कोरोना संक्रमण के मामलों में कमी, जानें किन राज्यों ने दी लॉकडाउन नियमों में ढील

देश में कोरोना संक्रमण के मामलों में लगातार कमी देखी जा रही है. फाइल फोटो

देश में कोरोना संक्रमण के मामलों में लगातार कमी देखी जा रही है. फाइल फोटो

Relaxation in State lockdowns: मुख्यमंत्री स्टालिन ने कहा कि प्रोविजन स्टोर सामान की बिक्री के लिए ऑनलाइन या फोन पर ऑर्डर ले सकते हैं और सुबह के सात बजे से शाम के 6 बजे तक डोर स्टेप डिलिवरी कर सकते हैं.

  • Share this:

नई दिल्ली. देश में कोरोना संक्रमण के गिरते मामलों के बीच कई राज्य सरकारों ने लॉकडाउन में ढील देने शुरू कर दी है. हालांकि ज्यादातर सरकारों का जोर है कि 'अनलॉक' की प्रक्रिया को चरणबद्ध तरीके से अंजाम दिया जाएगा, ताकि वायरस संक्रमण पर पूरी तरह नियंत्रण रखा जा सके. महाराष्ट्र के पुणे में कोरोना वायरस संक्रमण के नए मामले पिछले 5 दिनों से 3 हजार से कम हैं, और संक्रमण की दर भी 10 फीसदी के नीचे आ गई है. ऐसे में पुणे प्रशासन ने वीकेंड लॉकडाउन को हटाने का फैसला किया है. साथ ही आवश्यक सेवाओं और सामानों की दुकानों को वीकेंड पर सुबह 7 बजे से सुबह के 11 बजे तक खोलने की अनुमति दी है.

आवश्यक सेवाओं में ग्रॉसरी स्टोर, फल और सब्जी की दुकानें, डेयरी, बेकरी, मिठाई की दुकान के साथ अन्य सामान बेचने वाली दुकानें जैसे कि मांस, चिकन, अंडे और सीफूड बेचने वाली दुकानें. पुणे म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन ने चश्मे की दुकानों और बारिश से जुड़े सामान बेचने वाली दुकानों को भी आवश्यक वस्तुओं की दुकानों में शामिल किया है. इस कैटेगिरी में खेती से जुड़े सामान, जैसे कि बीज और खाद के साथ उपकरण बेचने वाली दुकानों को भी जोड़ा गया है.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ऐलान किया है कि राजधानी में अनलॉक की प्रक्रिया चरणबद्ध तरीके से चलेगी. बीते 19 अप्रैल से दिल्ली में लॉकडाउन है, जब केंद्रशासित प्रदेश में संक्रमण के मामलों की संख्या 28 हजार तक पहुंच गई थी और संक्रमण की दर 30 फीसदी थी. केजरीवाल ने दिल्ली में सबसे पहले कंस्ट्रक्शन काम काम शुरू करने और फैक्ट्रियों को खोलने की इजाजत दी है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि हर हफ्ते संक्रमण की स्थिति को देखते हुए लॉकडाउन में ढील दी जाएगी. दिल्ली में बीते 24 घंटे में वायरस संक्रमण के 900 नए मामले सामने आए हैं. कोरोना की दूसरी लहर में यह पहला मौका है, जब दिल्ली में कोरोना के नए मामलों की संख्या 1000 से कम हो गई है.
तमिलनाडु की एमके स्टालिन सरकार ने राज्य में लॉकडाउन को 7 जून तक बढ़ा दिया है, लेकिन कुछ ढील भी दी है. लॉकडाउन के पहले चरण में राज्य में राशन की दुकानों को बंद कर दिया गया था, लेकिन अब आवश्यक सामानों की बिक्री के लिए इन दुकानों को अनुमति दे दी गई है. लेकिन, सामान दुकान से नहीं बल्कि रेहड़ी या फिर गाड़ी में रखकर बेचा जा सकेगा. इसके लिए सुबह के 7 बजे से शाम के 6 बजे का वक्त निर्धारित किया गया है.

आवश्यक सामान बेचने के लिए स्थानीय प्रशासन की अनुमति जरूरी होगी. मुख्यमंत्री स्टालिन ने कहा कि प्रोविजन स्टोर सामान की बिक्री के लिए ऑनलाइन या फोन पर ऑर्डर ले सकते हैं और सुबह के सात बजे से शाम के 6 बजे तक डोर स्टेप डिलिवरी कर सकते हैं.

पश्चिम बंगाल सरकार ने भी कुछ छूट के साथ लॉकडाउन को 15 जून तक बढ़ा दिया है. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा, "हम नहीं चाहते कि राज्य की अर्थव्यवस्था को नुकसान हो, लिहाजा हमने कई सारी इंडस्ट्रीज को खोलने की अनुमति दी है." उन्होंने कहा कि हमने जूट इंडस्ट्री को 40 फीसदी कार्य क्षमता के साथ संचालन की अनुमति दी है, पहले 30 फीसदी कार्य क्षमता की अनुमति थी.



वहीं मध्य प्रदेश में 1 जून से अनलॉक की प्रक्रिया शुरू हो रही है. सरकार ने अनलॉक की नई गाइडलाइन सभी जिलों की क्राइसिस मैनेजमेंट समूहों को भेज दी है. इसके मुताबिक प्रदेश में किराना दुकानें खुल जाएंगी. स्कूल-कॉलेज, सिनेमा हॉल व शॉपिंग मॉल अभी बंद ही रहेंगे. प्रत्येक शनिवार रात 10 से सोमवार सुबह 6 बजे तक कर्फ्यू रहेगा.

सरकार ने 5% ज्यादा साप्ताहिक संक्रमण दर वाले और इससे कम संक्रमण दर वाले जिलों के लिए अलग-अलग गाइडलाइन जारी की है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज