कोरोना वैक्सीन: सीरम इंस्टीट्यूट ने अभी से 6 करोड़ लोगों के लिए डोज की तैयार

कोरोना कंपनियों ने अभी से वैक्सीन की डोज तैयार करना शुरू कर दिया है.
कोरोना कंपनियों ने अभी से वैक्सीन की डोज तैयार करना शुरू कर दिया है.

कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) बनाने वाली सीरम इंस्टीट्यूट (Serum Institute) और भारत बायोटेक (Bharat Biotech) ने कोरोना वैक्सीन को बनाने को लेकर अभी से तैयारी शुरू कर दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 16, 2020, 7:46 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पूरी दुनिया में कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) के जल्द ही बाजार में आने की खबर के बाद से ही टीके (Vaccine) को लेकर चर्चा जोरों पर शुरू हो गई है. कोरोना (Corona) महामारी को देखते हुए इसे दुनिया के हर इंसान तक पहुंचाना भी दवा कंपनियों और सरकार के लिए आसान नहीं है. यही कारण है कि इसका उत्पादन अभी से शुरू कर दिया गया है. खबर है कि देश में कोरोना महामारी को रोकने के लिए अभी से 6 करोड़ वैक्सीन के डोज तैयार कर लिए गए हैं.

कोरोना वैक्सीन बनाने वाली सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक ने कोरोना वैक्सीन को लेकर अभी से तैयारी शुरू कर दी है. सीरम इंस्टीट्यूट ने अब तक 6 करोड़ डोज तैयार किए हैं जबकि भारत बायोटेक ने भी इसका उत्पादन शुरू कर दिया है. भारत में तैयार हो रही कोरोना वैक्सीन के साथ ही रूस की स्पूतनिक-5 टीका भी भारत आ चुका है और इसका उत्पादन भी जल्द शुरू किया जा सकता है.

दवा कंपनियां जिस तेजी से अब कोरोना वैक्सीन को तैयार करने में जुट गई हैं, उसे देखने के बाद ये कहा जा सकता है कि कोरोना वायरस अब अपने अंतिम पड़ाव में पहुंच गया है. आने वाले कुछ ही महीनों में कोरोना की कई वैक्सीन बाजार में उपलब्ध हो सकती हैं. बता दें कि सरकार की योजना के मुताबिक सबसे पहले देश के 30 करोड़ लोगों को टीका लगाया जाएगा.
इसे भी पढ़ें :- Pfizer का दावा- इस साल के अंत तक आ जाएगी कोविड वैक्सीन, कोरोना महामारी को कर देगी खत्म



दुनियाभर में 155 वैक्सीन पर चल रहा है काम
दुनियाभर में जिस तेजी से कोरोना वायरस का संक्रमण फैल रहा है उसे देखते हुए अबतक विश्वभर में 155 वैक्सीन पर शोध चल रहा है. इनमें से 47 कोरोना वैक्सीन अपने अंतिम चरण में पहुंच गई हैं. जिन वैक्सीन पर दुनियाभर में काम चल रहा है उनमें भारत बायोटेक, फाइजर, ऑक्सफोर्ड और स्पूतनिक-5 जैसी कई वैक्सीन शामिल हैं. बता दें कि फाइजर ने अब तक के परीक्षणों के आधार पर 90 फीसदी सफलता का दावा किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज