कोरोना वायरस: लॉकडाउन के बीच लाखों लोगों तक मदद पहुंचा रही सेवा भारती

कोरोना वायरस: लॉकडाउन के बीच लाखों लोगों तक मदद पहुंचा रही सेवा भारती
दिल्ली के हर उस घर में जो लॉकडाउन की वजह से संकट में था सेवा भारती की मदद पहुंचाई गई.

कोरोना वायरस संकट (Coronavirus Crisis) के बीच राजधानी दिल्ली (Delhi) में हुए लॉकडाउन (Lockdown) के बाद सेवा भारती (Seva Bharti) से जुड़े हजारों स्वयंसेवकों ने गरीब बस्तियों में पहुंच कर उन्हें सहायता पहुंचाने का काम किया

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 19, 2020, 8:06 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सामाजिक संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (Rashtriya Swayamsevak Sangh) के अनुषांगिक संगठन सेवा भारती (Seva Bharti) संकट के समय हमेशा देश के हर कोने में सेवा कार्यों में लग जाते हैं. कोरोना वायरस संकट (Coronavirus Crisis) के बीच राजधानी दिल्ली (Delhi) में हुए लॉकडाउन (Lockdown) के बाद सेवा भारती से जुड़े हजारों स्वयंसेवकों ने गरीब बस्तियों में पहुंच कर उन्हें सहायता पहुंचाने का काम किया. दिल्ली के दूर दराज के गांव और यमुना के खादर में बसे लोगों से लेकर सीमा पर बसे गांवों में रहने वाले गरीब लोगों के बीच सहायता पहुंचाई.

हरीश साल्वे की पत्नी ने भी की ऐसे मदद
समाज के सक्षम वर्ग द्वारा संकट के वक्त सेवा भारती को सभी तरह की सामग्री प्रदान की जाती है जिसे समाज में जरूरतमंदों के बीच बांटा जाता है. इसी कड़ी में देश के जानेमाने वकील और पाकिस्तान के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में भारत की तरफ से पैरवी करने वाले हरीश साल्वे की धर्मपत्नी ने भी सेवा भारती तक मदद पहुंचाई है. कोरोना संकट के वक्त हरीश साल्वे की धर्मपत्नी मिनाक्षी साल्वे ने अपने घर पर ही 1400 मास्क बनाएं और उन्हें सेवा भारती को भेंट कर दिया ताकि जरूरत मंदों तक पहुंच सके.

28 लाख लोगों को दिए खाने के पैकेट
दिल्ली के हर उस घर में जो लॉकडाउन की वजह से संकट में था सेवा भारती की मदद पहुंचाई गई. इस दरम्यान 24 मार्च से 15 अप्रैल तक 28 लाख लोगों को भोजन के पैकेट भी दिए गए. 1.28 लाख परिवारों को राशन की किट प्रदान की गई. इसके अतिरिक्त कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए 1.20 लाख साबुन, 96000 मॉस्क, 40000 दस्ताने,  11500 सैनेटाइजर की बोतलों का लोगों के बीच वितरण किया गया.



ओडिशा सुनामी में भी स्थापित किए थे सेवा केंद्र
देश में किसी भी संकट के समय सेवा भारती के कार्यकर्ता सबसे आगे रह कर मानवता की सेवा में जुट जाते हैं. 2019 में ओडिशा में आई सुनामी के वक्त सेवा भारती ने वहां 13 सेवा केंद्र स्थापित किए और आपदा से पीड़ित परिवारों को भोजन, कपड़ा, घरेलू सामान, बच्चों को स्कूली पुस्तकें वितरित करने का काम किया. इसी तरह 2018 में केरल में आई प्रलयंकारी बाढ़ के बीच फंसे लोगों तक सेवा भारती के लोग मदद लेकर पहुंचे. केरल में 35 स्थानों पर सेवा भारती ने अपने राहत शिविर स्थापित कर लोगों तक एंबुलेंस, खाना, घर का सामान, कपड़े, और साडि़यों का वितरण किया.

जम्मू-कश्मीर में आई बाढ़ हो या नेपाल में आया भूकंप, केदारनाथ में जलप्रलय का प्रकोप हो या तमिलनाडु में सुनामी सेवा भारती ने तत्परता के साथ लोगों को सहायता और सेवा पहुंचाने का काम किया है. विशेष बात यह हैं कि सेवा भारती के स्वयंसेवक बिना किसी भेदभाव के पीड़ितों की मदद करते है और उनके पुनर्वास की भी व्यवस्था करते हैं.

ये भी पढ़ें-
कोरोना धर्म-जाति नहीं देखता, चुनौती से निपटने को एकता-भाईचारा जरूरी: PM मोदी

कोरोना वायरस: PM मोदी ने कहा- दुनिया को नई कार्य संस्कृति दे सकता है भारत
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज