Coronavirus: IISC ने देसी तकनीक से तैयार की RT-PCR किट, 100% सटीक नतीजे देगी

देश में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं. सांकेतिक फोटो.
देश में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं. सांकेतिक फोटो.

भारतीय विज्ञान संस्थान (IISC) के मुताबिक इस किट की मदद से दो घंटे के अंदर कोरोना वायरस (Coronavirus) बिल्कुल सटीक नतीजों का पता चल जाता है. अभी तक बाजार में जिन RTPCR किट इस्तेमाल किया जा रहा है उससे रिपोर्ट आने में तीन से चार घंटे का वक्त लग जाता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 1, 2020, 3:54 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में तेजी से बढ़ते कोरोना (Corona) संक्रमण के मामलों के बीच भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) ने जांच की संख्या को और बढ़ाने की बात कही है. इसी बीच भारतीय विज्ञान संस्थान (IISC) ने कोविड 19 का पता लगाने वाली RT-PCR किट तैयार का दावा किया है. IISC की ओर से दावा किया गया है कि ये किट पूरी तरह से देसी तकनीक से तैयार की गई है और इसके नतीजे 100 फीसदी सही आते हैं. IISC के मुताबिक इस किट की मदद से दो घंटे के अंदर बिल्कुल सटीक नतीजों का पता चल जाता है. अभी तक बाजार में जिन RTPCR किट इस्तेमाल किया जा रहा है, उससे रिपोर्ट आने में तीन से चार घंटे का वक्त लग जाता है.

IISC बेंगलुरु की देखरेख में ग्लोबल टीएम डाग्नोस्टिक किट को तैयार किया गया है. वैज्ञानिकों का दावा है कि ये अन्य किसी भी किट से कम समय में कोरोना का पता लगा सकती है. इस किट के आने के बाद विदेशों से किट मंगवाने की जरूरत नहीं होगी. इस किट को बनाने वाले वैज्ञानिक प्रोफेसर उतपल टाटू का दावा है कि इससे किए गए RT-PCR टेस्ट 100 फीसदी सही नतीजे देते हैं.

डिपार्टमेंट ऑफ बायो केमिस्ट्री के प्रोफेसर उतपल टाटू ने बताया कि हमारी टीम ने ​जो कोरोना टेस्ट किट तैयार की है उससे 100 फसदी सही नतीजे हासिल किए जा सकते हैं. इस किट की खास बात ये है कि इसमें गलती की कोई संभावना नहीं है. बता दें कि प्रोफेसर टाटू पिछले दो दशक से इस तरह के रिसर्च में शामिल रहे हैं.
इसे भी पढ़ें : Coronavirus: 24 घंटे में मिले कोरोना के 86821 नए मरीज, 1181 मौतें, कुल केस 63 लाख के पार





मौजूदा किट से 30 प्रतिशत तक सस्ती है IISC की किट
प्रोफेसर उतपल टाटू ने कहा कि हमारी बनाई किट को IMCR की मान्यता मिल गई है. हमारी कोशिश है कि कोरोना का पता लगाने के लिए हमारी किट को जल्द से जल्द उपयोग में लाया जाए. उन्होंने कहा कि ये किट पूरी तरह से देसी तकनीक पर आधारित है, इसलिए ये किट मौजूदा किट से 30 प्रतिशत तक सस्ती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज