अपना शहर चुनें

States

Corona Vaccine Update: स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा- 30 करोड़ लोगों को वैक्सीन लगाने के लिए तेज रफ्तार अभियान की जरूरत

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन (फाइल फोटो)
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन (फाइल फोटो)

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन (Harshwardhan) ने कहा, 'भारत में कोविड-19 महामारी की वृद्धि दर दो प्रतिशत तक गिर गयी है और मृत्यु दर दुनिया में सबसे कम 1.45 प्रतिशत है.' हर्षवर्धन ने कहा, 'भारत में मरीजों के स्वस्थ होने की दर 95.46 प्रतिशत हो गई है.

  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Corona Virus) महामारी से निपटने के लिए वैक्सीन (Corona Vaccine) की तैयारियां तेज हो गईं हैं. सरकार ने देश में पहले 30 करोड़ लाभार्थियों को वैक्सीन लगाने की योजना बनाई है. इसपर शनिवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा है कि इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए एक तेज वैक्सीन अभियान (Vaccine Campaign) की जरूरत है. हर्षवर्धन शनिवार को कोविड​​-19 (Covid-19) संबंधी जीओएम की 22 वीं बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे. उन्होंने वीडियो-कॉन्फ्रेंस के जरिए बैठक को संबोधित किया.

जीओएम की यह बैठक ऐसे दिन हुई, जब देश में कोरोना वायरस से संक्रमण (Infection) की कुल संख्या एक करोड़ से अधिक हो गयी. उन्होंने कहा, 'भारत में कोविड-19 महामारी की वृद्धि दर दो प्रतिशत तक गिर गयी है और मृत्यु दर दुनिया में सबसे कम 1.45 प्रतिशत है.' हर्षवर्धन ने कहा, 'भारत में मरीजों के स्वस्थ होने की दर 95.46 प्रतिशत हो गई है। जबकि, दस लाख नमूनों के परीक्षण की रणनीति से पॉजिटिविटी रेट घटकर 6.25 प्रतिशत हो गया है.'

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी एक बयान के अनुसार उन्होंने कहा कि अक्टूबर और नवंबर में त्योहारों के बावजूद व्यापक परीक्षण, निगरानी और उपचार की नीति के कारण मामलों में कोई नया उछाल नहीं दिखा. उन्होंने लोगों से अपील की कि वे उचित कोविड व्यवहार बनाए रखें. विदेश मंत्री एस जयशंकर, नागरिक विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी, स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे और गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय भी बैठक में शामिल हुए.



यह भी पढ़ें: AIIMS को भारत बायोटेक की कोरोना वैक्सीन के ट्रायल लिए नहीं मिल रहे वॉलंटियर
नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉक्टर विनोद के पॉल, प्रधान मंत्री के सलाहकार अमरजीत सिन्हा और भास्कर खुल्बे भी इस बैठक में डिजिटल तरीके से शामिल हुए. एनसीडीसी के निदेशक डॉक्टर सुजीत के सिंह ने एक विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत की कि किस प्रकार डेटा आधारित सरकारी नीतियों से भारत को महामारी पर महत्वपूर्ण नियंत्रण हासिल करने में मदद मिली.

उन्होंने देश में कुल कोविड-19 इकाइयों के संबंध में भी आंकड़े पेश किए. इसके अनुसार कुल 15,359 ऐसी इकाइयां हैं जबकि 15 लाख से अधिक पृथकवास बेड, 2.70 लाख ऑक्सीजन की सुविधा वाले बेड, 80,727 आईसीयू बेड और 40,575 वेंटिलेटर मौजूद हैं. पॉल ने एक विस्तृत प्रस्तुति के जरिए जीओएम को टीकाकरण के तीन महत्वपूर्ण पहलुओं की जानकारी दी. केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने महामारी पर काबू के लिए एक आबादी के बीच स्वास्थ्य से जुड़े नियमों के पालन करने को जरूरी बताया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज