• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • भारत में तेजी से फैल रहा है कोरोना के डेल्टा वेरिएंट से पैदा हुआ AY.4, जानें वैज्ञानिकों ने क्या कहा

भारत में तेजी से फैल रहा है कोरोना के डेल्टा वेरिएंट से पैदा हुआ AY.4, जानें वैज्ञानिकों ने क्या कहा

कोरोना वायरस के डेल्टा वेरिएंट से पैदा हुआ AY.4 तेजी से भारत में अपने पांव पसार रहा है. (फाइल फोटो)

कोरोना वायरस के डेल्टा वेरिएंट से पैदा हुआ AY.4 तेजी से भारत में अपने पांव पसार रहा है. (फाइल फोटो)

Coronavirus Delta Variant: अगस्त की रिपोर्ट को देखने पर पता चलता है कि जिन 308 नमूनों में से 111 (36%) में डेल्टा (B.1.617.2) पाया गया, जबकि 137 नमूनों (44%) में AY.4 उपस्थित था.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्ली. कोरोना वायरस का डेल्टा वेरिएंट अब भी महाराष्ट्र और भारत में इस महामारी के फैलने का सबसे बड़ा जरिया बना हुआ है, लेकिन इससे ही उत्पन्न इसके एक अंश AY.4 की मौजूदगी लगातार बढ़ रही है. हालांकि, वैज्ञानिकों का कहा कि कोविड चक्र में अभी यह पता लगाना जल्दबाजी होगी कि AY.4 चिंता का विषय है या नहीं.

    डेल्टा वेरिएंट का AY.4 वंश भारतीय कोविड-19 जीनोम निगरानी के तहत अप्रैल में महाराष्ट्र में किए गए परीक्षण के 1% नमूनों में पाया गया था. जुलाई में इसका अनुपात बढ़कर 2% और अगस्त में 44% हो गया. अगस्त की रिपोर्ट को करीब से देखने पर पता चलता है कि जिन 308 नमूनों का विश्लेषण किया गया उनमें से 111 (36%) में डेल्टा (B.1.617.2) पाया गया, जबकि 137 नमूनों (44%) में AY.4 उपस्थित था.

    तालिबान के सुप्रीम लीडर अखुंदजादा की हो गई मौत, बरादर को बना लिया बंधक- रिपोर्ट

    पूरे भारत के नजरिए से भी, AY.4 की उपस्थिति जून में परीक्षण किए गए सभी नमूनों में 5% से बढ़कर जुलाई में 8% और अगस्त में 45% हो गई. अंतिम भारतीय कोविड -19 जीनोम निगरानी रिपोर्ट में कहा गया है कि डेल्टा और डेल्टा उप-वंश (AY.4) वैश्विक स्तर पर चिंता का मुख्य रूप बने हुए हैं, AY.4 मुख्य वैश्विक उप-वंश है.

    बंगाल BJP के नए चीफ सुकांत बोले- गलतियां सुधारेंगे, राज्य के तालिबानीकरण के खिलाफ लड़ेंगे

    पिछले सप्ताह कस्तूरबा अस्पताल की प्रयोगशाला में पूरी की गई नवीनतम जीनोमिक अनुक्रमण श्रृंखला (Genomic Sequencing Series) में भी AY.4 सहित कई “डेल्टा डेरिवेटिव” की उपस्थिति दिखाई गई. एक सूत्र ने द टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया, “डेल्टा और उसके डेरिवेटिव, जिन्हें पहले डेल्टा प्लस कहा जाता था, को अभी तक अलग इकाई नहीं माना जाता है.”

    बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) के कार्यकारी स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मंगला गोमरे ने कहा कि डेल्टा डेरिवेटिव तेजी से फैल रहा है, “लेकिन अभी यह चिंता का विषय नहीं है.” बीएमसी टीम मरीजों की क्लिनिकल रिपोर्ट के साथ डेल्टा रिपोर्ट को एक-दूसरे से जोड़ने की प्रक्रिया में है ताकि यह पता लगाया जा सके कि क्या और कैसे वेरिएंट ने कोविड के लक्षणों और गंभीरता को बदल दिया है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज