लॉकडाउन-5 की संभावनाओं पर सरकार की सफाई, ऐसी खबरें निराधार

फिलहाल देश में लॉकडाउन का चौथा चरण जारी है.

31 मई को लॉकडाउन 4 खत्म होगा. इसके बाद सरकार का क्या कदम होगा, इस पर अभी कोई गाइडलाइन नहीं आई है.

  • Share this:
    नई दिल्ली.
    सरकार ने लॉकडाउन 5 संबंधी सभी खबरों पर सफाई दी है. ये कहा जा रहा था कि केंद्र सरकार 31 मई के बाद दो हफ्ते के लिए फिर से लॉकडाउन (Lockdown) बढ़ा सकती है. कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण की गति को कम करने के लिए बढ़ाए जाने वाले इस लॉकडाउन का स्वरूप अलग हो सकता है और इसमें पहले के मुकाबले अधिक ढील दी जा सकती है.

    गृह मंत्रालय ने खबर को बताया गैर जिम्मेदाराना
    गृह मंत्रालय की प्रवक्ता ने इस रिपोर्ट का खंडन करते हुए ट्वीट किया है कि- इस स्टोरी में गृह मंत्रालय के सूत्रों के हवाले से लॉकडाउन 5 की इनसाइड डीटेल्स दी गई हैं. उन्होंने कहा कि इसमें जो भी जानकारी दी गई हैं वह सिर्फ एक रिपोर्टर के अनुमान हैं. ऐसे में इसमें गृह मंत्रालय का हवाला देना गलत और गैर जिम्मेदाराना है.

    गृह मंत्रालय की ओर से जो रिपोर्ट शेयर की गई है उसमें बताया गया है कि लॉकडाउन के पांचवे चरण में पहले के मुकाबले लोगों को ज्यादा रियायत दी जाएगी और इसमें 11 शहरों पर ज्यादा फोकस रहेगा. रिपोर्ट में जानकारी दी गई है कि इन जगहों के अलावा बाकी देश के अधिकतर हिस्सों में लॉकडाउन में ढील दी जाएगी.



    तेजी से बढ़ते मामलों से बढ़ा दबाव
    देश में लगातार बढ़ रहे कोरोना वायरस के मामलों ने भारत की संकुचित होती चिकित्सा व्यवस्था के लिए चुनौती खड़ी कर दी है और स्वास्थ्य महकमे पर अत्यधिक दबाव बना दिया है. जिसके कारण पिछले दो महीने से जारी लॉकडाउन को लेकर सवाल उठने लगे हैं जो कि धीरे बढ़ रहे मामलों की संख्या से संक्रमण के कर्व को फ्लैट करने के लिए लागू किया गया था.

    केंद्र सरकार ने लॉकडाउन के चौथे चरण में कंटेनमेंट जोन में अधिकांश प्रतिबंधों पर ध्यान केंद्रित किया और अर्थव्यवस्था को पूरी तरह से खोलने के लिए अन्य सभी क्षेत्रों में बसों को चलाने के साथ सभी बाजारों, कार्यालयों, उद्योगों और व्यवसाय को फिर से शुरू करने की अनुमति दी. पिछले हफ्ते, सरकार ने भी सीमित क्षमता में घरेलू उड़ानों के संचालन की अनुमति दी.

    धार्मिक स्थलों पर मानने होंगे ये नियम
    लॉकडाउन के पांचवें चरण में धार्मिक स्थल और जिम खोलने की इजाजत दी जा सकती है. गृह मंत्रालय के सूत्रों ने कहा कि मंदिरों और अन्य धार्मिक स्थलों पर पूजा एवं प्रार्थना करने के लिए सोशल डिस्टेंसिग का अनिवार्य रूप से पालन करना होगा और लोगों को मास्क पहनना जरूरी होगा. हालांकि किसी धार्मिक आयोजन या पर्व की अनुमति नहीं दी जाएगी.

    कर्नाटक सरकार (Karnataka Government) पहले ही 1 जून से मंदिरों और चर्चों को फिर से खोलने पर सहमति जाहिर कर चुकी है. मुख्यमंत्री बी एस येडियुरप्पा (BS Yediyurappa) ने मीडिया को बताया कि एक बार केंद्र सरकार मॉल और धार्मिक स्थानों को खोलने की अनुमति दे देती है, तो इसे खोलने या न खोलने का फैसला राज्य सरकार का होगा.

    इन पर रोक रहेगी जारी
    लॉकडाउन के अगले चरण में शॉपिंग मॉल्स, सिनेमा हॉल्स, स्कूल, कॉलेज और अन्य शैक्षणिक संस्थानों, और बड़ी संख्या में लोगों की मौजदूगी वाली अन्य जगहों पर रोक जारी रह सकती है. हालांकि कुछ राज्य जून से स्कूल खोलने की मंशा जता रहे हैं पर केंद्र की ओर से साफ कर दिया गया है कि वह फिलहाल इसके पक्ष में नहीं हैं.

    ये भी पढ़ें :-

    Photos: लॉकडाउन के बीच परिवार के पास घर लौट रहे लोग, गुजरात में गरीबों का खिलाया जा रहा खाना

    पार्टी देखकर दर्ज हो रहे लॉकडाउन उल्लंघन के केस, बढ़ा संक्रमण का खतराःकांग्रेस

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.