Assembly Banner 2021

मोबाइल, नोट और एटीएम कार्ड से 1 मिनट में खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस, दिल्ली यूनिवर्सिटी ने बनाई खास मशीन

भारत में एक बार फिर कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं.  (सांकेतिक तस्वीर)

भारत में एक बार फिर कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

COVID-19: इस मशीन के जरिए करेंसी नोट, ऑफिस फ़ाइल, ग्रोसरी आइटम, फल, सब्जी ,चश्मा, मास्क, हेल्थकेयर प्रोडक्ट्स, एटीएम कार्ड, पार्सल, बच्चों के खिलौनों और दूसरे साजो सामान को एक मिनट के अंदर डिसइनफेक्ट किया जा सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 13, 2021, 11:21 PM IST
  • Share this:
वैक्सीनेशन के बीच भारत में एक बार फिर कोरोना वायरस के मामलों में इजाफा हो रहा है. हालात इतने बेकाबू हो गए हैं कि कुछ जिलों में लॉकडाउन लगाना पड़ रहा है. महामारी के खतरे के बीच दिल्ली यूनिवर्सिटी के प्रतिष्ठित हिन्दू कॉलेज ने एक ऐसी खास मशीन बनाई है, जिसका इस्तेमाल करने से मोबाइल और अन्य डेकोरेटिव सामान के जरिए फैलने वाले कोरोना संक्रमण के खतरे से महज एक मिनट में निजात पाई जा सकती है.

हिन्दू कॉलेज के भौतिकी विभाग में असिस्टेंट प्रोफेसर डॉक्टर ललित कुमार ने इस अनोखी मशीन का निर्माण किया है. डॉक्टर ललित का दावा है कि घर में इस्तेमाल के लिए ये मशीन बेहद उपयोगी साबित हो सकती है. इसके जरिये करेंसी नोट, ऑफिस फ़ाइल, ग्रोसरी आइटम, फल, सब्जी ,चश्मा, मास्क, हेल्थकेयर प्रोडक्ट्स, एटीएम कार्ड, पार्सल, बच्चों के खिलौनों और दूसरे साजो सामान को एक मिनट के अंदर डिसइनफेक्ट किया जा सकता है.

डॉक्टर ललित के मुताबिक इस मशीन की कीमत 6000 रुपये से कम होगी




घर, ऑफिस और स्कूल में की जा सकती है इस्तेमाल
ललित कुमार ने बताया कि ये मशीन 20 लीटर और 40 लीटर की क्षमता में उपलब्ध है जो घर, ऑफिस और स्कूलों में आसानी के साथ इस्तेमाल की जा सकती है. इस मशीन की कीमत अभी तय नहीं की गई है, लेकिन डॉक्टर ललित के मुताबिक इसकी कीमत 6000 रुपये से कम होगी जो बाजार में उपलब्ध किसी भी अल्ट्रा वायलेट डिवाइस से सस्ती है.

ललित के मुताबिक ये मशीन एक टीम वर्क का परिणाम है जिसमें हिन्दू कॉलेज के रसायन विभाग की प्रोफेसर डॉक्टर रीना जैन, डॉक्टर अंजू श्रीवास्तव और IIT दिल्ली के अलुमुनि डॉक्टर उपदेश वर्मा भी शामिल हैं. मशीन का नाम यूवी ओमेगा है. ये मशीन एक्सपोज़र के एक मिनट के अंदर ही 99.9% बैक्टीरिया और वायरस को निष्क्रिय करने में सक्षम है. इस मशीन के जरूरी मानकों को DRDO के LASTEC यानि laser science and technology डिवीज़न ने प्रमाणित किया है.

ये भी पढ़ेंः- COVID-19: पुणे से लेकर औरंगाबाद तक महाराष्ट्र के कई शहरों में लगाई गई पाबंदियां- 10 खास बातें

इस मशीन में 254 नैनोमीटर वेबलेंग्थ के UV-C लैंप लगे है जो 360 डिग्री का एक्सपोजर देते हैं. साथ ही इसमे टाइमर, सुरक्षा स्विच और अलार्म भी लगाए गए हैं. कोविड-19 महामारी के इस दौर में ये मशीन मोबाईल और दूसरे सामानों से फैलने वाले संक्रमण से निजात दिलाने में मील का पत्थर साबित हो सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज