कोरोना वायरस: TMC ने अपने सांसदों से संसद से वापस आने को कहा

कोरोना वायरस: TMC ने अपने सांसदों से संसद से वापस आने को कहा
TMC के लोकसभा में 22 और राज्यसभा में 13 सांसद हैं (फाइल फोटो, राज्यसभा टीवी स्क्रीनग्रैब)

तृणमूल सांसद (TMC MP) और राज्यसभा (Rajya Sabha) में पार्टी के नेता डेरेक ओ’ब्रायन और लोकसभा सांसद एवं लोकसभा (Lok Sabha) में पार्टी के नेता सुदीप बंदोपाध्याय ने दोनों सदनों के पीठासीन अधिकारियों को पत्र लिखकर अनुरोध किया है कि सदन की कार्यवाही 23 मार्च (सोमवार) को पूरी कर दी जाए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 22, 2020, 4:07 PM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्ली. तृणमूल कांग्रेस (TMC) ने रविवार को घोषणा की कि उसने कोरोना वायरस (Coronavirus) के खतरे के मद्देनजर अपने सभी सांसदों (MPs) को संसद (Parliament) से लौटकर अपने निर्वाचन क्षेत्रों में वापस आने का निर्देश दिया है.

तृणमूल के सांसद (TMC MP) एवं राज्यसभा (Rajya Sabha) में पार्टी के नेता डेरेक ओ’ब्रायन और लोकसभा सांसद एवं लोकसभा (Lok Sabha) में पार्टी के नेता सुदीप बंदोपाध्याय ने दोनों सदनों के पीठासीन अधिकारियों को पत्र लिखकर अनुरोध किया है कि सदन की कार्यवाही 23 मार्च (सोमवार) को पूरी कर दी जाए. तृणमूल के लोकसभा में 22 और राज्यसभा में 13 सदस्य हैं.

'TMC पिछले 10 दिन से संसद को स्थगित करने की कर रही है मांग'
डेरेक ओ’ब्रायन (Derek O'Brien) ने कहा कि तृणमूल पिछले 10 दिन से संसद को स्थगित करने की सरकार से अपील कर रही है लेकिन अभी तक कोई कदम नहीं उठाया गया.



पत्र में कहा गया है, ‘‘प्रधानमंत्री (Prime Minister) ने स्वयं सामाजिक दूरी बनाए रखने की तत्काल आवश्यकता, बड़े समूहों में एकत्र नहीं होने और 65 साल एवं अधिक आयु के लोगों के बहुत एहतियान बरतने की जरूरत की बात की है.’’



राज्यसभा के 44% और लोकसभा के 22% सांसद 65 साल की उम्र से ज्यादा
पत्र में कहा गया है, ‘‘राज्यसभा में करीब 44 प्रतिशत सांसद और लोकसभा में 22 प्रतिशत सांसद 65 साल से अधिक आयु के हैं. यह केवल सांसदों का ही सवाल नहीं है बल्कि हर रोज संसद परिसर (Parliament Complex) में आने वाले हजारों लोगों का सवाल है. यह विरोधाभासी संदेश बहुत खतरनाक है.’’

पत्र में कहा गया है कि दोनों सदनों में करीब 110 घंटे की चर्चा में समय का महज तीन प्रतिशत हिस्सा ऐसा था जब कोरोना वायरस वैश्विक महामारी (Global Pandemic) पर चर्चा की गई.

पत्र में कहा गया, 'संसद चलने देना सरकार का बेहद गैर-जिम्मेदाराना नजरिया'
पत्र में कहा गया है, ‘‘उनका कहना है कि सरकार (Government) संसद चलते रखना चाहती है ताकि सांसद देश को भरोसा दिलाएं और मिसाल पेश करें. यह बेहद गैर-जिम्मेदाराना नजरिया हैं. हमें ऐसी मिसाल कायम नहीं करनी चाहिए.’’

पत्र में लिखा है, ‘‘अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस (AITC) ने अपने सभी सांसदों को अपने निर्वाचन क्षेत्रों में वापस जाने की सलाह दी हैं.’’

पत्र में कहा गया है कि पार्टी इस बात को समझती है कि एक अप्रैल 2020 को वित्त वर्ष (Financial year) शुरू होने से पहले वित्त विधेयक पारित करना जरूरी है लेकिन किसी को अपना स्वास्थ्य खतरे में नहीं डालना चाहिए.

यह भी पढ़ें: COVID-19: तमिलनाडु सरकार ने कल सुबह 5 बजे तक के लिए बढ़ाया जनता कर्फ्यू
First published: March 22, 2020, 4:05 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading