लाइव टीवी

कोरोना वायरस: निगरानी के लिए घर में अलग रखे गए 2 स्टूडेंट बिना बताए खाड़ी देश भागे

भाषा
Updated: February 4, 2020, 10:39 PM IST
कोरोना वायरस: निगरानी के लिए घर में अलग रखे गए 2 स्टूडेंट बिना बताए खाड़ी देश भागे
दोनों स्टूडेंट्स चीन में रहकर पढ़ाई करते हैं (सांकेतिक फोटो)

कोझिकोड जिले (Kozhikode district) की चिकित्सा अधिकारी डॉ.वी जयश्री ने बताया कि दोनों छात्र 15 जनवरी को केरल (Kerala) आए थे. दोनों ही चीन (China) में रहकर पढ़ाई करते हैं.

  • Share this:
कोझिकोड. चीन (China) से केरल (Kerala) आए और घर में ही अलग रखे गए दो छात्र प्रशासन को बताए बिना खाड़ी देश (Gulf Countries) रवाना हो गए. छात्रों ने ऐसा कर कोरोना वायरस (Corona Virus) के पनपने की अवधि तक निगरानी में रहने और यात्रा नहीं करने के निर्देशों की अवहेलना की है.

कोझिकोड जिले (Kozhikode district) की चिकित्सा अधिकारी डॉ.वी जयश्री ने बताया कि दोनों छात्र 15 जनवरी को केरल आए थे. दोनों ही चीन (China) में रहकर पढ़ाई करते हैं. दो दिन पहले वे खाड़ी देश के लिए रवाना हो गए.

चीन से आए लोग 28 दिन घर पर ही रहें अलग
जयश्री ने को बताया, ‘‘हमने नियंत्रण कक्ष को इसकी सूचना दे दी है. हमारी निगरानी में रखे गए लोगों -खासतौर पर चीन से आए-से अनुरोध है कि लक्षण नहीं होने पर भी वे 28 दिनों तक घर में ही पृथक रहें.’’

राज्य की स्वास्थ्य मंत्री के के शैलजा (KK Shailaja) ने भी कहा कि जिन लोगों को निगरानी में रखा गया है वे सामाजिक गतिविधियों से दूरे रहे और उन्हें 28 दिनों तक किसी भी पारिवारिक समारोह में शामिल नहीं होना चाहिए या घर से बाहर नहीं जाना चाहिए.’’

केरल के तीनो स्टूडेंट वुहान यूनिवर्सिटी से
उल्लेखनीय है कि तीन छात्रों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि होने के बाद केरल सरकार ने सोमवार को ‘‘राज्य आपदा’’ की घोषणा की. जिन तीन छात्रों में कोरोना वायरस के संक्रमण की पुष्टि हुई है वे सभी वुहान विश्वविद्यालय (Wuhan University) के छात्र हैं.सूत्रों ने बताया कि कोझिकोड में 306 लोगों को उनके घर में ही निगरानी में रखा गया है जबकि चार लोगों को अस्पतालों में बनाए गए पृथक वार्ड में रखा गया है.

कुछ देशों से आने वाले यात्रियों की एयरो ब्रिज के इस्तेमाल से होगा स्क्रीनिंग
स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) ने मंगलवार को कहा कि घातक कोरोना वायरस के मद्देनजर सात अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों (दिल्‍ली, कोलकाता, मुम्‍बई, कोच्चि, बेंगलुरू, हैदराबाद तथा चेन्‍नई) में चीन, सिंगापुर, थाईलैंड तथा हांगकांग से आने वाले यात्रियों की ‘स्‍क्रीनिंग’ के लिए समर्पित द्वारों पर निर्धारित एयरो ब्रिज का इस्‍तेमाल किया जाएगा ताकि प्रभावी रूप से रोकथाम सुनिश्चित किया जा सके.

स्‍वास्‍थ्‍य और परिवार कल्‍याण सचिव प्रीति सूदन ने वीडियो कॉन्‍फ्रेंस के माध्‍यम से राज्‍यों के स्‍वास्‍थ्‍य सचिवों के साथ कोरोना वायरस की रोकथाम और प्रबंधन की तैयारियों की समीक्षा की.

81 हवाई अड्डों पर अभी तक 89,500 यात्रियों की स्क्रीनिंग
भारत में कोरोना वायरस के तीन मामले केरल से आए हैं. स्‍वास्‍थ्‍य और परिवार कल्‍याण सचिव ने बताया कि सभी 21 हवाई अड्डों, अंतरराष्ट्रीय बंदरगाहों (International Ports) तथा सीमा क्रॉसिंग पर यात्रियों की स्‍क्रीनिंग की जा रही है.

उन्होंने बताया कि अभी तक 81 हवाई अड्डों पर 777 विमानों तथा 89,500 यात्रियों की स्‍क्रीनिंग की गई है.

सूदन ने बताया कि 454 नमूनों की जांच की गई है जिसमें 451 नमूने नकारात्मक पाए गए हैं. तीन नमूने सकारात्मक पाए गए हैं. इसके अलावा 3935 यात्री 29 राज्‍यों/केन्‍द्र शासित प्रदेशों में सामुदायिक निगरानी में हैं.

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से जुड़े विदेश, नागर विमानन, पर्यटन तथा गृह मंत्रालय
वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हुई बैठक में राज्‍यों, केन्‍द्र शासित प्रदेशों के स्‍वास्‍थ्‍य सचिवों और शिपिंग, विदेश, नागर विमानन, पर्यटन तथा गृह मंत्रालय (Home Ministry) के वरिष्‍ठ अधिकारियों ने शिरकत की.

स्‍वास्‍थ्‍य और परिवार कल्‍याण सचिव ने बताया कि केन्‍द्रीय स्‍तर पर संबंधित मंत्रालयों के सहयोग से एहतियात के अनेक कदम उठाए गए हैं. उन्‍होंने बताया कि रोजाना स्थिति की निगरानी प्रधानमंत्री कार्यालय, केन्‍द्रीय स्‍वास्‍थ्‍य और परिवार कल्‍याण मंत्री तथा कैबिनेट सचिव द्वारा की जा रही है.

उन्होंने कहा कि ताजा स्थिति, तैयारी की स्थिति और उठाए गए कदमों की जानकारी से संबंधित निगरानी की जा रही है. उन्‍होंने पूरे विश्‍व में कोरोना वायरस के फैलने के मद्देनजर नए वीजा प्रतिबंधों (Visa Ban), परामर्शों को दोहराया. उन्‍होंने इस बारे में राज्‍यों से जागरूकता अभियान चलाने को कहा.

खांसी-जुकाम के बाद अलग रखे गए 5 लोगों की कोरोना जांच निगेटिव
खांसी और जुकाम के लक्षण दिखने के बाद सेना के बेस हॉस्पिटल भेजे गए पांच लोगों की कोरोना वायरस की जांच रिपोर्ट निगेटिव (Negative) आयी है. सेना के सूत्रों ने मंगलवार को यह जानकारी दी.

चीन के कोरोना वायरस प्रभावित हुबेई प्रांत (Hubei Province) से आए इन पांचों लोगों को वायरस के शुरुआती लक्षण दिखने के बाद सोमवार को राष्ट्रीय राजधानी में सेना के अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

एक अधिकारी ने कहा, 'सेना के डॉक्टरों और अधिकारियों की एक टीम इन छात्रों की दिक्कतों को जानने और उनका हौंसला बढ़ाने के लिये नियमित रूप से उनसे मुलाकात कर रही है. उन्हें वक्त बिताने के लिये टीवी, कैरम, ताश मुहैया कराए गए हैं.'

एम्स भेजे गए थे सैंपल
अधिकारी ने कहा, 'उनमें से अधिकतर वॉलीबॉल (Volleyball) खेल रहे हैं. कैंप के भीतर ही लॉड्री बनाई गई है. हर दूसरे दिन पूरे सेट को बदला जा रहा है. कपड़ों को हाइपोक्लोराइट में डुबोने के बाद गर्म पानी में धोकर धूप में सुखाया जा रहा है. कमरों में उच्च स्तर के कीटाणुनाशक और हाइपोक्लोराइट एसिड छिड़का जा रहा है. शौचालयों को साफ रखा जा रहा है और दिन में तीन बार डबल्यूएचओ से मंजूरी प्राप्त उच्च स्तरीय कीटाणुनाशक छिड़का जा रहा है.'

अधिकारी ने बताया कि मोबाइल शौचालयों को भी साफ रखा जा रहा है ताकि संक्रमण बाहर न जाए. चिकित्सकों के अनुसार कोरोना वायरस के लक्षण बुखार, सूखी खांसी से शुरू होते हैं, जिसके बाद सांस लेने में तकलीफ होती है.

अधिकारियों ने कहा कि पांचों लोगों के नमूने लेकर विभिन्न जांचों के लिये एम्स (AIIMS) भेज दिये गए थे. भारत में कोरोना वायरस के अब तक 3 मामले सामने आ चुके हैं.

अब तक कोरोना से हो चुकी हैं 361 मौतें
गौरतलब है कि शनिवार को 324 भारतीयों को वुहान से वापस लाया गया था जबकि 323 भारतीयों तथा मालदीव के सात नागरिकों (Citizens) को रविवार को वापस लाया गया.

चीनी सरकार (Chinese Government) के अधिकारियों के अनुसार कोरोना वायरस से चीन में 361 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि इसके 17,205 मामले सामने आ चुके हैं.

यह भी पढ़ें: केरल से क्यों मिल रहे कोरोना वायरस के मरीज, कैसी है बीमारी से लड़ने की तैयारी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 4, 2020, 10:39 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर