Assembly Banner 2021

बेकाबू होते कोरोना मामलों के लेकर 11 राज्यों के स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ केंद्र की बैठक आज

डॉ हर्षवर्धन मंगलवार को राज्यों के साथ बैठक करेंगे (File Photo)

डॉ हर्षवर्धन मंगलवार को राज्यों के साथ बैठक करेंगे (File Photo)

Coronavirus in India: महाराष्ट्र में संक्रमण के सबसे ज्यादा 57,074 मामले आए जोकि कुल मामलों का 55.11 प्रतिशत है. इसके बाद छत्तीसगढ़ से 5252 और कर्नाटक से 4553 मामले आए.

  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन (Harsh Vardhan) मंगलवार को 11 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ बैठक कर कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) के मामलों में बढ़ोतरी की समीक्षा करेंगे. इन 11 राज्यों में महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, दिल्ली, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, झारखंड, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, पंजाब और राजस्थान हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) के मुताबिक महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, दिल्ली तमिलनाडु, मध्य प्रदेश और पंजाब में कोविड-19 के मामलों में तेज बढ़ोतरी हुई है और एक दिन में आए एक लाख से ज्यादा मामलों में इनकी भागीदारी 81.90 प्रतिशत है. महाराष्ट्र में संक्रमण के सबसे ज्यादा 57,074 मामले आए जो कि कुल मामलों का 55.11 प्रतिशत है. इसके बाद छत्तीसगढ़ से 5252 और कर्नाटक से 4553 मामले आए.

देश में उपचाराधीन मरीजों की संख्या भी बढ़कर 7,41,830 हो गयी है और यह कुल संक्रमितों का 5.89 प्रतिशत है. उपचाराधीन मामलों में 50,233 की बढ़ोतरी हुई. पांच राज्यों- महाराष्ट्र, कर्नाटक, छत्तीसगढ़, केरल और पंजाब का देश के कुल मामलों में 75.88 प्रतिशत योगदान है. उपचाराधीन मामलों में महाराष्ट्र की अकेले 58.23 प्रतिशत भागीदारी है. देश में पिछले 24 घंटे में 52,847 लोगों के स्वस्थ हो जाने से अब तक कुल 1,16,82,136 लोग ठीक हो चुके हैं. एक दिन में 478 लोगों की मौत के भी मामले सामने आए. इनमें आठ राज्यों का योगदान 84.52 प्रतिशत रहा. महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 222 लोगों की मौत हुई और पंजाब में 51 लोगों ने संक्रमण से दम तोड़ दिया.

Youtube Video




PM मोदी की उच्च स्तरीय बैठक
बता दें कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को कहा था कि कोविड-19 के ताजा संक्रमण के दौर से निपटने के लिए राज्यों को कड़े और व्यापक कदम उठाने होंगे. संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए उन्होंने पांच स्तरीय रणनीति टेस्टिंग, ट्रेसिंग, ट्रीटमेंट, कोविड व्यवहार और टीकाकरण को गंभीरता और प्रतिबद्धता से लागू करने का सुझाव दिया. ये सुझाव उन्होंने देश भर में कोविड-19 के बढ़ते मामलों के मद्देनजर रविवार को हुई एक उच्चस्तरीय समीक्षा बैठक के दौरान दिये. उन्होंने महामारी के सतत प्रबंधन और इस सिलसिले में सामाजिक जागरूकता बढ़ाने के साथ ही जन भागीदारी और जन आंदोलन जारी रखने की जरूरत पर भी बल दिया.

91 प्रतिशत से अधिक मामले 10 राज्यों से
इस समीक्षा बैठक में एक प्रस्तुति भी दी गई, जिसके मुताबिक देश में कुल संक्रमित मामलों में 91 प्रतिशत से अधिक की हिस्सेदारी 10 राज्यों की है और इन्हीं राज्यों में कोविड-19 से सर्वाधिक मौतें भी हुई हैं.

बाद में प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर कहा, ‘‘देश भर में कोविड-19 और इसके खिलाफ जारी टीकाकरण अभियान की वर्तमान स्थिति की समीक्षा की. इस वैश्विक महामारी से लड़ाई के प्रभावी तरीके के रूप में टेस्टिंग, ट्रेसिंग, ट्रीटमेंट, कोविड से बचाव संबंधी सावधानियों और टीकाकरण की पांच स्तरीय रणनीति के महत्व को दोहराया.’’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज