने के बाद वैक्सीन लेने वाला शख्स कोविड-19 मरीजों की देखभाल कर सकता हैं. यही कारण है कि कोरोना के पहले चरण में हेल्थ वर्कर्स को कोरोना की वैक्सीन दी जा रही है. कोरोना के नए स्ट्रेन के आने के बाद कोरोना कब एक बार फिर खतरनाक साबित हो जाए किसी को भी नहीं पता है. ऐसे में बुनियादी सुरक्षा के उपायों का पालन करने की अभी भी जरूरत होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज