Corona Vaccine Updates: दुनियाभर में चल रहा कोरोना वैक्सीन का ट्रायल, जानें भारत में कब तक आएगा टीका

Corona Vaccine Updates: इस साल के अंत तक या नए साल की शुरुआत तक आ जाएगी कोरोना वैक्सीन.
Corona Vaccine Updates: इस साल के अंत तक या नए साल की शुरुआत तक आ जाएगी कोरोना वैक्सीन.

भारत (India) में भी कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) अपने आखिरी चरण में पहुंच गई है. कोरोना वैक्सीन के जल्द ही आने की खबर के बाद से ही केंद्र सरकार ने सभी राज्यों से इस संबंध में अपनी राय मांगी है. केंद्र सरकार ने राज्यों से पूछा है कि वह कोरोना वैक्सीन के स्टोरेज को लेकर क्या प्लान तैयार कर रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 2, 2020, 9:25 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दुनियाभर में कोरोना वायरस (Corona virus) का संक्रमण जितनी तेजी से बढ़ रहा है उसे देखने के बाद यही कहा जा रहा है कि कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) ही इसे पूरी तरह से खत्म कर सकती है. यही कारण है ​कि दुनियाभर के वैज्ञानिक कोरोना वैक्सीन बनाने में दिन रात एक कर रहे हैं. वैज्ञानिकों (Scientists) ने उम्मीद जताई है इस साल के अंत तक या फिर नए साल की शुरुआत में कोरोना वैक्सीन आ सकती है. भारत (India) में भी कोरोना वैक्सीन अपने आखिरी चरण में पहुंच गई है. कोरोना वैक्सीन के जल्द ही आने की खबर के बाद से ही केंद्र सरकार ने सभी राज्यों से इस संबंध में अपनी राय मांगी है. केंद्र सरकार ने राज्यों से पूछा है कि वह कोरोना वैक्सीन के स्टोरेज को लेकर क्या प्लान तैयार कर रहे हैं.

केंद्र सरकार अभी से कोरोना वैक्सीन को लेकर राज्यों के साथ कोई ठोस व्यवस्था तैयार करने में लगी हुई है. सरकार चाहती है कि कोरोना वैक्सीन जैसे ही आए वैसे ही देश के दूर-दराज के इलाकों में पहुंचाने की व्यवस्था हो. केंद्र सरकार ने सभी राज्यों से अभी से कोरोना वैक्सीन के भंडारण और उसके रखरखाव की तैयारी करने को कहा है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों केा पत्र लिखकर कहा है कि कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए जितनी प्रभावशाली प्रतिरक्षा जरूरी है उतनी ही कोरोना वैक्सीन के भंडारण करने की व्यवस्था करना भी जरूरी है.

देश में फिलहाल तीन वैक्सीन का ट्रायल हो रहा है. इसमें से एक वैक्सीन ऑक्सफोर्ड की, दूसरी भारत बायोटेक और तीसरी जायडस कैडला की है.

एस्ट्राजेनका :-


बात ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन की करें तो इसे फार्मा कंपनी एस्ट्राजेनका ने मिलकर तैयार किया है. दुनिया की सबसे एडवांस वैक्सीन में से इस टीके को भारत में सीरम इंस्टीट्यूट देशभर में 14 जगहों पर डेढ़ हजार लोगों पर वैक्सीन का ट्रायल करेगा. भारत के अलावा इस वैक्सीन का ब्रिटेन, अमेरिका, ब्राजील समेत अन्य देशों में ऑक्सफोर्ड का ट्रायल चल रहा है. ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन पर ICMR नजर रख रहा है.

इसे भी पढ़ें :- ICMR की बड़ी कामयाबी, खास एंटी-सिरम तैयार, कोविड-19 के इलाज में होगी कारगर

कोवैक्सीन :-
इसके साथ ही ICMR और भारत बायोटेक ने साथ मिलकर वैक्सीन बनाई है जिसका नाम Covaxin है. यह एक इनएक्टिवेटेड वैक्सीन है. मतलब इसमें कोरोना के मारे गए वायरस की डोज दी जाती है जिससे शरीर में वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी पैदा होती है. हाल ही में कंपनी की ओर से जानकारी दी गई थी कि जानवरों पर यह वैक्सीन सफल रही है और फिलहाल इसका दूसरे फेज का ट्रायल चल रहा है.

इसे भी पढ़ें : अच्छी खबर! मॉडर्ना की Covid-19 वैक्सीन वृद्धों में असरदार पाई गयी

जायडस कैडिला :-
वहीं तीसरी वैक्सीन जायडस कैडिला की है जिसका फिलहाल इंसानों पर फेज 1 का ट्रायल चल रहा है. DGCI ने देश में बनाई गई इस वैक्सीन पर ह्यूमन ट्रायल की परमिशन जुलाई में दी थी. डीएनए बेस्ड जायडस कैडिला की वैक्सीन अहमदाबाद वैक्सीन टेक्नोलॉजी सेंटर में विकसित की गई है. यह वैक्सीन चूहों और खरगोशों पर टेस्ट की जा चुकी है जिसका डेटा DGCI के पास है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज