ऑक्सिजन की कमी से लेकर वेंटिलेटर में खराबी तक- कोरोना से निपटने गई केंद्रीय टीम को 3 राज्यों में मिलीं कई खामियां

कोरोना के चलते 3 राज्यों में हालात बिगड़ रहे हैं.

कोरोना के चलते 3 राज्यों में हालात बिगड़ रहे हैं.

Coronavirus in India: स्वास्थ्य मंत्रालय के आकड़ों के मुताबिक, देश में फिलहाल कोरोना संक्रमण के एक्टिव केसों की संख्या 11 लाख से ज्यादा है. ये अब तक का सबसे बड़ा आंकड़ा है. देशभर के 70.82 फीसदी एक्टिव केस पांच राज्य- महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश और केरल में हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 12, 2021, 7:09 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देशभर में कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण से हालात तेज़ी से बिगड़ रहे हैं. पिछले 24 घंटे के दौरान डेढ़ लाख से ज्यादा नए केस आए हैं. इस बीच केंद्र ने 3 राज्यों में कोरोना के हालात को लेकर राज्य सरकार को रेड अलर्ट जारी किया है. ये तीन राज्य हैं महाराष्ट्र, पंजाब और छत्तीसगढ़. केंद्र से भेजी गई टीम को यहां कई खामियां मिली. इन राज्यों में ऑक्सिजन सिलेंडर की कमी है. इसके अलावा यहां वेटिलेटर भी खराब पड़े हैं. साथ ही कोरोना से लड़ने के लिए यहां के अस्पतालों में बेहतर इंतजाम भी नहीं हैं. बता दें कि पिछले हफ्ते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कहने पर केंद्र से एक्सपर्ट की टीम भेजी गई थी.

स्वास्थ्य मंत्रालय के आकड़ों के मुताबिक, फिलहाल एक्टिव कोरोना केस की संख्या 11 लाख से ज्यादा है. ये अब तक का सबसे बड़ा आंकड़ा है. देशभर के 70.82 फीसदी एक्टिव केस पांच राज्य- महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश और केरल में हैं. अकेले महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 48.57% एक्टिव केस हैं. सबसे ज्यादा मरीजों की मौत भी महाराष्ट्र में हो रही है. इसके बाद छत्तीसगढ़ की बारी आती है. अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक केंद्र ने बिगड़ते हालात को लेकर राज्यों को चिट्ठी लिखी है. आईए एक नज़र डालते हैं कि केंद्र की टीम को इन राज्यों में क्या कमियां मिली...

>>महाराष्ट्र: यहां के तीन ज़िलों के हॉस्पिटल में मरीजों की भारी भीड़ है. इसके अलावा तीन ज़िलों में ऑक्सिजन सप्लाई की कमी है. दो ज़िलों मे वेंटिलेटर खराब हैं. अहमदनगर, औरंगाबाद, नागपुर और नंदुरबार में बहुत अधिक संख्या में मरीज अस्पताल में हैं.

>>पंजाब: यहां के दो जिलों में कोरोना के इलाज के लिए कोई अलग से हॉस्पिटल नहीं है. तीन ज़िलों में मेडिकल स्टाफ की कमी है. एक जिले में RTPCR टेस्ट के लिए कोई लैब नहीं है.




>>छत्तीसगढ़:
यहां के तीन जिलों में में RTPCR टेस्ट काफी कम हो रहे हैं. 4 ज़िलों में काफी बड़ी संख्या में मरीज़ हॉस्पिटल में भर्ती है. राजधानी रायपुर में ऑक्सिजन की सप्लाई सीमित है. बालोद, रायपुर, दुर्ग, और महासमुंद जिलों में अस्पताल के बेड भरे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज