Assembly Banner 2021

क्यों 45 साल से ज्यादा उम्र वाले लोगों को लगाया जा रहा है कोरोना का टीका, जानें

फिलहाल देश भर में 60 साल से अधिक आयु के सभी लोगों को टीका लग रहा है.

फिलहाल देश भर में 60 साल से अधिक आयु के सभी लोगों को टीका लग रहा है.

Corona vaccination drive: केंद्र सरकार के मुताबिक 45 से उपर लोग के लोगों को कोरोना का सबसे ज्यादा खतरा है. आंकड़े बताते हैं कि देश में कोरोना से होने वाली मौतों में 88 फीसदी मौत 45 साल से ज्यादा उम्र के लोगों की हुई हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 25, 2021, 12:57 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में 1 अप्रैल से कोरोना के टीके (Corona Vaccination) की रफ्तार तेज होने जा रही है. केंद्र सरकार ने बुधवार को साफ किया कि 45 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को सबसे ज्यादा कोरोना संक्रमण का खतरा है. केंद्र सरकार के मुताबिक देशभर में 45 साल से ज्यादा उम्र के लोगों की संख्या लगभग 34 करोड़ है.

आंकड़े बताते हैं कि देश में कोरोना से होने वाली मौतों में 88 फीसदी मौत 45 साल से ज्यादा उम्र के लोगों की हुई है. केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि कोरोना से लड़ाई में वैक्सीन सबसे असरदार कवच है. फिलहाल देश भर में 60 साल से अधिक आयु के सभी लोगों को टीका लग रहा है, जबकि 45 साल से अधिक के उन लोगों का टीकारण किया जा रहा है, जो गंभीर बीमारियों से पीड़ित हैं. आखिर क्यों लगाए जाएंगे 45 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को टीके आइए जानते हैं वजह.

नहीं देना होगा किसी तरह का प्रमाण पत्र
खास बात ये है कि इस उम्र की कटेगरी के लोगों को वैक्सीन लगवाने के लिए किसी भी तरह की बीमारी का प्रमाणपत्र नहीं देना पड़ेगा. अभी तक 45 से 60 साल की उम्र के लोगों को वैक्सीन के लिए गंभीर बीमारी का प्रमाणपत्र देना पड़ता है तभी उन्हें वैक्सीन लगाई जाती है. केंद्र सरकार ने विशेषज्ञों की सलाह पर बीमारी का प्रमाणपत्र देने की शर्त हटा दी है. देश में अभी तक 5 करोड़ से ज्यादा लोगों को कोरोना की वैक्सीन लग चुकी है.
ये भी पढ़ें- सरकारी कर्मचारियों को सप्ताह में मिलेगी 3 दिनों की छुट्टी? जानें केंद्र सरकार का जवाब



रोजाना हो रहा है वैक्सीनेशन में इजाफा
लगभग हर रोज वैक्सीनेशन के आंकड़ों में इजाफा किया जा रहा है. ऐसा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि एक बार फिर देश के कई राज्यों में कोरोना के नए मामले बढ़ रहे है. केंद्र सरकार का मानना है कि कोरोना को लेकर जारी हुई गाइडलाइऩ का सख्ती से पालन करने के अलावा वैक्सीन ही दूसरा रास्ता है. यही वजह है कि सरकार की कोशिश वैक्सीन ज्यादा लोगों तक पहुंचाने की जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज