17 अप्रैल से 18 मई... 1 लाख से ज्यादा लोगों को लील गई कोरोना की दूसरी लहर

अगर संक्रमण के कुल मामलों की बात करें तो देश 2 करोड़ 54 लाख 57 हजार 976 मामले हैं. वहीं 2,78,719 लोगों की मौत हुई है. फाइल फोटो

अगर संक्रमण के कुल मामलों की बात करें तो देश 2 करोड़ 54 लाख 57 हजार 976 मामले हैं. वहीं 2,78,719 लोगों की मौत हुई है. फाइल फोटो

Health Ministry on Covid-19: मंत्रालय ने कहा कि भारत में कुल आबादी के दो फीसदी से कम लोग अभी तक कोविड-19 से प्रभावित हुए हैं और 98 फीसदी आबादी अब भी संक्रमण की चपेट में आ सकती है.

  • Share this:

नई दिल्ली. देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर में लाखों लोग काल के गाल में समा गए हैं. संक्रमण के प्रकोप का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि मध्य अप्रैल से मध्य मई के बीच 1 लाख से ज्यादा लोगों की मौत दर्ज की गई है. कोविड से जुड़े डाटा संकलित करने वाली वेबसाइट worldometers के आंकड़ों के मुताबिक 17 अप्रैल से 17 मई के बीच कोविड संक्रमण से मौत का आंकड़ा 1 लाख को पार कर गया है. वेबसाइट के मुताबिक 17 अप्रैल 2021 को देश में कोविड से मरने वालों की कुल संख्या 1,77,168 थी, वहीं स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक 18 मई की शाम तक देश में कोरोना से मरने वालों की कुल संख्या 2,78,719 है. इस तरह देखें तो 1 महीने के भीतर कोरोना की दूसरी लहर के चलते 1 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हुई है.

बता दें कि worldometers ने अपने आंकड़ों के लिए स्वास्थ्य मिनिस्ट्री की वेबसाइट का हवाला दिया है. देश में 16 मई को 4,092 लोगों की मौत हुई थी, जबकि 17 मई को मरने रिकॉर्ड 4,340 लोगों की मौत दर्ज की गई. 18 मई को मरने वालों की संख्या में कमी दर्ज की गई और आंकड़ा 3,796 का रहा. पिछले एक महीने में देश में संक्रमण के चलते मृत्यु दर को देखें तो 17 अप्रैल को मृत्यु दर 1.36 प्रतिशत थी. वहीं 17 मई को मृत्यु दर 1.27 फीसदी दर्ज की गई है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक देश में कोरोना वायरस संक्रमण के एक्टिव मामलों की संख्या 33,53,765 है, जबकि इलाज पाकर संक्रमण से ठीक हुए लोगों की संख्या 2 करोड़ 15 लाख से ज्यादा हो गई है. अगर संक्रमण के कुल मामलों की बात करें तो देश 2 करोड़ 54 लाख 57 हजार 976 मामले हैं. वहीं 2,78,719 लोगों की मौत हुई है.

मंत्रालय ने कहा कि भारत में कुल आबादी के दो फीसदी से कम लोग अभी तक कोविड-19 से प्रभावित हुए हैं और 98 फीसदी आबादी अब भी संक्रमण की चपेट में आ सकती है. नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) वी के पॉल ने कहा कि कई राज्यों में महामारी का ग्राफ स्थिर हो रहा है. स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा, ‘‘अभी तक सामने आई संक्रमण की इतनी अधिक संख्या के बावजूद हम दो फीसदी से कम आबादी तक इसे सीमित रखने में सफल हुए हैं.’’ सरकार ने कहा कि भारत की कुल आबादी का 1.8 फीसदी ही कोविड-19 से प्रभावित हुआ है और 98 फीसदी आबादी अब भी संक्रमण की चपेट में आ सकती है.

सरकार ने कहा कि पिछले 15 दिनों में उपचाराधीन मामलों की संख्या में लगातार कमी आ रही है. इसने कहा कि तीन मई को संक्रमण की दर 17.13 फीसदी थी, जो अब घटकर 13.3 फीसदी रह गई है. वहीं, आठ राज्यों में कोविड-19 के एक लाख से अधिक मामले हैं और 22 राज्यों में संक्रमण की दर 15 फीसदी से अधिक है. सरकार ने कहा कि महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, बिहार, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में कोविड-19 के मामलों में कमी आई है और संक्रमण दर भी कम हुई है. इसने बताया कि 199 जिलों में कोविड-19 के मामलों और संक्रमण दर में पिछले दो हफ्ते में कमी आई है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज